नई दिल्ली, जेएनएन। महाराष्ट्र, कर्नाटक, केरल और गुजरात में बाढ़ के हालात गंभीर बने हुए हैं। इन राज्यों में अब तक लगभग 169 लोगों की जान जा चुकी है और 10 लाख से अधिक लोग राहत शिविरों में शरण लिए हुए हैं। एनडीआरएफ समेत अन्य सुरक्षा बलों की 123 टीमें तैनात की गई हैं। गुजरात के मोरबी जिले में सुरक्षाकर्मियों ने एक स्कूल में फंसे 17 बच्चों समेत 42 लोगों को सुरक्षित निकाला।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कर्नाटक और महाराष्ट्र के बाढ़ प्रभावित जिलों का हवाई सर्वे किया। जबकि, कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने केरल में बाढ़ से बिगड़े हालात का जायजा लिया। गुजरात के मोरबी जिले के कल्याणपुर गांव में 17 बच्चों समेत 42 लोगों को पुलिसकर्मियों ने स्थानीय लोगों की मदद से सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया।

समाचार एजेंसी के एएनआइ के मुताबिक एनडीआरएफ की टीम ने कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय से छह शिक्षिकाओं और 47 बच्चों को सुरक्षित बचाया है। सिपाही पृथ्वीराज सिंह जडेजा ने तो दो बच्चों को अपने कंधे पर बिठाकर बाढ़ के पानी से पार निकालना। पृथ्वीराज सिंह जडेजा की हर तरफ सराहना हो रही है। बच्चों को कंधे पर बिठाए जडेजा का वीडियो वायरल होने पर मुख्यमंत्री विजय रूपानी ने भी उन्हें फोन किया और उनकी सराहना की।

कर्नाटक में बाढ़ से बिगड़े हालात
गृह अमित शाह ने रविवार को बेलगावी जिले का हवाई सर्वे किया। मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा भी उनके साथ थे। राज्य के बेलगावी, बगलकोट, विजयपुरा, गडग, उत्तर कन्नड, रायचुर, यादगिर, दक्षिण कन्नड, उडुपी, चिकमगलुर व कोडागु जिले बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। मरने वालों की संख्या 31 हो गई है। 14 लोग लापता हैं। 3.14 लाख लोगों को सुरक्षित निकाला गया है। इनमें से 2.18 लोग 924 राहत शिविरों में शरण लिए हैं। मुख्यमंत्री ने मृतकों के परिजनों को पांच लाख रुपये की मदद की घोषणा की है।

महाराष्ट्र में 10 जिले प्रभावित
महाराष्ट्र में कोल्हापुर, सांगली, सतारा, ठाणे, पुणे, नासिक, पालघर, रत्नागिरी, रायगढ़ और सिंधूदुर्ग जिले पिछले एक हफ्ते से जारी भारी बारिश के चलते बाढ़ से जूझ रहे हैं। यहां मरने वालों की संख्या 30 से अधिक पहुंच गई है। चार लाख से ज्यादा लोगों को सुरक्षित पहुंचाया गया है। रविवार को गृह मंत्री अमित शाह ने कोल्हापुर और सांगली जिलों का हवाई सर्वे किया। मुख्यमंत्री ने उन्हें हालात की जानकारी दी।

केरल में 67 की मौत, 2.27 लाख लोग राहत शिविरों में
केरल में भी हालात गंभीर हैं। 67 लोगों की मौत हो गई है और 2.27 लाख लोग 1551 राहत शिविरों में रह रहे हैं। मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने रविवार को वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक की। आठ अगस्त को भूस्खलन में मालाप्पुरम का कवलप्पारा गांव दब गया। 65 लोग दब गए हैं। 11 लोगों के शव अब तक निकाले गए हैं।

राहुल गांधी बाढ़ पीड़ितों से मिले
बाढ़ का जायजा लेने कांग्रेस नेता राहुल गांधी केरल पहुंचे हैं। उनका संसदीय क्षेत्र वायनाडु सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है। उन्होंने राहत शिविरों में वायनाड के बाढ़ प्रभावितों का हाल जाना। वह कवलप्पारा भी गए।

बाढ़ के बीच महिलाओं ने नौसैनिकों को राखी बांधी
बाढ़ प्रभावित कोल्हापुर में महिलाओं ने सुरक्षित निकालने वाले नौसेना के जवानों को राखी बांध कर आभार जताया। ये महिलाएं राजापुर गांव में फंस गई थी। नौसेना के जवानों ने उन्हें सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया। जिसके बाद महिलाओं ने जवानों को राखी बांधी। नौसेना के प्रवक्ता ने राखी बांधती महिलाओं की तस्वीरें ट्विटर पर शेयर की हैं।

कर्नाटक में सैनिक परिवार को सुरक्षित निकाला
नौसेना के अधिकारियों की टीम ने जिले के चंदूर गांव में फंसे सेना के जवान के परिवार को तीन घंटे की मशक्कत के बाद सुरक्षित निकाला गया। इस अभियान में नौसेनाकर्मियों को उफनती कृष्णा नदी, गन्ने के खेत, कंटीले तार की घेराबंदी और बिजली के खंबों से होते हुए लगभग 20 किलोमीटर का सफर तय करना पड़ा। टीम ने परिवार के आठ सदस्यों को सुरक्षित निकाला। इन लोगों में तीन बुजुर्ग और लगवाग्रस्त व्यक्ति भी शामिल था। परिवार के सदस्य गांव के स्कूल में शरण लिए थे।

रेलवे ने तीन राज्यों में मालभाड़ा माफ किया
रेलवे ने कर्नाटक, महाराष्ट्र और केरल के लिए भेजे जानी वाली राहत सामग्री को भाड़े से छूट दे दी है। रेलवे बोर्ड के डिप्टी डायरेक्टर (ट्रैफिक कॉमर्सियल) महेंद्र सिंह ने कहा कि सरकारी संगठन मालगाड़ी और पार्सल वैन से देश के किसी भी हिस्से से इन तीनों राज्यों के लिए राहत सामग्री भेज सकेंगे।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sanjeev Tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप