नई दिल्ली, जेएनएन। आम चुनाव सर पर आते देख सरकार ने राज्यों पर खास असर डालने वाली औद्योगिक परियोजनाओं की रफ्तार भी तेज करने का सख्त निर्देश सार्वजनिक उपक्रमों को दे दिया है। यही वजह है कि गेल इंडिया लिमिटेड ने बरौनी से गुवाहाटी तक गैस पाइपलाइन बिछाये जाने वाली परियोजना को लेकर ज्यादा तेजी दिखानी शुरु कर दी है।

देश के पूर्वोत्तर राज्यों को राष्ट्रीय गैस ग्रिड से जोड़ने वाली इस परियोजना में इस्तेमाल होने वाले 1100 करोड़ रुपये की स्टील की खरीद कर ली गई है। पीएम नरेंद्र मोदी की तरफ से घोषित ऊर्जा गंगा पाइपलाइन परियोजना का यह अहम हिस्सा होगा जो देश के एक बड़े हिस्से में औद्योगिक गतिविधियों को बेहद तेज कर सकता है। स्टील खरीद के बाद कंपनी का कहना है कि इस पर दिसंबर, 2018 से काम शुरु हो जाएगा।

सनद रहे कि प्रधानमंत्री ऊर्जा गंगा योजना की कुल लंबाई 3400 किलोमीटर होगी जो जगदीशपुर-हल्दिया-बोकारो-धामरा को मुख्य तौर पर जोड़ेगा। इसके लिए 729 किलोमीटर लंबी फीडर लाइन पूर्वोत्तर राज्यों के लिए जोड़ी जाएगी। इससे बिहार, उड़ीसा और पश्चिम बंगाल को भी काफी लाभ होगा।

इस योजना के तहत आगे गैस पाइपलाइन को उत्तर बिहार तक और फिर उसके आगे नेपाल तक ले जाने की तैयारी है। बता दें कि गेल इंडिया लिमिटेड 28 हजार करोड़ रुपये की लागत से कुल 5500 किलोमीटर लंबी गैस पाइपलाइन स्थापित कर रही है।

Posted By: Tanisk