जेएनएन, नई दिल्ली। कई दिनों की रिकॉर्ड तोड़ गर्मी ने बुधवार को भी लोगों को बेहाल किए रखा। हालांकि गुरुवार शाम या रात से मौसम में हल्का बदलाव देखने को मिलेगा। पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव से आंशिक तौर पर बादल छाए रहेंगे। शुक्रवार से रविवार तक हल्की बारिश के भी आसार हैं। करीब सप्ताह भर तक तापमान में भी गिरावट बनी रहेगी। राजधानी दिल्ली में बुधवार सुबह सूरज के निकलने के साथ ही धूप में तल्खी आने लगी थी। दिन चढ़ने के साथ-साथ तो मानो आग ही बरसने लगी। पालम में अधिकतम तापमान 47.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। हवा में नमी का स्तर अधिकतम 47 और न्यूनतम 14 फीसद रिकॉर्ड किया गया।

स्काईमेट वेदर के मुख्य मौसम विज्ञानी महेश पलावत के अनुसार पश्चिमी पाकिस्तान और राजस्थान की ओर से चक्रवाती हवा चल रही है। पूर्वी हवा भी जारी है। इन दोनों के मिलने और पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव से ही मौसम में हल्का बदलाव की स्थिति बन रही है। गुरुवार को आंशिक रूप से बादल छाए रहेंगे। दिन में कहीं-कहीं लू चलेगी जबकि शाम या रात के समय 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से धूल भरी झोंकेदार हवा चलने के आसार हैं। अधिकतम व न्यूनतम तापमान क्रमश: 44 और 29 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना है। पलावत के अनुसार इसके बाद तीन दिन हल्की बारिश होने की संभावना बनी रहेगी। इस दौरान सप्ताह भर तक अधिकतम तापमान 40 जबकि न्यूनतम तापमान 28 डिग्री सेल्सियस से नीचे रहेगा।

पंजाब के बठिंडा में गर्मी का बीस साल पुराना रिकॉर्ड टूट गया। यहां अधिकतम तापमान 47.5 डिग्री दर्ज किया गया। 20 साल पहले अधिकतम तापमान 47.2 डिग्री तक पहुंचा था। पंजाब के कई शहरों में भी तापमान 44 डिग्री से ऊपर चल रहा है। हिमाचल प्रदेश के विभिन्न जिलों में बुधवार को हल्की बारिश हुई, लेकिन उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में गर्मी ने परेशान किया, लेकिन शाम के समय अधिकांश क्षेत्रों में तेज हवाओं के साथ बौछारें पड़ी, जिससे गर्मी से कुछ राहत महसूस की गई। गुरुवार को पहाड़ों पर ओलावृष्टि और मैदानी इलाकों में गर्जन के साथ ही 60 से 70 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं।

यूपी को मिल सकती है राहत, होगी झमाझम बारिश

मौसम विभाग का ताजा अनुमान उत्तर प्रदेश के 16 शहरों के लिए राहत भरी खबर लेकर आया है।अनुमान जाहिर किया गया है कि 16 जिलों में अचानक मौसम पलट गया है या तो पलटेगा। यूपी के कई जिले भयंकर गर्मी से जूझ रहे हैं। यूपी में अब तक का सबसे गर्म शहर प्रयागराज रहा वहीं बुंदलेखंड में पारा 48 डिग्री तक पहुंच गया। मौसम विभाग के अनुमान के मुताबिक मथुरा, आगरा, हाथरस, एटा, फिरोजाबाद, मैनपुरी, कन्नौज, इटावा और औरैया में शाम 6 बजे तक आंधी और हल्की बारिश की संभावना है।

राजधानी दिल्ली का पालम इलाका सबसे गर्म

बुधवार को राजधानी दिल्ली के पालम में पारा 47.6 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया। वहीं पूरी दिल्ली का तापमान 45.9 और आयानगर का पारा 46.7 रहा। पूरी दोपहर गर्म हवा चलती रही। शाम को हल्के बादल भी नजर आए लेकिन गर्मी में फिर भी कोई राहत नहीं मिली।

बंगाल में राहत की बारिश

आज पश्चिम बंगाल के कोलकाता के कुछ हिस्सों में बारिश हुई। भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने भविष्यवाणी की थी कि बादलों के गर्जन और बिजली के साथ, हवा की गति के साथ 50-60 किमी प्रति घंटा और हल्की से थोड़ा ज्यादा बारिश हो सकती है।

हरियाणा में तेज धूप और गर्म हवाओं से जीना दूभर

हरियाणा और पंजाब में बुधवार को भी लू का कहर जारी रहा। वहींए दोनों राज्यों में सबसे अधिक तापमान 47.2 डिग्री सेल्सियस नारनौल में दर्ज किया गया। मौसम विज्ञान विभाग ने बताया कि नारनौल में अधिकतम तापमान सामान्य से छह डिग्री अधिक दर्ज किया गया। वहींए हरियाणा के हिसार में अधिकतम तापमान सामान्य से चार डिग्री अधिक 46.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। जबकि अंबाला में अधिकतम तापमान 43.8 डिग्री सेल्सियस, करनाल में 42.8 डिग्री सेल्सियस रहा।

गर्मी से झुलस रहा राजस्थान, 49.6 रहा पारा

राजस्थान के ज्यादातर इलाके लू यानी गर्म हवाओं की चपेट में हैं जहां बुधवार को चुरू में अधिकतम तापमान 49.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। बुधवार को पारा 50.0 डिग्री सेल्सियस था।राज्य के बाकी हिस्सों में भी जोरदार गर्मी व लू पड़ रही है। बीकानेर में अधिकतम तापमान 48.0 डिग्री सेल्सियस, श्रीगंगानगर में 48.9 डिग्री, कोटा में 47.2 डिग्री, जैसलमेर में 46.1 डिग्री, बाड़मेर 45.9 डिग्री, जयपुर में 44.8 डिग्री, अजमेर में 44.0 डिग्री व जोधपुर में 42.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।मौसम विभाग के अनुसार अगले चौबीस घंटों में भी राज्य के जोधपुर, बीकानेर, जयपुर, अजमेर, भरतपुर व कोटा संभाग के कुछेक स्थानों पर तीव्र लू (हीट वेव) तथा काफी स्थानों पर लू चलने के आसार हैं।

पंजाब में तेज हवाएं चल सकती हैं

पंजाब के पटियाला में भी गर्मी का कहर जारी रहा। यहां अधिकतम तामपान 44.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। अमृतसर और लुधियाना में तापमान क्रमश: 43.5 और 44.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। दोनों राज्यों की संयुक्त राजधानी चंडीगढ़ में तापमान सामान्य से चार डिग्री अधिक 42.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विज्ञान विभाग ने 28 और 31 मई को कुछ स्थानों पर गरज के साथ छींटे पड़ने और 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से धूल भरी आंधी चलने की संभावना जतायी है। जबकि 29 ओर 30 मई को दोनों राज्यों में बिजली कड़कने और 40 से 50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलने का पूर्वानुमान व्यक्त किया है।

इन राज्यों में बारिश का अनुमान

मौसम विभाग की ओर से जारी की गई रिपोर्ट के मुताबिक पश्चिम बंगाल, सिक्किम, बिहार, झारखंड, असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, जम्मू कश्मीर लद्दाख, हिमांचल प्रदेश, ओडिशा, तेलंगाना और अरुणांच प्रदेश में बारिश होने के असार हैं।

पश्चिमी विक्षोभ के कारण 28 से 30 मई को तापमान में आ सकती है गिरावट 

मौसम विभाग के अनुसार उत्तर भारत के कई हिस्सों में वेस्टर्न डिस्टरबेंस (पश्चिमी विक्षोभ) के कारण 28 से 30 मई को तापमान में गिरावट आ सकती है। इस दौरान कई जगहों पर धूलभरी आंधी के आसार हैं। बता दें कि पश्चिमी विक्षोभ मेडिटेरेनियन सागर में चक्रवातों की वजह से पैदा होता है और गर्म हवाओं के मध्य एशिया से गुजरने के बाद यह हिमालय की बर्फीली चोटियों से टकराती हैं, जिससे पहाड़ी और मैदानी इलाकों में बारिश की स्थितियां पैदा होती हैं।

आईएमडी ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में मानसून आगे बढ़ा है। लेकिन उत्तर-पश्चिम में सूखी हवाओं के कारण उत्तर-पश्चिम और मध्य भारत में तापमान कई जगह बढ़ सकता है। खासकर पश्चिमी राजस्थान और विदर्भ में हालात काफी खराब हो सकते हैं। इसके अलावा हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, पूर्वी राजस्थान और बिहार, पंजाब, झारखंड, ओडिशा के कुछ इलाकों में भारी गर्मी के आसार हैं।

नॉर्थईस्ट में बाढ़ जैसे हालात, रेड अलर्ट घोषित

जहां एक तरफ पूरे उत्तर भारत में गर्मी का प्रकोप है। वहीं, नॉर्थईस्ट में लोगों को चक्रवाती तूफान और बाढ़ जैसी स्थितियों से दो-चार होना पड़ रहा है। असम में भारी बारिश की वजह से कई जगहों पर बाढ़ की स्थिति पैदा हो गई है। यहां का कामरूप जिला बाढ़ से सबसे ज्यादा प्रभावित है। वहीं मेघालय में चक्रवाती तूफान से रेड अलर्ट घोषित हो गया है। पिछले 36 घंटे में स्थितियां बद्तर हुई हैं। अब तक 21 गांवों और 1493 लोगों पर तूफान का असर हुआ है। ऐसे में राज्य में हाई-अलर्ट घोषित किया गया है।

5 जून को केरल में दस्तक दे सकता है मानसून

भारतीय मौसम विभाग ने कहा है कि मॉनसून केरल तट चार-पांच दिन देर से पहुंचने वाला है और यह 5 जून तक केरल में दस्तक दे सकता है और फिर धीरे-धीरे देश के पूरे हिस्से में पहुंचेगा।

मुंबई में मॉनसून कब पहुंचेगा?

मौसम विभाग के अनुसार, मुंबई में मॉनसून 15 से 20 जून के बीच दस्तक देगा। तबतक मुंबई वालों को उमस वाली गर्मी झेलनी पड़ेगी।

मध्य प्रदेश में कब बारिश?

मध्य प्रदेश में भी गर्मी से लोग बेहाल हैं। खजुराहों में मंगलवार को सबसे ज्यादा 47 डिग्री पारा दर्ज किया गया, जबकि ग्वालियर में यह 44 डिग्री रहा। मॉनसून की बात करें तो मध्य प्रदेश में 15 से 20 जून के बीच इसके पहुंचने का अनुमान। छत्तीसगढ़ में भी मॉनसून 15 से 20 जून के बीच दस्तक दे सकता है।

देश में सामान्य रहेगा मॉनसून

मौसम विभाग ने इस बार देश में सामान्य मॉनसून की भविष्यवाणी की है। IMD के अनुसार, मॉनसून अब 20 मई के बजाए 22 मई को अरब सागर में पहुंचेगा। पिछले साल 20 मई तक मॉनसून हवाएं पहुंच गई थीं हालांकि बाद में वह एक सप्ताह तक वहीं रुकी रहीं और देश में मॉनसून में देरी हुई थी।

महाराष्ट्र और मध्य भारत में रहेगा गर्मी का सितम

मौसम विभाग के वैज्ञानिक राजेंद्र कुमार जेनामणि ने बातया कि अच्छी बात ये है 28 मई से उत्तर में पूर्वी हवाएं चलने वाली है। उसके बाद भीषण गर्मी का कहर कम होना शुरू हो जाएगी और 29 से उत्तरी भारत के इलाकों को राहत मिलेगी जबकि मध्य भारत, महाराष्ट्र के आंतरिक इलाकों में गर्मी का असर लंबे समय तक जारी रहेगी।

Posted By: Sanjeev Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस