नयी दिल्ली, एजेंसी। उत्तर भारत के कई भागों में बुधवार को हल्की से मध्यम बारिश हुई जबकि मुंबईवासियों को करीब सप्ताह भर से जारी बारिश के बाद धूप दिखाई दी। इस बीच, हिमाचल प्रदेश के अधिकांश हिस्सों में बारिश के बाद मौसम विभाग ने बुधवार को शिमला, सोलन तथा नजदीकी इलाकों में भूस्खलन की चेतावनी जारी की है। मौसम विभाग ने बताया कि राज्य के ज्यादातर हिस्सों में बारिश जारी रहेगी।वहीं, राष्ट्रीय राजधानी में छिटपुट बारिश और बादल छाए रहने से पारे में गिरावट देखी गई।शहर के मौसम संबंधित आंकड़े देने वाली सफदरजंग वेधशाला ने अधिकतम तापमान 36 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जोकि सामान्य से कुछ कम रहा।

मौसम विभाग के मुताबिक अगले 2 घंटों के दौरान महेंद्रगढ़, बावल, होडल, बरसाना, डेग, भरतपुर, आगरा, मथुरा, हाथरस, अलीगढ़, टूंडला, फिरोजाबाद, और गंजडुंडवारा के आसपास के क्षेत्रों में गरज के साथ बारिश होगी।

इन राज्यों में भारी बारिश की संभावना

मौसम विभाग के मुताबिक उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, पंजाब के उत्तरी हिस्सों, उत्तर प्रदेश, बिहार, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम और पूर्वोत्तर राज्यों में 5 दिनों के दौरान भारी बारिश होने की संभावना है। 11 और 12 तारीख को उत्तराखंड और पश्चिम उत्तर प्रदेश में अलग-थलग स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है। पूर्वी उत्तर प्रदेश में 10 और 11 तारीख को तेज बारिश हो सकती है। बिहार; उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम, असम और मेघालय अरुणाचल प्रदेश और 9 से 11 जुलाई के दौरान भारी बारिश की संभावना है।

 छत्तीसगढ़ के रायपुर में हो रही भारी बारिश

वहीं छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर व आसपास के जिलों में भारी बारिश हो रही है। मौसम विभाग के मुताबिक राज्य में 2 दिन तक हल्की से मध्यम बारिश की संभावना है।

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा कि दिल्ली में आने वाले दो दिन में हल्की से मध्यम बारिश और इसके बाद रविवार तक हल्की बारिश होने की संभावना है। उधर, शिमला के मौसम विभाग केंद्र के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि शिमला, सोलन तथा नजदीकी इलाकों में भूस्खलन की आशंका है। मौसम विभाग केंद्र का अनुमान है कि राज्य में 13 जुलाई तक बारिश जारी रहेगी। वहीं, मौसम विभाग के मुताबिक, पूर्वी उत्तर प्रदेश के कई भागों और पश्चिम में कुछ स्थानों में हल्की से मध्यम बारिश दर्ज की गई। इसके मुताबिक, राज्य के दूर-दराज के क्षेत्रों में भारी बारिश और आंधी दर्ज की गई। विभाग ने बृहस्पतिवार को पूर्वी उत्तर प्रदेश के सुदूरवर्ती स्थानों में भारी से काफी भारी बारिश की संभावना जताई है जबकि प्रदेश के पश्चिमी हिस्सों में भारी बारिश का पूर्वानुमान है। इसी तरह, शुक्रवार और शनिवार को भी उत्तर प्रदेश के पूर्वी और पश्चिमी भागों में बारिश और आंधी की संभावना है।

वहीं, राजस्थान के कई हिस्सों में छिटपुट बारिश जबकि सुदूरवर्ती इलाकों में भारी बारिश दर्ज की गयी। मौसम विभाग के अनुसार , बीते चौबीस घंटे में बुधवार सुबह तक सबसे अधिक बारिश जयपुर में ,74 मिमी दर्ज की गयी। इसी तरह भरतपुर के उच्छैन व रूपवास, उदयपुर के भींडर में क्रमश: 54 मिमी, 49 मिमी, व 45 मिमी बारिश हुई। वहीं प्रतापगढ़ के पीपलखूंट में 29 मिमी बारिश हुई। कई और जगहों पर भी हल्की से मध्यम बारिश हुई है। विभाग के अनुसार, राज्य में अगले 48 घंटे भी बारिश का दौर जारी रहेगा।

बिहार में भारी बारिश का रेड अलर्ट जारी किया गया

उत्तर और मध्य बिहार के जिलों के लिए गुरुवार से रविवार तक मौसम के लिहाज से सतर्क रहने का दिन है। इन चार दिनों में नेपाल के तराई वाले क्षेत्रों में अत्यधिक बारिश का रेड अलर्ट जारी किया है। इस दौरान अधिकतर जिलों में वज्रपात भी हो सकता है, इसलिए जान-माल के नुकसान की आशंका है। वहीं पटना में शुक्रवार को भारी बारिश का रेड अलर्ट जारी किया गया है।

मौसम विभाग के अनुसार पश्चिम चंपारण, पूर्वी चंपारण, गोपालगंज, सीवान, शिवहर, सीतामढ़ी, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर, सारण, मधुबनी, सुपौल, अररिया, सहरसा, मधेपुरा, पूर्णिया, किशनगंज और कटिहार में जबरदस्त बारिश होगी। विभाग ने चतावनी जारी करते हुए कहा है कि बारिश के समय बिजली चमकने और गड़गड़ाहट की आवाज हो तो घर से बाहर न निकलें। संभव हो तो पक्के मकान में शरण लें।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस