नई दिल्ली, एएनआइ। इस समय पूरा देश गर्मी की मार झेल रहा है। गर्मी लगातार अपना कहर बरपा रही है। तापमान में लगातार हो रही बढ़ोतरी से लोग परेशान है। दिन हो रात लोग सिर्फ अच्छे-सुहाने मौसम की तलाश में हैं, जिससे की उन्हें इस भीषण गर्मी से निजात मिल सकें। बताया गया कि इस बार देश में मानसून 7 जुलाई के बाद पहुंच जाएगा। वहीं, अब नई अपडेट के अनुसार, अगले 24 घंटों के भीतर देश में दस्तक देगा मानसून।

भारत मौसम विज्ञान विभाग ने बताया कि अगले 24 घंटों में मानसून के केरल पहुंचने की संभावना है। बता दें कि बुधवार को 'स्काईमेट' के वरिष्ठ वैज्ञानिक समर चौधरी ने भी बताया था कि अगले 48 घंटों के भीतर केरल में मानसून पहुंच सकता है। हालांकि, उन्होंने यह भी बताया था कि इस साल मानसून कमजोर रहेगा। अल नीनो और ग्लोबल वॉर्मिग की वजह से इस साल मानसून कमजोर रहने की उम्मीद जताई गई थी।

वहीं, मौसम विभाग ने नागालैंड, छत्तीसगढ़, मिजोरम, त्रिपुरा, असम, मेघालय और केरल में अगले 72 घंटे के दौरान भारी बारिश का अनुमान लगाया है। साथ ही, उत्तर भारत के कई इलाकों में चल रही गर्म हवाओं (लू) से भी अगले कुछ दिनों में राहत मिलने की उम्मीद जताई है।

केरल में रेड एलर्ट
मौसब विभाग ने बताया था कि जल्द केरल में मानसून पहुंचेगा, लेकिन इस बीच राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने राज्य के कई हिस्सों में अलर्ट जारी कर दिया है। केरल राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण(KSDMA) ने 10 जून को त्रिशूर और 11 जून को एर्नाकुलम, मलप्पुरम और कोझिकोड के लिए भारी बारिश की चेतावनी जारी की है।

पिछले साल की तबाही अभी कौन भूला होगा जब केरल केे लिए पूरी दुनिया ने प्राथना की थी। बता दें कि गत वर्ष भी केरल केे कई राज्यों में रेड अलर्ट जारी किया गया था। 2018 में केरल सदी के सबसे भीषण बाढ़ की चपेट में आ गया था। इस आपदा में ना जाने कितने लोगों ने अपनी जान गंवा दी और कितने लोग बेघर हो गए थे।  

दिल्ली-NCR को भी जल्द राहत मिलने के आसार
बताया गया कि दिल्ली और आसपास के क्षेत्रों में मानसून पहुंचने की सामान्य तिथियां जून के आखिरी हफ्ते में पड़ती हैं। लेकिन इस बार यह करीब 10-15 दिन की देरी से यहां पहुंचेगा। वैज्ञानिक के अनुसार, उम्मीद है कि मानसून की बारिश करीब 93 प्रतिशत रहेगी जो औसत से कम है।

मालूम हो कि भारतीय मौसम विभाग 96 से 104 प्रतिशत बारिश को औसत या सामान्य मानता है। इसकी गणना वह जून से प्रारंभ होने वाले चार महीनों में पिछले 50 साल की औसत 89 सेंटीमीटर बारिश से करता है।

राजस्थान, मध्य प्रदेश और विदर्भ में गर्मी बढ़ेगी
गुरुवार को मौसम विभाग ने जानकारी दी थी कि आने वाले 3 से 4 दिनों में राजस्थान, मध्य प्रदेश और विदर्भ में गर्मी की स्थिति और भी गंभीर होने की संभावना है। बुधवार को मध्यप्रदेश के Nowgong में 47.9°C का अधिकतम तापमान दर्ज किया गया। मौसम विभाग के मुताबिक, तापमान 50 के पार जाने की संभावनाएं है।

हालांकि, आगे तापमान में फिर से वृद्धि हो, लेकिन इस समय देश के कई हिस्सों में भीषण गर्मी पड़ रही है और कुछ हिस्सों में तो पारा 50 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है। ऐसे में मानसून की दस्तक लोगों के लिए किसी बड़ी राहत से कम नहीं होगी।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Nitin Arora