हाथी को ना जाने क्‍यों आया गुस्‍सा

उस रोज घर से निकल जाते हुए बांदा के खैरेई गांव के रहने वाले 60 साल के नंदन ने सोचा भी नहीं होगा कि मौत रास्‍ते में उसका इंतजार कर रही है। ना कोई एक्‍सीडेंट, ना कोई लड़ाई झगड़ा पर, फिर भी नंदन को एक हादसे में दर्दनाक मौत मिली। उसका कसूर बस इतना था कि वह एक मस्‍ती से जा रहे हाथी के रास्‍ते में आ गया। हाथी को भी जाने क्‍या सूझा उसने नंदन को सूंड़ में लपेटा और जमीन पर पटक दिया, जिससे उसकी मौत हो गई। 

क्‍या था मामला 

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार उन्‍होंने एक वृद्ध को सूंड़ से उठाकर जमीन पर पटककर मार डालने के मामले में एक महावत और उसकी मादा हाथी लक्ष्मी को हिरासत में लिया है। उनका कहना है कि हाथी ने नंदन को उस समय सूंड़ से लपेटकर जमीन पर पटक दिया था, और उसके बाद जंगल की ओर चला गया, जब नंदन अपने मवेशियों को चराने जंगल की ओर जा रहा था। मेडिकल कालेज में इलाज के दौरान उसने दम तोड़ दिया था। फिल्‍हाल शव को पोस्‍टमार्टम के लिए भेजा गया है और छतरपुर (मध्य प्रदेश) के बीड़नपुर निवासी महावत करन और उसके मादा हाथी लक्ष्मी को हिरासत में ले लिया गया है। 

भारी पड़ रही है हाथी की हिरासत   

बहरहाल मामले की जांच के बाद क्‍या होता है तो पता ही चल जायेगा पर इस बीच हाथी को हिरासत में रखना पुलिस को खासा भारी पड़ रहा है। हाथी को पुलिस भूसा-आटा मिलाकर खिला रही है। यह हाथी पुलिस के गले की फांस बना हुआ है। पुलिसकर्मियों को उसे खिलाने के लिए भूसा और आटा जुटाने में खासी मशक्‍कत करनी पड़ रही है। उन्‍होंने आसपास के लोगों से भी उसे खिलाने के लिए व्‍यवस्‍था करने के लिए कह रखा है। इस बीच थाना प्रभारी का कहना है कि तहरीर आने पर कार्रवाई होगी।

 

Posted By: Molly Seth