कैसे बनते हैं नकली अंडे

चीन में नकली अंडों का कारोबार खूब फलफूल रहा है। इन्हें बनाने की एक विशेष तकनीक है। आइये जानें कैसे तैयार होते हैं एेस अंडे। पहले जानते हैं बाहरी सफेद आवरण के बारे में जिसे जिप्सम के चूर्ण, कैल्सियम कार्बोनेट और तेल युक्त मोम की सहायता से तैयार किया जाता है। इसके बाद अंदरूनी भाग का नंबर आता है। अंडे के अंदर का पीले रंग का हिस्सा योक कहलाता है। इस हिस्से को बनाने के लिये जिलेटिन, सोडियम एल्गिनाइट, एल्यूम और कैल्सियम की जरूरत होती है। ध्यान रखा जाता कि कैल्सियम की मात्रा उतनी ही हो जितनी एक मनुष्य खा सकता है। फिर खा सकने योग्य रंगों के प्रयोग से इसे ठीक वैसी ही शक्ल दी जाती है जैसी असली अंडों की होती है।

जाने बनाने की प्रक्रिया 

अब पहले चरण में गुनगुने पानी में उचित मात्रा में सोडियम एल्गिनाइट मिलाया जाता है। उसके बाद जिलेटिन, बेंजोइक अम्ल, एल्यूम और कुछ दूसरे रसायनों के साथ मिलाकर अंडे का सफेद हिस्सा तैयार किया जाता है। इसके बाद तैयार किये गये मिश्रण में नींबू का रंग मिला दिया जाता है। अंत में इस मिश्रण में कैल्सियम क्लोराइड डाल कर उसे अंडों के आकार में ढ़ाल दिया जाता है। लीजिए तैयार हो गया आपका नकली अंडा।   

Posted By: Molly Seth