नई दिल्ली, एजेंसी। दक्षिणी-पश्चिमी मानसून एक बार फिर से मजबूत हुआ है और गुजरात, राजस्थान, मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में बढ़त ली है। भारतीय मौसम विभाग का कहना है कि दिल्ली को मानसूनी बरसात के लिए अभी इंतजार करना होगा। देश की राजधानी में मानसूनी हवाएं 27 जून तक आने की उम्मीद है। भारतीय मौसम विभाग (आइएमडी) का कहना है कि गुजरात, दक्षिण राजस्थान, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के बाकी बचे इलाकों में अगले 24 घंटे में मानसूनी बारिश होगी। 'नादर्न लिमिट आफ मानसून' (एनएलएम) जुनागढ़, दीसा, गुना, कानपुर, मेरठ, अंबाला और अमृतसर से होकर गुजर रहा है।

आइएमडी ने गुरुवार को कहा था कि मानसून पर पश्चिमी मध्य अक्षांशी प्रभाव 23 जून तक जारी रहेगा। इसीलिए इस अवधि में राजस्थान, पंजाब के बाकी इलाके, हरियाणा और दिल्ली में मानसून बढ़त नहीं लेगा। ऐसा कहा गया है कि मानसून का फ्लो पैटर्न 26 से 30 जून के बीच अधिक संगठित और सशक्त होने वाला है। और इसी के बाद अधिकांश उत्तर-पश्चिमी भारत मानसून बढ़त लेगा। इससे पहले मौसम विभाग के दफ्तर ने भविष्यवाणी की थी कि वायु प्रणाली दिल्ली में तय समय से 12 दिन पहले यानी 15 जून को पहुंच सकती है। आमतौर में मानसून दिल्ली में 27 जून तक पहुंचता है और पूरे देश को आठ जुलाई तक सराबोर करता है। निजी कंपनी स्काईमेट वेदर का कहना है कि पिछले साल वायु प्रणाली दिल्ली तक 25 जून को पहुंची थी और 29 जून को पूरा देश मानसून से घिर गया था। स्काईमेट के महेश पलावत ने बताया कि यह हवाएं अगले हफ्ते भी जारी रहेंगी। इसलिए दिल्ली में मानसूनी बरसात की उम्मीद सामान्य रूप से 27 जून तक ही संभव है।

इन राज्यों में आज बारिश की संभावना

मौसम विभाग ने बताया कि बिहार, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पूर्वी मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और झारखंड में आज यानी शुक्रवार को तेज हवाओं के साथ मध्यम से भारी स्तर की बारिश हो सकती है और कई स्थानों पर आकाशीय बिजली गिर सकती है। एनसीआर में भी आज हर जगह बादल छाए रहने का अनुमान है। मौसम विभाग के अनुसार, गरज के साथ हल्‍की बारिश भी हो सकती है।

दिल्ली जल्दी पहुंचेगा मानसून (weather news delhi)

मौसम विभाग ने पहले पूर्वानुमान जताया था कि मानसून 12 दिन पहले ही 15 जून तक दिल्ली पहुंच जाएगा। मानसून सामान्य तौर पर 27 जून तक दिल्ली पहुंचता है और आठ जुलाई तक पूरे देश को कवर कर लेता है। निजी पूर्वानुमान एजेंसी स्काइमेट वेदर के मुताबिक, पिछले वर्ष मानसून 25 जून को दिल्ली पहुंचा था और 29 जून तक इसने पूरे देश को कवर कर लिया था।

बिहार में मानसून का असर, इन जिलों के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी (Monsoon Update news Bihar)

मौसम विभाग ने पूर्वानुमान जारी करते हुए कहा है कि 21 जून तक उत्तर-पश्चिम बिहार के जिलों के लिए सामान्य से अधिक बारिश होगी। यहां के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। पश्चिम चंपारण, सीवान, सारण, पूर्वी चंपारण और गोपालगंज जैसे जिलों में भारी बारिश होने की संभावना है।

यूपी के इन जिलों में बहुत भारी बारिश की संभावना (Monsoon Update UP)

उधर, उत्तर प्रदेश में अगले 24 घंटों के दौरान प्रदेश के महराजगंज, सिद्धार्थ नगर, गोंडा, बलरामपुर, श्रावस्ती, बहराइच, लखीमपुर खीरी तथा आसपास के इलाकों में बहुत भारी वर्षा होने का अनुमान है। इसके अलावा सोनभद्र, मिर्जापुर, वाराणसी, संत रविदास नगर, आजमगढ़, मऊ, बलिया, देवरिया, गोरखपुर, संत कबीर नगर, बस्ती, कुशीनगर, बाराबंकी, सुल्तानपुर, अयोध्या तथा अंबेडकर नगर और आसपास के क्षेत्रों में भारी वर्षा होने की संभावना जताई गई है। मौसम विभाग ने इस पूरे हफ्ते राज्य के ज्यादातर इलाकों में बारिश होने की संभावना जताई थी लेकिन सोमवार के बाद से बारिश कमजोर पड़ गई।

उत्तराखंड में भारी बारिश के आसार, इन जिलों में रेड अलर्ट (Heavy rainfall arert in Uttarakhand)

उत्तराखंड में मानसून की दस्तक आम लोगों के लिए खतरनाक हो सकती है। दरअसल, पिथौरागढ़, नैनीताल और चंपावत जैसे पहाड़ी जिलों में शुक्रवार को बहुत भारी बारिश की संभावना जताई गई है। उधर चमोली, बागेश्वर, अल्मोड़ा व ऊधमसिंह नगर में भारी बारिश के आसार हैं। इसके मद्देनजर मौसम विभाग ने इन जिलों में रेड अलर्ट जारी किया है।

हरियाणा में 2-3 दिन के अंदर पहुंच सकता है मानसून (Monsoon Update Haryana)

हरियाणा के अधिकतर शहरों में सुहावना मौसम जारी है। हालांकि, जल्द बारिश होने की संभावना अभी कम है। मौसम विभाग ने दो से तीन दिन बाद बारिश का अनुमान लगाया है। मौसम विभाग के अनुसार बंगाल की खाड़ी पर बने एंट्री साइक्लोन के कारण मानसून कमजोर पड़ा है। जिससे पानीपत समेत प्रदेश के अन्य जिलों में मानसून पहुंचने में देरी हो रही है। वहीं, पूर्वी हवाओं के साथ आ रही नमी ने फिर से उमस पैदा कर दी है।

Edited By: Sanjeev Tiwari