नई दिल्ली (जेएनएन)। गुजरात के सूरत में रहने वाली 23 साल की महिला बाइकर मित्सु चावड़ा ने आज गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की। मित्यु राष्ट्रव्यापी सोलो बाइक ट्रिप 'राइड फॉर सोल्जर्स' नाम की एक मुहिम चला रही है। मित्यु अपने इस मिशन में मध्य में हैं। उनका उद्देश्य 120 राज्यों से गुजरते हुए 17,000 किलोमीटर का सफर तय करना है।

लोगों का हर जगह मिला सहयोग: मित्सु

23 वर्षीय महिला सोलो बाइक राइडर मित्सु चावड़ा ने 26 नवंबर, 2017 को सूरत से अपनी इस राष्ट्रव्यापी मिशन की शुरुआत की थी। यह यात्रा युद्ध में घायल सैनिकों के लिए जागरूकता पैदा करने के लिए शुरू की गई। उनके अपने दो सैनिक दोस्तों से इसकी प्रेरणा मिली थी, जो युद्ध के मैदान में दुश्मनों से लोह लेते हुए गंभीर रूप से घायल हो गए थे। अब तक की अपनी यात्रा के बारे में बात करते हुए मित्सु ने दावा किया कि सरकार ने महिला राइडर्स के लिए भारत को सुरक्षित बनाया है। उन्होंने कहा कि मैं बहुत भाग्यशाली हूं कि मैं जहां भी गईं लोगों का समर्थन मिला।

उन्होंने कहा, 'यह मेरे लिए गर्व की भावना है कि मैंने हमारे सैनिकों के लिए इस मिशन को आगे बढ़ाया। मेरी यात्रा अभी तक बहुत सुरक्षित और फ्रेंडली रही है। जहां भी मैंने यात्रा की, लोगों ने मुझसे संपर्क किया और पूछा कि क्या मुझे किसी तरह की भी मदद की जरूरत है? यहां तक कि जब मेरा जीपीएस काम नहीं कर रहा था, मुझे कोई समस्या नहीं आई क्योंकि स्थानीय लोग मेरी मदद के लिए आगे आए। मेरा विश्वास है कि महिलाओं अब सुरक्षित है और यह सरकार के प्रयासों के कारण ही संभव हो पाया है।'

गृहमंत्री ने मित्सु के प्रयासों का सराहा 

 

इस बीच गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट कर युवा महिला बाइकर के प्रयासों की सराहना की है। उन्होंने कहा, ' मैं मित्सु चावड़ा से मिला, जो भारत के 102 शहरों की बाइक यात्रा पर निकली हैं। उनका लक्ष्य लोगों के बीच यह जागरुकता फैलाना है कि किन-किन मुश्किलों से युद्ध में घायल जवानों को गुजरना पड़ता है। मैं उसके प्रयासों की सराहना करता हूं और उनके मिशन के लिए सफलता चाहता हूं।'

बता दें कि मित्सु अब तक 11, 000 किलोमीटर की यात्रा तय कर चुकी हैं। बता दें कि अपनी यात्रा के दौरान मित्यु स्कूलों, कॉलेजों, क्लबों के दौरे करती हैं और लोगों को संबोधित करते हुए युद्ध में घायल सैनिकों के त्याग और समर्पण की याद दिलाती हैं। वे लोगों को शपथ दिलवाती हैं कि वो कभी युद्ध में घायल सैनिकों का निरादर नहीं करेंगे। मित्यु का कहना है कि वे अपने 25वें जन्मदिन पर चाहती हैं कि कम से कम देश के 25,000 लोगों के बीच सैनिकों के बारे में जागरूकता पैदा कर सकें।

यह भी पढ़ें: आज गुजरात में होंगे इजरायली पीएम नेतन्‍याहू, साथ रहेंगे पीएम मोदी

 

Posted By: Nancy Bajpai