मातृभूमि की आन, बान और शान की रक्षा करने के लिए हमेशा रहें तत्पर : दुबे

जागरण संवाददाता, गढ़वा: अवधराज देवी ट्रस्ट द्वारा संचालित एआरडी पब्लिक स्कूल में बड़े ही धूमधाम से स्वतंत्रता दिवस के रूप में आजादी का अमृत महोत्सव मनाया गया। इस अवसर पर विद्यालय के फाउंडर अवधराज देवी की ओर से प्रातः 10:05 बजे विद्यालय में ध्वजारोहण किया गया। मौके पर उपस्थित विद्यालय के निदेशक पी के दुबे ने कहा कि किसी भी परिस्थिति में हमें अपने अंदर देशभक्ति की जज्बा को कम नही होने देना है। हमें अपनी मातृभूमि की आन, बान और शान की रक्षा करने के लिए हमेशा तत्पर रहना चाहिए। क्योंकि इसके लिए कितने माताओं की गोद सुनी हुई, कितने स्त्रियों की माथे की सिंदूर धूल गयी और कितने बहनों की भाई बलिवेदी पर चढ गए हैं। विद्यालय की प्राचार्या अणिमा पांडेय ने स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं देते हुए इसके महत्व पर विस्तार से प्रकाश डाला। इस अवसर पर विद्यालय के छात्रों द्वारा विभिन्न देशभक्ति कार्यक्रमों की प्रस्तुति की गई। कार्यक्रम का उद्घाटन विद्यालय के निदेशक पी के दुबे, अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन के प्रदेश महासचिव डा. सीबी मिश्रा तथा छत्तरपुर पंचायत के पूर्व मुखिया मुजीबुर्रहमान द्वारा संयुक्त रूप से दीप जलाकर किया गया। अतिथियों के स्वागत में सोनी एंड ग्रुप द्वारा स्वागत गान की प्रस्तुति की गई। दामिनी एंड ग्रुप द्वारा इतनी सी हंसी इतनी सी खुशी के नृत्य से कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। जबकि देव, दिव्यम एंड ग्रुप द्वारा जय हो पर नृत्य की प्रस्तुति ने उपस्थित लोगों के रोम रोम में देशभक्ति की भावना को जागृत कर दिया। जबकि दीक्षा एंड ग्रुप द्वारा देश मेरे आबाद रहे तू पर नृत्य की प्रस्तुति ने उपस्थित लोगों को इंकलाब जिंदाबाद का नारा लगाने पर मजबूर कर दिया। माल्या एंड ग्रुप द्वारा तेरी मिट्टी में मिल जावा पर नृत्य की प्रस्तुति से लोग देशभक्ति की भावना में झूम उठे। संजना एंड ग्रुप द्वारा मेड इन इंडिया, सोनी एंड ग्रुप द्वारा ये देश है वीर जवानों का तथा इशरातू एंड ग्रुप द्वारा जिस देश मे गंगा रहता है पर नृत्य ने उपस्थित जन समूहों को तालियां बजाने पर मजबूर कर दिया। जबकि विद्यालय की प्रधानाचार्या अणिमा पांडेय के द्वारा हर करम अपना करेंगे, शिक्षिका प्रतिमा विश्वकर्मा के द्वारा जिंदगी से जंग जीत लेंगे हम, संध्या एंड ग्रुप के द्वारा राधा कैसे न जले, तथा अमिषा एंड ग्रुप द्वारा दिलबरों की प्रस्तुति ने लोगों को अंत तक बंधे रखा। कार्यक्रम का संचालन शिक्षिका प्रतिमा विश्वकर्मा एवम आदर्श कुमार तिवारी द्वारा किया गया। जबकि धन्यवाद ज्ञापन शिक्षक प्रवीण कुमार ने की।

Edited By: Jagran