जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। Weather Update आगामी चौबीस घंटे में पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, बिहार और राजस्थान के कुछ स्थानों पर धूल भरी आंधी और छिटपुट बारिश की संभावना है। जबकि महाराष्ट्र, पश्चिमी मध्य प्रदेश, अंडमान निकोबार द्वीप समूह, तटीय कर्नाटक और केरल में हल्की से तेज बारिश होने की उम्मीद है। जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, बिहार, पूर्वोत्तर के राज्यों सहित आंतरिक कर्नाटक और तटीय आंध्र प्रदेश में कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है।

मौसम एजेंसी स्काईमेट के मुताबिक उत्तर प्रदेश, राजस्थान, गुजरात, मध्य प्रदेश, उड़ीसा, झारखंड, पश्चिम बंगाल के गंगा के मैदानी क्षेत्र, असम और आंध्र प्रदेश के ज्यादातर हिस्सों में मानसून की हल्की से तेज बारिश हुई है। वहीं उत्तराखंड और तेलंगाना के कई हिस्सों में भारी बारिश भी हुई। आगामी 24 घंटों के दौरान हिमालय से लगी राज्यों पश्चिम बंगाल, सिक्किम, असम और मेघालय में भारी बरसात का अनुमान लगाया गया है।

भारतीय मौसम विभाग ने मंगलवार को मुंबई और आसपास मानसून के आने की पुष्टि की घोषणा कर दी है। मुंबई में तेज उमस के बाद बारिश होने लगी है। हालांकि, मुंबई में आमतौर पर मानसून 10 जून को पहुंचता है तो इस बार दो सप्ताह की देरी से पहुंचा है। पिछले एक दशक में सबसे लंबा विलंब रहा है। मानसून की देरी की वजह से मुंबई में लोगों को पीने के पानी की मुश्किलें पैदा हो गई थीं। जिन जलाशयों से मुंबई के पानी की आपूर्ति होती थी, वहां का जलस्तर मात्र पांच फीसद रह गया था। मौसम विभाग ने अपने एक ट्विट में कहा है कि दक्षिण-पश्चिम मानसून के बादल मुंबई समेत समूचे महाराष्ट्र, गुजरात और मध्य प्रदेश पर छा गये हैं।

दक्षिण गुजरात और सौराष्ट्र में भी मानसून के सक्रिय होने की पुष्टि कर दी है। मध्य प्रदेश में बारिश होने के साथ ही बुवाई शुरु हो गई है। दलहन व तिलहन की फसलों की बुवाई चालू हो गई है। उत्तरी राज्यों के ऊपर पश्चिमी विक्षोभ के चलते बादल छाए हुए हैं, जो कभी भी बरस सकते हैं। अरब सागर के तटीय क्षेत्रों में तेज हवाएं और बारिश शुरु हो गई है, जिससे समुद्र में ऊंची लहरों के चलने का पूर्वानुमान है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Tanisk