अहमदाबाद, जागरण संवाददाता। प्रधानमंत्री बनते ही नरेंद्र मोदी ने अपनी विशेष कार्यशैली में काम करना शुरू कर दिया है। चुनावी अभियान के दौरान मोदी जिस साबरमती नदी के विकास का दावा करते थे अब दिल्ली की यमुना नदी को भी साबरमती की तरह स्वच्छ और सुंदर बनाने की योजना पर काम शुरू कर दिया है।

साबरमती रिवरफ्रंट का अध्ययन करने एक केंद्रीय टीम आजकल अहमदाबाद आई हुई है। दिल्ली के उपराज्यपाल नजीब जंग की प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात के बाद केंद्रीय जल बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी विजय कुमार के नेतृत्व में 13 सदस्यीय टीम साबरमती रिवरफ्रंट परियोजना का अध्ययन कर रही है। पिछले दो दिन से टीम के सदस्य साबरमती पर बने रिवरफ्रंट, उद्यान व अंडरपास आदि के निर्माण के साथ साबरमती की सफाई, जलभराव आदि का अध्ययन कर रहे हैं। गौरतलब है कि साबरमती कभी देश की सबसे गंदी नदियों में से एक थी , लेकिन अब यह राजधानी दिल्ली के लिए मॉडल रिवर साबित हो रही है।

दिल्ली से आई यह टीम साबरमती के अलावा यहां के गुर्जरी बाजार का भी अध्ययन करेगी। साबरमती पर लगने वाले खुले बाजार को सुसंगठित रूप में गुर्जरी बाजार के रूप में विकसित किया गया है जहां गुजरात के हर जिले में बनने वाली हस्तकला व दस्तकारी के अलावा अन्य घरेलू उत्पादों की बिक्री होती है। इसके अलावा दस सदस्यीय एक टीम गांधीनगर में सोलर एनर्जी के अध्ययन के लिए भी पहुंची है।

पढ़ें: गंगा के साथ क्या सुधरेंगे यमुना के दिन

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस