भोपाल, जेएनएन। देश के विभिन्न स्थानों पर बने चार सिस्टम से मध्य प्रदेश में अच्छी बरसात का सिलसिला शुरू हो गया है। मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक बंगाल की खाड़ी में बना कम दबाव का क्षेत्र आगे बढ़कर ओडिशा और उससे लगे झारखंड पर सक्रिय हो गया है। मानसून ट्रफ भी ग्वालियर से होकर गुजर रहा है।

उत्तर-पश्चिम मप्र और उससे लगे उत्तरी राजस्थान पर ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। इसके अतिरिक्त उत्तरी राजस्थान से एक ट्रफ पूर्वी राजस्थान, दक्षिणी हरियाणा, उत्तर-पश्चिम मप्र, उत्तरी छत्तीसगढ़ से होकर झारखंड पर बने कम दबाव के क्षेत्र तक बना हुआ है।

वरिष्ठ मौसम विज्ञानी उदय सरवटे ने बताया कि इन चार सिस्टम के कारण पूरे मप्र में अच्छी बरसात का दौर शुरू हो गया है। बंगाल की खाड़ी में 31 जुलाई को एक और कम दबाव का क्षेत्र बनने के संकेत मिले हैं। इस नए सिस्टम से प्रदेश में सक्रिय मानसून को लगातार ऊर्जा मिलने का सिलसिला बना रहेगा। इससे अगस्त के पहले सप्ताह में प्रदेश में अच्छी बरसात होने की उम्मीद है।

12 घंटे में साढ़े आठ इंच बारिश
- मंदसौर के मल्हारगढ़ में 12 घंटे में साढ़े आठ इंच बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया। निचली बस्तियों में 30 से अधिक मकानों और दुकानों में पानी भर गया। तीन कच्चे मकान धराशायी हो गए। 10 से अधिक मवेशियों की मौत हो गई।

- श्योपुर में शुक्रवार रात से शनिवार दोपहर यानी 12 घंटे में 40 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई। लगातार बारिश से नदियां उफान पर हैं। खातौली पुल दूसरे दिन भी डूबा रहा, जिससे श्योपुर का कोटा से संपर्क कटा हुआ है। सरारी नदी में उफान के कारण नैरोगेज ट्रेन का पुल शुक्रवार से ही डूबा हुआ है।

गिरधरपुर-खोजीपुरा रेलवे स्टेशन के पास बारिश में रेलवे ट्रैक के नीचे से मिट्टी का कटाव हो गया, जिससे दूसरे दिन भी इस रूट पर ट्रेनों का संचालन बंद रहा।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Nitin Arora

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप