प्रयागराज, जेएनएन। सुरक्षा व यातायात व्यवस्था की कमान संभालने वाले प्रांतीय रक्षक दल (पीआरडी) के जवान अब 'द्रोणाचार्य'  यानी Sports Coach की भी भूमिका निभाएंगे। वे ग्रामीण अंचल में स्थापित हो रहे मिनी स्टेडियमों में खिलाड़ियों को विभिन्न खेलों में पारंगत करेंगे।

सभी स्टेडियम में एक अतिरिक्त पीआरडी जवान की तैनाती का शासन का निर्देश

केंद्र व प्रदेश की सरकार ग्रामीण अंचल में खेलकूद को बढ़ावा देने के लिए लगातार प्रयास कर रही है। केंद्र सरकार जहां खेलो इंडिया के तहत मिनी स्टेडियमों का निर्माण करा रहा है, वहीं प्रदेश सरकार मुख्यमंत्री योजना के तहत प्रतापगढ़ में खेलो इंडिया के तहत पट्टी, देवसरा, बेलखरनाथ धाम ब्लाक व मुख्यमंत्री योजना से शिवगढ़ ब्लाक में मिनी स्टेडियम का निर्माण कार्य शुरू कराया गया था। पट्टी ब्लाक में ढिढुई व शिवगढ़ ब्लाक में नजियापुर का मिनी स्टेडियम बनकर तैयार है।

प्रतापगढ़ की ही तरह प्रयागराज, कौशांबी, जौनपुर, वाराणसी, अमेठी, लखनऊ, रायबरेली सहित 43 जनपद में मिनी स्टेडियम तैयार हैं। वैसे तो स्टेडियम की रखवाली के लिए तीन-तीन पीआरडी के जवान मुस्तैद रहेंगे। इसके अलावा एक-एक अतिरिक्त पीआरडी के जवान भी तैनात किए जाएंगे, यह जवान ग्रामीण प्रतिभाओं को खेलों में निपुण करेंगे। इस संबंध में प्रांतीय रक्षक दल एवं युवा कल्याण की महानिदेशक डिंपल वर्मा ने सूबे के सभी डीओ पीआरडी को पत्र भेजकर निर्देश दिया है। मिनी स्टेडियम के लिए ऐसा अतिरिक्त पीआरडी का जवान तैनात करें, जो ग्रामीण खेलकूद में हनुरमंद हो। साथ ही उसे कंप्यूटर का भी ज्ञान हो, ताकि खिलाड़ियों के ब्योरे को भी वह कंप्यूटर में संकलित कर सके।

इनका यह है कहना

ढिढुई व नजियापुर का स्टेडियम बनकर तैयार है। अभी जब तक खेल प्रशिक्षक नियुक्त नहीं हो जाएंगे, तब तक एक-एक पीआरडी के जवानों को मिनी स्टेडियम में तैनात किया जाएगा।यह जवान ग्रामीण प्रतिभाओं को खेलों में दक्ष करेंगे।

-अरुण कुमार सिंह, जिला युवा कल्याण अधिकारी


जानिए नंबर गेम

-809 कुल पीआरडी के जवान

-700 हैं पुरुषों जवानों की संख्या

-109 हैं महिला पीआरडी जवान

-475 जवानों को ही प्रति महीने मिल पाती है ड्यूटी

-395 रुपये प्रति महीने है एक जवान का मानदेय

Edited By: Ankur Tripathi