रांची। वर्तमान समय में वैक्‍सीन को लेकर कई लोग भ्रम की स्थिति में हैं। ऐसे लोगों से निवेदन है कि उन्‍हें जो वैक्‍सीन आसानी से मिल रही है, उसे लगवा लें। किसी खास वैक्‍सीन के चक्‍कर में न पड़ें। अभी हम सबका प्रयास यही होना चाहिए कि खुद को और अपने आसपास के लोगों को वैक्‍सीन लगवाएं। यह कहना है कि मेडिका अस्‍पताल के वाइस चेयरमैन डॉक्‍टर संजय कुमार का।

डॉक्‍टर संजय सोमवार को जागरण न्यू मीडिया की फैक्ट चेकिंग यूनिट विश्वास न्यूज की ओर से 'सच के साथी-वैक्‍सीन के लिए हां' मीडिया साक्षरता कार्यक्रम में प्रतिभागियों से रूबरू हो रहे थे। उन्‍होंने विश्‍वास न्‍यूज की वेबिनार में बताया कि कोई भी वैक्‍सीन हो, थोड़ा-बहुत साइड इफेक्‍ट करती ही है। यदि बुखार या कोई दूसरे लक्षण आएं तो घबराने की बात नहीं है। यदि ऐसे लक्षण नहीं भी दिखें, तब भी चिंता न करें। सकारात्‍मक रहते हुए भविष्‍य की ओर देखें। हर शरीर पर वैक्‍सीन अलग-अलग प्रकार से प्रभाव डालती है।

झारखंड टेक्निकल यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रोफेसर प्रदीप कुमार मिश्र ने दर्शकों से रूबरू होते हुए कहा कि वैक्‍सीन के साथ ही साथ सामाजिक दूरी और मास्‍क ही कोविड से बचा सकता है। उन्होंने कहा कि यह हम सबको मिलकर प्रयास करना चाहिए कि लोग वैक्‍सीन के प्रति जागरूक हों। हमें न केवल फेक न्‍यूज को रोकना है, बल्कि खुद को कोविड से बचाने के लिए वैक्‍सीन के दोनों डोज भी लेने हैं।

दयानंद मेडिकल कॉलेज के डॉक्टर विवेक गुप्ता ने कहा कि लोगों को यह भ्रम है कि वर्तमान वैक्‍सीन कोरोना के म्‍यूटेशन पर कारगर नहीं होगा, जबकि ऐसा नहीं है। यह पूरी तरह फर्जी बात है। म्‍यूटेशन के बाद भी वैक्‍सीन कारगार है। इसकी चिंता न करें। वैक्‍सीन लेने के बाद भी कोविड-19 से बचाव के दिशानिर्देशों का जरूर पालन करें। उन्होंने कहा कि मास्क पहनने को अनिवार्य नियम बनाना चाहिए। वैक्‍सीन, सामाजिक दूरी और मास्‍क ही कोरोना से हमें बचा सकता है।

गौरतलब है कि देशभर में वैक्‍सीनेशन को बढ़ावा देने के लिए विश्‍वास न्‍यूज एक खास मीडिया साक्षरता अभियान चला रहा है। इसी के तहत सोमवार को रांची के नागरिकों के लिए एक वेबिनार का आयोजन किया गया। वैक्‍सीन से जुड़े भ्रम को दूर करने और वैक्‍सीनेशन को बढ़ावा देने के लिए मीडिया साक्षरता कार्यक्रम में स्वास्थ्य सेवा के विशेषज्ञों के अलावा फैक्ट चेकर्स ने दर्शकों को महामारी के दौरान गलत सूचनाओं की पहचान और उससे बचाव के तरीकों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। इसके साथ ही फेक न्यूज की पहचान के तरीकों और ऑनलाइन टूल्स के बारे में जानकारी दी गई।

आईएफसीएन वैक्सीन ग्रांट प्रोग्राम के तहत विश्‍वास न्‍यूज देश के 12 बड़े शहरों के लिए 'सच के साथी, वैक्‍सीन के लिए हां' ऑनलाइन कार्यक्रम आयोजित कर रहा है। कानपुर, वाराणसी, गोरखपुर, मेरठ, आगरा, पटना, मुजफ्फरपुर, रांची, जमशेदपुर, इंदौर और भोपाल के नागरिकों के लिए भी ऐसे ही वेबिनार का आयोजन किया जा रहा है। अगली वेबिनार 16 जुलाई को जमशेदपुर के नागरिकों के लिए होगी। दर्शक विश्‍वास न्‍यूज की वेबसाइट पर जाकर अपना रजिस्‍ट्रेशन करवा सकते हैं।

Edited By: Arun Kumar Singh