नई दिल्‍ली, एजेंसियां/जेएनएन। बीते एक दो दिनों के दौरान एक के बाद एक आए पश्चिमी विक्षोभ ने उत्‍तर भारत के राज्यों में दुश्‍वारियां खड़ी कर दी हैं। मौसम विभाग की मानें तो कल यानी 14 मार्च को जम्‍मू-कश्‍मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्‍तर प्रदेश, पंजाब और हरियाणा के अलग अलग इलाकों में गरज और चमक के साथ तेज हवा के साथ बारिश देखी जा सकती है। समाचार एजेंसी एएनआइ ने मौसम विभाग के हवाले से बताया है कि अगले 72 घंटों में उत्‍तराखंड के देहरादून, उधम सिंह नगर, हरिद्वार और नैनीताल में आंधी के साथ भारी बारिश और बर्फबारी हो सकती है। वहीं उत्‍तर प्रदेश के अलग अलग इलाकों में बिजली गिरने समेत बारिश से जुड़े हादसों में 25 लोगों की मौत हो गई है। 

बारिश-ओलावृष्टि से फसलें खराब 

बेमौसम हुई बारिश और ओलावृष्टि के चलते उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश और हरियाणा में फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है। किसानों और कृषि विशेषज्ञों की मानें तो ओलावृष्टि के कारण गेहूं की बालियां झड़ जाने से पैदावार प्रभावित होगी। वहीं, टमाटर व शिमला मिर्च की फसल को भी नुकसान हुआ है। करनाल स्थित केंद्रीय मृदा लवणता अनुसंधान संस्थान के मुताबिक आने वाले 24 घंटे बरसात हो सकती है। जारी एडवाइजरी में कहा गया है कि किसान बरसात का पानी खेतों में जमा ना होने दें। उत्तर प्रदेश में भी बारिश से रबी की फसल चौपट हो गईं और आम के बौर गिर गए हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 48 घंटे में लोगों को मदद पहुंचाने के निर्देश दिए हैं। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक अगले दो तीन दिन ऐसे ही आसार बने रहेंगे। 

उत्तरकाशी में भारी बर्फबारी से 30 लोग फंसे  

उत्तराखंड में मौसम मार्च में सावन का एहसास करा रहा है। पहाड़ से लेकर मैदान तक बारिश का दौर जारी है। हरिद्वार और देहरादून में जबरदस्त ओलावृष्टि से फसलों को नुकसान पहुंचा है। वहीं, बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री में बर्फबारी का सिलसिला बना हुआ है। मौसम के मिजाज को देखते हुए केदारनाथ में पैदल मार्ग से बर्फ हटा रहे श्रमिकों को फिलहाल गौरीकुंड बुला लिया गया है। देहरादून, मसूरी, हरिद्वार नैनीताल में ओले गिरने से फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है। मसूरी-टिहरी बाईपास एनएच-707ए पर मलबा आने से मार्ग बंद हो गया है। उत्तरकाशी जिले में भारी बर्फबारी के कारण हर्षिल के पास 30 लोग फंसे हुए हैं। उत्तरकाशी के जिलाधिकारी डॉ. आशीष चौहान ने बताया कि इनमें से कुछ पर्यटक हैं। 

राजाजी नेशनल पार्क के गेट दो दिन से बंद

उत्‍तराखंड के राज्य मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार रविवार तक मौसम के मिजाज में कोई बदलाव आने की संभावना नहीं है। मौसम विभाग ने अलर्ट जारी किया है कि उच्च हिमालयी क्षेत्रों में बर्फबारी का दौर जारी रहेगा। दो दिन से लगातार हो रही बारिश के कारण राजाजी नेशनल पार्क के गेट गुरुवार और शुक्रवार को बंद रहे। सैलानियों के पार्क में प्रवेश पर फिलहाल रोक लगी हुई है। चीला के रेंजर अनिल पैन्यूली ने बताया कि बारिश से ट्रैक प्रभावित हो सकते हैं।

हिमाचल और जम्‍मू-कश्‍मीर भी बेहाल 

हिमाचल में शुक्रवार को लगातार तीसरे दिन बारिश जारी रही। लाहुल-स्पीति, सिरमौर व किन्नौर जिलों समेत प्रदेश के अन्य ऊंचे क्षेत्रों में दो से तीन फीट बर्फबारी हुई। पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव से हिमाचल प्रदेश के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में 18 मार्च तक मौसम खराब बने रहने की संभावना है। हालांकि मैदानी इलाकों में 15 मार्च से मौसम साफ होने की उम्मीद है। कश्मीर घाटी में श्रीनगर समेत अधिकतर हिस्सों में रुक-रुक कर बारिश हुई। जवाहर टनल के अलावा पीरपंजाल की पहाडि़यों और गुलमर्ग व टंगमर्ग में बर्फबारी हुई। जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग शुक्रवार तीसरे दिन भी बंद रहा। बता दें कि 11 मार्च से जम्मू कश्मीर में हो रही बारिश से हाईवे बंद है। रविवार को मौसम साफ होने के बाद ही हाईवे सुचारु हो पाएगा।

यूपी में 25 की मौत 

उत्‍तर प्रदेश में तेज हवा के साथ शुक्रवार को दिनभर बारिश होती रही और कई स्थानों पर ओले गिरे जिससे फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है। उत्‍तर प्रदेश के कई इलाकों में बिजली गिरने समेत मौसम से जुड़े हादसों में 25 लोगों की मौत होने सूचना है। बताया जाता है कि सीतापुर आठ, लखीमपुर पांच, बाराबंकी-बहराइच दो-दो, अयोध्या, बलरामपुर, हरदोई, कानपुर, बिजनौर, फतेहपुर, गोरखपुर, सिद्धार्थनगर में एक-एक व्यक्ति की मौत हुई है। स्‍थानीय विभाग की मानें तो अगले दो से तीन दिन तक बदली, बूंदाबांदी और बारिश के आसार हैं। मध्य उत्तर प्रदेश में आंधी, पानी और ओलावृष्टि ने खेत में खड़ी फसलों को 60 फीसद तक बर्बाद कर दिया है। हरदोई, सीतापुर और बाराबंकी में तो बड़े-बड़े ओले गिरे और सड़ाकें पर बर्फ बिछ गई। सीतापुर में ओलावृष्टि से 245 गांव प्रभावित हुए हैं। 

इन राज्‍यों में भी तल्‍ख रहेंगे मौसम के तेवर 

मौसम विभाग की मानें तो कल यानी 14 मार्च को बिहार, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, मध्‍य प्रदेश, छत्‍तीसगढ़ और सिक्किम के कई इलाकों में आंधी और गरज चमक के साथ बारिश दर्ज की जा सकती है। उत्तर बिहार के जिलों में अगले 24 घंटे तक बारिश की संभावना है। इस दौरान तराई के कुछ इलाकों में ओले भी पड़ सकते हैं। इसके बाद मौसम के साफ तथा शुष्क रहने का अनुमान है। मौसम का पूर्वानुमान जारी करने वाली निजी एजेंसी स्‍काईमेट वेदर के मुताबिक, 16 मार्च के बाद मैदानी इलाकों में मौसम साफ और शुष्क हो जाएगा और तापमान में भी बढ़ोत्तरी होगी। इससे लोगों को मौसमी बिमारियों से निजात मिल सकती है। मौसम विशेषज्ञों की मानें तो पश्चिमी विक्षोभ 15 मार्च तक पूरब में चला जाएगा। यही नहीं चक्रवाती सिस्टम भी निष्प्रभावी हो जाएगा।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस