श्रीनगर, राज्य ब्यूरो। रक्षा मंत्री अरुण जेटली के जम्मू कश्मीर के पहले दौरे से एक दिन पहले पाकिस्तानी सेना ने शुक्रवार को संघर्षविराम का उल्लंघन करते हुए पुंछ जिले में एलओसी स्थित अग्रिम भारतीय चौकियों पर फायरिंग की। भारतीय जवानों ने भी पहले संयम बरतते हुए जवाबी फायर किया। सीमा पर फायरिंग के मामले को गंभीरता से लेते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने थल सेनाध्यक्ष से मामले की जानकारी ली। प्रधानमंत्री के साथ लगभग तीन घंटे तक चली बैठक में रक्षामंत्री अरुण जटली, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार डोभाल भी मौजूद थे।

एक दिन पहले गुरुवार को पुंछ जिले के बालाकोट सेक्टर में ही पाकिस्तानी सेना ने घुसपैठ कर भारतीय इलाके में आईईडी लगाई थी। इसके बाद जब भारतीय जवानों का एक गश्तीदल वहां से गुजरा तो पाकिस्तानी सैनिकों ने रिमोट से आईईडी में धमाका कर दिया जिसमें एक जवान शहीद व एक मेजर सहित तीन सैनिक घायल हो गए थे।

पुंछ से मिली सूचनाओं के मुताबिक, आज सुबह तड़के पाकिस्तानी सैनिकों ने तारकुंडी इलाके में भारतीय ठिकानों को निशाना बनाते हुए पहले हल्के हथियारों से और फिर मोटाररें से गोलाबारी शुरू की। भारतीय सैनिकों ने इसे उकसावे की कार्रवाई समझते हुए पहले संयम बनाए रखा,लेकिन जब पाकिस्तानी गोले नागरिक ठिकानों के आस-पास गिरने लगे तो उन्होंने भी अपनी बंदूकों के मुंह खोल दिए। इसके बाद दोनों तरफ से भीषण गोलाबारी शुरू हो गई।

करीब एक घंटे तक दोनों तरफ से जबरदस्त गोलाबारी हुई। लेकिन बाद में गोलाबारी की तीव्रता कम हो गई। गौरतलब है कि आंतरिक और बाहरी सुरक्षा परिदृश्य का जायजा लेने रक्षा मंत्री अरुण जेटली शनिवार को राज्य के दौरे पर आ रहे हैं।

पढ़ें: फायरिंग के समय पर उमर ने उठाए सवाल

पढ़ें: बाज नहीं आया पाक, पुंछ-अरनियां में की गोलीबारी

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस