जागरण संवाददाता, करनाल : हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण की ओर से पानी-सीवर जमा न करने वाले 500 डिफाल्टरों को नोटिस जारी कर दिए गए हैं। खास पहलू यह है कि उपभोक्ताओं को केवल एक दिन में इतने नोटिस दिए गए हैं। शहर के सेक्टरों में धार्मिक स्थल, धर्मशालाएं, लीज प्रापर्टी सहित घरों में पांच हजार डिफाल्टरों की सूची तैयार की गई है। हशविप्रा के अधिकारियों के अनुसार शहर के डिफाल्टरों पर 3.50 करोड़ रुपये बकाया हैं, जिसकी वसूली के लिए सख्त कदम उठाए जाएंगे।

----बाक्स----

पांच हजार से सात लाख रुपये तक बकाया

हशविप्रा के अंतर्गत रिहायशी क्षेत्रों में वर्षों से पानी-सीवर के बिल जमा नहीं करवाए गए हैं। स्थानीय अधिकारियों से जब मुख्यालय ने रिपोर्ट मांगी तो आंकड़े हैरान करने वाले थे। पांच हजार डिफाल्टरों में ऐसे भी संस्थान हैं जिन पर पानी-सीवर का पांच हजार रुपये लेकर सात लाख रुपये बकाया है। अगर विभाग की ओर से समय-सीमा में बकाया जमा नहीं करवाया जाता है तो जुर्माने लगाने की भी बात की जा रही है। आसान नहीं बकाया वसूलना, हाथ-पांव फूले

हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण के अंतर्गत लगभग 16 हजार पानी-सीवर कनेक्शन बताए जा रहे हैं। इनमें अधिकतर नियमों का पालन करते हुए रुटीन अपने बिलों का भुगतान कर रहे हैं। जब कि कुछ ऐसे भी हैं जो वर्षों से राशि जमा करवाने में दिलचस्पी नहीं ले रहे हैं। डिफाल्टरों में कुछ अपनी पहुंच के चलते हाथ पीछे खींच कर बैठे हैं। इस तरह के लोगों से अधिकारियों की ओर से राशि वसूलना आसान नहीं होगा। विभाग की अंदूरी स्थिति को देखें तो कर्मचारियों का टोटा साफ देखा जा सकता है। वर्षों से बकायादारों पर कार्रवाई क्यों नहीं..

अधिवक्ता नाथीराम ने बताया कि सेक्टरों में रहने वाले अधिकतर लोग नियमों का पालन करते हुए समय से पानी-सीवर बिल जमा करवा रहे हैं। इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि विभाग के अधिकारियों के पास लंबे समय से बकाया राशि जमा न करवाने वालों का आंकड़ा न हो। अब अचानक इस तरह की कार्रवाई समझ से परे हैं। जो लोग वर्षों से पानी-सीवर बिल जमा नहीं करवा रहे ऐसे लोगों पर हशविप्रा की ओर से क्या कार्रवाई की गई। या फिर उन लोगों को जानबूझकर नजर अंदाज किया गया। बकाया राशि जमा न करवाने पर काटे जा रहे कनेक्शन

प्राधिकरण के एक्सईएन धर्मबीर ने बताया कि विभाग की ओर से पानी-सीवर बिल की बकाया राशि के लिए वसूली की जा रही है। इसके चलते बुधवार को 500 डिफाल्टरों को नोटिस थमाए गए हैं। शहर के सभी सेक्टरों में लगभग पांच हजार ऐसे लोग हैं, जिन पर पांच हजार रुपये से लेकर सात लाख रुपये बकाया है। सेक्टर-12, 13, 14 से नोटिस जारी करने की मुहिम शुरू की गई है। उन्होंने बताया कि उपभोक्ता आनलाइन या फिर सेक्टर-12 कार्यालय परिसर में स्थापित बैंक में भी राशि जमा करवा सकते हैं। नोटिस के अनुसार एक सप्ताह का समय दिया गया है। इसके अलावा लंबे समय से डिफाल्टरों के पानी-सीवर कनेक्शन भी काटने शुरू कर दिए गए हैं। अगर समयावधि में बिल जमा नहीं किया जाता है तो जुर्माने के साथ-साथ बनती कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Jagran