ऐसा क्यों है कि आजकल मोदी-शाह की भाजपा कुछ भी दावा करती है या जीत के लक्ष्य रखती है तो सामने खड़ा विपक्ष लड़ाई से पहले ही लड़खड़ाने लगता है? सीना चौड़ाकर प्रतिवाद से भी घबराने लगता है? शायद पिछले आंकड़ों से ज्यादा इन नेताओं का आत्मविश्वास उन्हें डराता है। गुजरात, हिमाचल प्रदेश, कर्नाटक विधानसभा समेत अगले लोकसभा चुनाव के लिए तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। विपक्ष नोटबंदी और रोजगार जैसे मुद्दों के सहारे रणनीति को धार देने की कवायद में जुटा है। ऐसे में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह दोहराते हैं- हमारे पिछले टारगेट का आकलन कर देख लीजिए.. उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, मणिपुर हर जगह हमने लक्ष्य से ज्यादा ही जीता है और फिर कह रहा हूं कि मोदी सरकार ने जिस तरह समाज के हर वर्गो का ध्यान रखा है और संगठन जिस तरह घर घर पहुंचा है उसके बाद 2019 की जीत पहले से भी बड़ी होगी इसमें शक नहीं है।

दैनिक जागरण की शीर्ष संपादकीय टीम के साथ अमित शाह ने संगठन के विस्तार, सरकार के फैसलों, अगले चुनाव की रणनीति जैसे मुद्दों पर विस्तृत बातचीत की। विदेशों में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के भाषणों पर प्रतिक्रिया भी जताते हैं। बातचीत का एक अंश----

- तीन साल में भाजपा पूरी तरह बदल गई। लगने लगा भाजपा जो मुकाम चाहे पा सकती है। ऐसा क्या अवरोध था जिसे हटाते ही आपके लिए राह आसान हो गई?

अवरोध नहीं, दो चीजें एक साथ हुई। एक तो लंबे समय बाद किसी की पूर्ण बहुमत की सरकार आई। मोदी जी सरकार का नेतृत्व कर रहे थे और इसलिए निर्णय लेने वाली सरकार बनी। इसके कारण आगे बढ़ने का क्रम बना। माहौल में बहुत बड़ा परिवर्तन दिखने लगा। तीन साल पहले का भारत और आज के भारत में तुलना कीजिए तो अंतर दिखेगा। यह केवल भारत की बात नहीं है विदेश तक यह भावना दिखेगी। आज विश्व का हर देश भारत के साथ संबंध रखना चाहता है। देश की बहुत बड़ी आबादी को यह अनुभव हुआ कि सरकार उनके लिए भी है। पहले वह खुद को दूर दूर पाते थे। साढ़े सात करोड़ लोगों को आसानी से मुद्रा बैंक से लोन मिलता है। उज्ज्वला से चूल्हा जलता है। घर बिजली से रोशन होता है। इससे लोग खुद को देश के जुड़ा हुआ अनुभव करते हैं। मैंने देखा है कि किसी के घर में डाक्टर कह दे कि स्टेंट लगाना पड़ेगा तो मातम छा जाता है कि इतने पैसे कहां से आएंगे। प्रधानमंत्री ने इसे एड्रेस किया है। ऐसे कई कारण है जिससे कारण परिवर्तन दिखता है। एक तरफ मोदी जी का नेतृत्व और दूसरी तरफ भाजपा का संगठन भी जुटा हुआ है। हमने कार्यपद्धति में बदलाव किया है। और सरकार के साथ कदम से कदम मिलाकर जनता तक पहुंचने का काम किया है। सबका एकजुट असर है जो आप देख रहे हैं।

- बिहार का पड़ाव शायद आपको भी खटकता होगा। क्या वजह है कि बिहार में वह करिश्मा नहीं रहा। 2019 में बिहार को आप किस तरह देखते हैं?

देखिए 2019 के पहले 2014 भी आया था जिसमे भाजपा का असर दिखा था। 2015 में हमारा वोट शेयर बढ़ा लेकिन एक राजनीतिक गठबंधन के कारण हम उसे जीत में नहीं बदल पाए। जितने भी दल चुनाव में थे उसमें केवल भाजपा का वोट शेयर बढ़ा था। लेकिन लोकतंत्र में पराजय पराजय होता है। लेकिन हम इतना ही कहना चाहेंगे कि बिहार में हम हमारा डेवलपमेंटल एजेंडा नीचे तक ले जाने में असफल रहे थे।

- मंत्रिमंडल विस्तार में भी आपने जदयू को छोड़ दिया। क्या 2019 से पहले एक और विस्तार हो सकता है?

मंत्रिमंडल विस्तार प्रधानमंत्री का अधिकार क्षेत्र है। आज के दिन इस सवाल का कोई अर्थ नहीं है।

- दक्षिण के राज्यों मे आप किस तरह विस्तार कर रहे हैं?

दक्षिण में हमारी स्वीकार्यता बहुत बढ़ी है। कर्नाटक में सिद्धरमैया के खिलाफ एंटी इंकमबेंसी है। हम वहां निश्चित रूप से सरकार बनाएंगे और बड़ी बहुमत की सरकार बनाएंगे। मैं आपको बता दूं कि 2019 आते आते हम देश के हर राज्य में मजबूत ईकाई बनाने में सफल रहेंगे। हम बड़ी ताकत होंगे। आज ओडिशा और पश्चिम बंगाल में हम निर्विवाद रूप से नंबर दो हैं। असम में हमारी सरकार है। केरल में हम ट्रायंगल बनाने में सफल हुए हैं। वक्त आने दीजिए।

- पहले की भाजपा और आज की भाजपा में एक और अंतर दिखता है। वाजपेयी काल में ‘पार्टी विद ए डिफरेंस’ पर जोर होता था। आज के पार्टी के प्रचार अभियान में वह शामिल नहीं है?

भई, मैं तो कहता हूं कि भ्रष्टाचार का कोई मामला हमारी सरकार के खिलाफ आपके पास हो तो बताइये। पार्टी में अनुशासन इस कदर है कि आपको अंदरूनी खबरें मिलना बंद हो गई हैं। यही तो है ‘पार्टी विद ए डिफरेंस’।

- पर क्या आपको महसूस होता है कि रोजगार जैसे मुद्दे पर विपक्ष सरकार के लिए मुश्किलें खड़ी कर सकता है। उनका कहना है कि भाजपा सरकार वादे के अनुसार रोजगार नहीं दे सकी।

देखिए, रोजगार और नौकरी को अलग कर देखने की आदत नहीं होगी तो समझ पाएंगे। रोजगार की बात कीजिए... सरकार ने मुद्रा के जरिए 7 करोड़ चौंसठ लाख लोगों को ऋण दिया है। स्वरोजगार का ढांचा खड़ा हुआ ताकि वह भी आगे कुछ लोगों को रोजगार दें। ईमानदारी से गिनना शुरू कीजिए तो दिख जाएगा कि कितना रोजगार पैदा हुआ है। जहां तक आप अर्थव्यवस्था की बात करते हैं... 2013-14 के किसी भी आंकड़े से आप तुलना कर लीजिए। उस वक्त हमारा ग्रोथ रेट 4.7 था अभी यह औसत 7 फीसद है। एक तिमाही पर आकलन मत कीजिए। उस वक्त इंटरेस्ट रेट 8-12 फीसद तक झूल रहा था, हमने उसे छह फीसद तक ला दिया। फोरैक्स रिजर्व 304 मिलियन था अब हम 400 मिलियन के ऊपर हैं। एफडीआइ 3.57 मिलियन डालर था, अब वह 6.3 मिलियन डालर है। आंकड़े बहुत हैं गिनाने को जिससे पूरा परिदृश्य साफ हो जाता है। मुझे समझ नहीं आता है कि किस प्रकार से और कौन इस तरह की एनालिसिस कर रहा है। बातें करना बहुत सरल है लेकिन कांग्रेस जो छोडकर गई थी उसे उठाकर यहां तक लाने में बहुत मेहनत करनी पड़ी है। पूरा विश्व मान रहा है कि मोदी सरकार के काल में भारत की अर्थव्यवस्था सबसे तेज बढ़ रही है लेकिन यहां सवाल उठाए जा रहे हैं जिसे जनता भी नहीं मानती है।

- जीएसटी को लेकर बहुत असमंजस है।

पहले हर राज्य अपना अपना टैक्स प्रणाली बनाए हुए था। आजादी के बाद सभी राज्यों का एक समान विकास होना चाहिए था लेकिन ऐसा नहीं हुआ। कुछ राज्य मैन्यूफैक्चरिंग स्टेट बन गए और कुछ कंज्यूमर बन गए। हमने इसे पाटने की कोशिश की है। इससे पूरे देश का समान विकास होने का रास्ता खुलता है। यह हमारी उपलब्धि है कि इतने सारे राज्यो और दलों के साथ बातचीत कर इसे लागू किया है। हमारी सरकार संवेदनशील है और इस लिए जीएसटी काउंसिल में खुले मन से संवाद होता है। किसी सुधार की जरूरत होगी तो वह भी होगा।

- नोटबंदी आने वाले चुनावों में भाजपा का मुद्दा रहने वाला है या विपक्ष का?

(हंसते हुए) हम चाहते हैं कि विपक्ष इसे मुद्दा बनाए।

- लेकिन यह सवाल तो बरकरार है कि आखिर नोटबंदी से हासिल क्या हुआ? 99 फीसद पैसा वापस ही आ गया।

देखने का नजरिया बढ़ाइए। काला धन क्या होता है? जिस पर टैक्स न लगे वह काला धन होता है। यानी वह देश के विकास में नहीं लगता है। 99 फीसद पैसा वापस आया है तो वह देश के विकास में भी लगेगा। लाखों करोड़ रुपये जो लोगों की तिजोरी में बंद पड़ा था वह व्यवस्था में आ गया। इसे छोटा मत समझिए। टैक्स भरने वालों की संख्या 3.7 करोड़ से बढ़ छह करोड़ के उपर पहुंच गई। वह कोई प्यार मोहब्बत से तो नहीं हुआ है। यह नोटबंदी का असर है जो देश के विकास पर भी दिखेगा और दिख रहा है।

- पर यह सवाल तो है कि जब सारे पैसे आ ही गए तो लोगों को सीमित वक्त तक पुराने नोट जमा कराने के प्रावधान से बचा जा सकता था। लोगों को परेशानी भी कम होती?

आप यह भूल रहे हैं कि एमनेस्टी खत्म होने के बाद हमने टैक्स बढ़ाया। सौ रुपया पकड़ा गया तो 85 रुपये जमा करने पड़े।

- आपने टैक्स सिस्टम की बात की। पेट्रोलियम कीमत को लेकर विपक्ष काफी उग्र है और सरकार का तर्क वही है जो सरकार में रहते हुए कांग्रेस दिया करती थी?

(थोड़ी उग्रता से ) हम भ्रष्टाचार की बात करते थे, विपक्ष कर रहा है क्या? हम देश के सम्मान की बात करते थे, विपक्ष कर रहा है क्या? हम महंगाई की भी बात करते हैं। पेट्रोलियम की कीमतें बढ़ी है इसमें संदेह नहीं। हम संवेदनशील हैं। वक्त पर विचार होगा। लेकिन परेशानी यह है कि एक सप्ताह के मुद्दे को विपक्ष पांच साल का मुद्दा समझ रहा है।

- अभी आप ने कर्नाटक में सिद्धरमैया सरकार के एंटी-इकेम्बेसी की बात कही। क्या यही एंटी इंकम्बैंसी मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में आपको परेशान नहीं करेगी। यहां तो और लंबे वक्त से भाजपा सरकारें हैं?

कोई व्यक्ति 25 साल भी शासन कर सकता है। एन्टी-इंकेम्बसी शासन प्रशासन पर निर्भर करता करता है। अगर ठीक शासन कर रहा है, तो एंटी-इंकम्बेंसी नहीं होती है। एंटी इनकंबैसी जेनरेट तो होती है लेकिन वह नलीफाइ(खत्म )भी होती है।

- जम्मू-कश्मीर में 35-ए को लेकर काफी बेचैनी है। भाजपा चाहती है कि यह खत्म हो लेकिन जम्मू-कश्मीर में आपकी सहयोगी और मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती भी विरोध में है। गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने वहां जाकर बयान दिया है कि सरकार जम्मू-कश्मीर के सेंटीमेंट के खिलाफ नहीं जाएंगे। इसे कैसे देखा जाए?

राजनाथ जी ने कहा है कि हम सभी की भावनाओं का आदर करेंगे और सबसे चर्चा करके फैसला लेंगे। मेरा मानना है कि लोकतंत्र में यही तरीका होना चाहिए।

- पिछले दिनों जब आपने पीडीपी के साथ सरकार बनाई, तो लगा सरकार चलाना बड़ा मुश्किल होगा। डेढ-दो सालों में आपने काफी सख्ती से अभियान चलाया है। इसके लिए पीडीपी को मनाने में कितनी मशक्कत करनी पड़ी?

हमें कोई तकलीफ नहीं। हमने ऐसा कुछ नहीं किया कि किसी को मनाना पड़े।

- कश्मीर में पिछले छह माह में सुरक्षा बलों ने लश्कर और हिज्ब के आतंकी सरगनाओं को ढेर किया है और संपर्क-संवाद का एक राजनीतिक कार्यक्रम भी शुरू हुआ है। क्या आप मानते हैं कि हम कश्मीर समस्या के स्थायी समाधान की ओर बढ़ रहे हैं।

अभी यह कहना जल्दबाजी होगी कि हम कश्मीर समस्या के स्थायी समाधान के करीब आ गए हैं। वहां सुरक्षा बल अपना काम कर रहे हैं। इसमें किसी का कोई दखल नहीं है। एक बड़ी बात यह हुई है कि सुरक्षा एजेंसियों ने आतंकियों की फंडिंग पर अंकुश लगा दिया है। वहां शांति के लिए अन्य स्तरों पर भी प्रयास हो रहे हैं। सब कुछ इतनी जल्दी नहीं हो सकता। भाजपा ने हमेशा से जम्मू-कश्मीर में शांति और अमन चाही है। हमें भरोसा है कि हम कश्मीर समस्या के समाधान की सही राह पर चल रहे हैं।

- आपके कमान संभालने के बाद से पार्टी राज्यों में अपने दम पर चुनाव लड़ती दिखी है। पंजाब में ऐसा नहीं हुआ। क्यों?

ऐसा नहीं है। हमने झारखंड, पंजाब असम, मणिपुर, केरल, बिहार, उत्तरप्रदेश जैसे राज्यों में गठबंधन के साथ चुनाव लड़ा।

- पार्टी में सेकेंड लाइन लीडरशिप क्यों नहीं पनप पा रही है। हर राज्य में चुनाव मोदी जी या आपके नाम पर लड़ा जाता है?

नहीं, गलत है। हर राज्य में हमारे नेता है। देवेंद्र फडनवीस को कोई महाराष्ट्र का नेता नहीं कहेगा क्या, असम में हमारे मुख्यमंत्री वहां के नेता नहीं हैं क्या? झारखंड में रघुवर दास इतना अच्छा काम कर रहे है। हर राज्य में हमारे पास सशक्त नेता हैं, सेकेंड लाइन और थर्ड लाइन तक का नेतृत्व स्पष्ट है।

- हिमाचल प्रदेश में चुनाव होने जा रहे है। लेकिन भाजपा ने राज्य में अभी कोई सीएम चेहरा नहीं दिया है।

अभी पार्टी ने इस पर कोई विचार नहीं किया है, कि हम चेहरे के साथ चुनाव लड़ेंगे या सामूहिक रुप से चुनाव लड़ेंगे।

- भाजपा कहती है वह जातिवादी राजनीति नहीं करती है। लेकिन ओबीसी राजनीति को लेकर तो पार्टी बहुत सक्रिय है?

हम अभी भी कहते हैं कि जातिवादी राजनीति भाजपा का एजेंडा नहीं है। भाजपा विकास की राजनीति करती है। लेकिन किसी को उसका हक देना राजनीति है क्या? राजनीति तो कांग्रेस कर रही है. ओबीसी आयोग को संवैधानिक दर्जा दिए जाने का विरोध कर दिया। लोकसभा में तो हमने विधेयक पारित करा लिया लेकिन राज्यसभा में आंकड़ों के बल पर कांग्रेस ने उसे अटका दिया। लेकिन मैं फिर कहता हूं कि सरकार दोबारा विधेयक लाएगी।

- आप टारगेट बहुत बड़ा रखते है। जैसे गुजरात में आपने 150 का रखा है, जो अब तक संभव नहीं हो पाया। मोदी जी थे गुजरात में थे उस वक्त भी पूरा नहीं हुआ था। कर्नाटक में भी आपने ऐसा ही रखा है। यह टारगेट आप पार्टी के कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाने के लिए या कुछ और साबित करने के लिए रखते है।

जहां-जहां हमने टारगेट रखा था, उसका आप एक बार और अध्ययन कर लीजिए। यूपी में मैने तीन सौ सीटें कही ही थी। उत्तराखंड में 51 कही थी, 57 आई थी, मणिपुर में भी हमने 30 सीटें कही थी, 32 आई।

- अगले लोकसभा चुनाव के लिए क्या टारगेट है?

अभी कोई टारगेट नही रखा है। समय आने पर होगा। लेकिन मैं बता दूं कि पिछले चुनाव से भी बड़ी जीत होगी।

- गुजरात में ऐसी धारणा बन रही है, कि शंकर सिंह बघेला, जो भाजपा के सौजन्य से ही थर्ड पार्टी के तौर पर प्रोजेक्ट किया जा रहा है। आपका उनसे काफी संपर्क भी रहा है। संवाद भी रहा है।

देखिए, किसी के यहां चाय पीने जाना और सार्वजनिक रूप से .इसे कोई संपर्क मानता है, तो मै मानता हूं, कि सार्वजनिक जीवन में रहने वाला आदमी इतना छोटा नहीं होता है। दो पार्टी के नेता मिल नहीं सकते है क्या? क्या गोपनीय बात। सारी मीडिया थी। क्या गोपनीय बैठकें ऐसे होती हैं? पक्ष-विपक्ष सब वहां था। घटना इतनी सी थी, कि मै पक्ष-विपक्ष सभी से मिलकर विधानसभा छोड़ना चाहता था। वह विपक्ष के नेता रहे है। इसलिए मै उनसे भी मिलने गया था। इसका गलत प्रचार हुआ है। वैसे भी शंकर सिंह मझे हुए नेता है। वह फैसला अपने तरीके से ही लेंगे।

- गुजरात चुनाव में मोदी जी और अमित शाह की जोड़ी को जाना पड़ेगा, या रुपाणी जी कमान संभाल लेंगे।

देखिए, देश में हम हर जगह जाते है। वहां भी जाएंगे। देश में हर जगह पर स्थानीय नेता होते है। वहां भी है।

- देश में अभी लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ कराने की चर्चा शुरु हुई है। इनमें बात आगे कहां तक बढ़ पाई है।

हमारी पार्टी ने ही यह मुद्दा उठाया है। अभी इस पर चर्चा चल रही है। प्रधानमंत्री ने भी पिछले संसद सत्र की पहली सर्वदलीय बैठक में इस बात को सभी पार्टी के सामने रखा था। सभी से कहा था इस पर अपनी पार्टी में विचार करिए। चुनाव और संसद की भी इसमें सहमति जरुरी है। यह विषय सार्वजनिक बहस के लिए रखा गया है, लेकिन इनमें काफी पार्टियां अंदरुनी तौर पर सहमत भी है। मेरा मानना है कि इनमें सभी पार्टियों में सहमति बननी चाहिए।

- गौरक्षा के नाम पर देश भर में जो कुछ हो रहा है, उसकी बदनामी भाजपा के हिस्से में आ रही है।

हमने तो कहा है कि गौरक्षा के नाम पर हिंसा नहीं करनी चाहिए। सबने कहा कि गौरक्षा के नाम पर हिंसा गलत है। पहले की तुलना में आंकड़े देखिए। बढ़ा चढ़ा कर कहना अलग बात है। आंकड़े बढे हुए हों, तो मुझसे जरुर सवाल कीजिए।

- विपक्षी दलों का आरोप है कि सरकार अपने राजनीतिक विरोधियों के खिलाफ सरकारी एजेंसी जैसे सीबीआई, ईडी, इनकम टैक्स का इस्तेमाल कर रही है। ताकि राजनीतिक विरोधी इकट्ठे न हो सके। इस पर आप क्या कहेंगे?

देखो अगर यह सच है, तो कोर्ट की व्यवस्था है हमारे यहां। उन्हें कोर्ट में जाना चाहिए। कोर्ट से तुरंत इस पर स्टे ले लेना चाहिए। प्रयास नहीं करते। अगर यह सच है, तो..।

- पर विपक्षी लगा रहे है सरकार व भाजपा के खिलाफ?

इसको मै कैसे रोक सकता हूं। कोई इमरजेंसी तो नहीं है। आरोप लगा सकते है। इमरजेंसी में हम लोगों को जेल में डाल दिया था। हमें बोलने तक नहीं देते थे। आपको छापने तक नहीं देते थे। आप ही बताइए।

- डिप्लोमेसी की आपने अभी चर्चा की। आपकी सरकार एक आम उपलब्धि डिप्लोमेसी है। अमेरिका, जापान जैसे देश आपके साथ खड़े है। लेकिन पाकिस्तान और चीन जैसे पड़ोसियों के साथ हमारे रिश्ते बेहद खराब हो चुके है।

हमने शुरु से रिश्ते सुधारने की दिशा में काम किया। शपथ के दिन ही सबको बुलाया। मगर रिश्ते सुधारने की भी सीमा है। हमें सीमा समझनी चाहिए। हम किसी से खराब रिश्ते नहीं चाहते है।

- यह संयोग है या कोई रणनीति कि जब राहुल विदेश में घूम रहे है, तो आप पूरे देश में घूम रहे है। आपका पूरे 110 दिन का भ्रमण है।

राहुल जी का वैकेशन तो होता ही रहता है। लेकिन मेरा दौरा दीन दयाल उपाध्याय जन्म शताब्दी के उपलक्ष्य में है। हर राज्य में है। जो भाजपा के संगठन की मजबूती के लिए है। इसका राहुल जी के दौरे से कोई जुड़ाव नहीं है।

- उत्तर प्रदेश में ऋण माफी के जो सर्टीफिकेट बांटे जा रहे है वह एक पैसा, एक रुपए, तीन रुपए, पांच रुपए के है। लगता है कि उनके साथ मजाक हो रहा है। पार्टी अध्यक्ष के तौर पर आप इसे कैसे देखते है?

(सख्त लहजे में)हमने कहा था कि छोटे और सीमान्त किसानों का लोन माफ होगा। एक लाख तक की सीमा तय की थी। अब किसी का एक लाख एक रुपए बाकी है और उनके एक लाख का लोन भर दिया। 2016-17 का जिसने नया लोन लिया है, वह माफ हो ही नही सकता है। अभी तो वह ओवर ड्यू ही नहीं हुआ है। देखिए, विसंगतियों के तह में जाना पड़ेगा। यह लोन किस साल का है। जो लोन ओवर ड्यू हुआ है, वही माफ हो सकता है। जो ओवर ड्यू हुआ ही नहीं, वह कैसे माफ होगा। वैसे मैने योगी जी को सुझाव दिया है कि कैटेगरी बनाकर आंकड़ा सार्वजनिक कीजिए कि कितने लोगों का लाख रुपये माफ हुआ, कितनों का नब्बे हजार और कितनों का पांच रुपये और एक रुपए। सच्चाई सामने आ जाएगी।

- उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ कैसा काम कर रहे हैं?

बहुत अच्छा काम कर रहे है योगी जी। पहली बार उप्र में 15 साल में किसानों के फसल की खरीदी की गई है। पैसे सीधे उनके खाते में पहुंचे चुके है। पहली बार नौ महीने के अंदर गन्ना किसानों का पेमेंट मिल चुका है। पहले मिली भगत होती थी। मिल मालिकों और सरकार के बीच। किसानों के लोन भी माफ कर दिया है। बडे स्तर पर भ्रष्ट्राचार को संपूर्ण रुप से निर्मूल कर दिया गया है। नीचे अभी काम होना बाकी है। मै मानता हूं, कि कानून-व्यवस्था की स्थिति में भी सुधार हो रहा है। पहले पटवारी भी सरकार था, कलेक्टर भी सरकार था, सचिव भी सरकार था. अब सरकार जहां होनी चाहिए केवल वहीं है।

- विस्तार के क्रम में ऐसी धारणा बनती है कि जो भी विपक्ष का नेता भाजपा में आना चाहता है, उसके लिए दरवाजे खुले हुए है। इन दिनों नारायण राणे की चर्चा हो रही है। पिछले दिनों उत्तराखंड में जब सरकार बनी, तो कहा गया, इनमें तो आधी कांग्रेस की सरकार है।

57 का आधा कितना होता है। उत्तराखंड में बाहर से सात लोग आए थे। 36 में भी बहुमत होता है। धारणा गलत बनाएंगे तो मेरे पास रास्ता नहीं है।

- आप पूरा देश घूम रहे है। कहां का खान-पान आपको सबसे ज्यादा अच्छा लगा?

सभी राज्यों का खान-पान अच्छा है। सभी का आनंद लेते है। शाकाहारी खान-पान सभी जगह का अच्छा है। मणिपुर का खान-पान बहुत अच्छा है। जबरदस्त आकर्षित करने वाली परम्परा है खानपान की।

- न्यायिक व्यवस्था को लेकर आप की क्या टिप्पणी होगी?

हम तो केवल इंफ्रास्ट्रक्चर ही दे सकते हैं। बाकी के सुधार को न्यायिक व्यवस्था के अंदर ही होंगे।

- 2014 के आम चुनाव में भाजपा की जीत में सोशल मीडिया की अहम भूमिका थी। लेकिन पिछले दिनों आपने गुजरात में युवाओं को सोशल मीडिया से दूर रहने की सलाह दी। आखिर यह बदलाव क्यों?

भाई मैं किसी मुद्दे पर सफाई नहीं देता हूं। सफाई देने की मेरी आदत नहीं है। लेकिन फिर भी मैं स्पष्ट कर दूं कि गुजरात की विशेष स्थिति है। वहां एक पूरी नई पीढ़ी है, जिसने कभी दंगे नहीं देखे, कभी कफ्र्यू नहीं देखा। उसे नहीं पता कि अंधेरा क्या होता है। 17 सालों से भाजपा की सरकार के दौरान वहां विकास की रफ्तार बहुत ही तेज है। उन्हें 24 घंटे बिजली मिल रही है। कुछ बच्चे ऐसे हैं जिन्हें पता ही नहीं है कि कांग्रेस के काल में 365 दिनों में 220 दिन कर्फ्यू रहा था। सड़कें अच्छी मिली है। उन्हें लगता है कि यह स्वाभाविक है। मैंने उनसे कहा था कि अपने बड़े बुर्जुगों से पूछो कि गुजरात पहले क्या था। नए युवा सोशल मीडिया पर चल रहे दुष्प्रचार में आ जाते हैं। मैं सोशल मीडिया पर सड़क के गढ्डे दिखाने का विरोध नहीं करता हूं, उन्हें दिखाओ। इससे हमें पता चलेगा कि कहां क्या काम करना है। लेकिन गलत आंकड़ों के साथ फैलाए जा रहे दुष्प्रचार में नहीं फंसो।

- तीन तलाक पर हाल का फैसला भाजपा के लिए राजनीतिक रूप से कितना फायदेमंद होगा?

यह राजनीतिक मुद्दा नहीं है और इसे उस रूप में देखना भी नहीं चाहिए।

- मोदी सरकार आने के बाद देश में अल्पसंख्यकों पर अत्याचार बढऩे का आरोप लगता रहा है। पूर्व उपराष्ट्रपति ने फेयरवेल भाषण में कह दिया था कि देश में अल्पसंख्यक डरे हुए हैं। आपका क्या कहेंगे।

संवैधानिक पद पर बैठे किसी व्यक्ति की टिप्पणी पर मैं कुछ नहीं बोलूंगा। लेकिन यह कहूंगा कि किसी में कोई डर नहीं है।

- भाजपा के कुछ नेता अपने बेजा बयानों से पार्टी के साथ सरकार को नुकसान पहुंचाते हैं। ऐसे नेताओं के खिलाफ कोई कार्रवाई होती क्यों नहीं दिखती?

जनता सब जानती है। ऐसे नेताओं की बयानबाजी में कितना वजन होता है यह लोग समझते हैं। केवल पत्रकार ही उन्हें महत्व देते हैं।

- पंजाब से जुड़ा सवाल है। आपने बहुत सारे मुद्दों के निपटाया है। लेकिन बहुत बड़ा मुद्दा एसवाइएल का है, उस पर अभी भी विवाद बना हुआ है।

यह मुद्दा मुझे नहीं निपटाना है। इसे दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों को बैठ कर तय करना है। यह पार्टी का मुद्दा नहीं है।

- आपकी और मोदी जी की कैमिस्ट्री के बारे में कुछ बताएंगे?

हम दोनों के बीच रिश्तों को प्रधानमंत्री और पार्टी अध्यक्ष के रूप में ही देखना चाहिए।

- एक सख्त दिखने वाले व्यक्ति के पीछे का कोई नरम चेहरा भी तो होगा?

हर किसी का होता है। मैं अपने परिवार के साथ भी समय देता हूं। लेकिन वे सब व्यक्तिगत बातें हैं।

- केंद्रीय संसदीय राजनीति में आपका प्रवेश हो चुका है लेकिन केंद्र सरकार में कब दिखेंगे?

संगठन में मेरा 2019 तक का कार्यकाल है। इसके आगे कुछ भी कहने का अर्थ नहीं है।

- भाजपा सरकार भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई को बड़ा श्रेय मानती है। लेकिन लोकपाल बनाने का काम पूरा नहीं हुआ है।

घोषणापत्र पांच साल के लिए होता है। इंतजार कीजिए।

- पिछले दिनों में भाजपा का बहुत तेजी से विकास हुआ। इसके पीछे पार्टी की रणनीतिक सोच और कदम है या फिर विपक्ष की कमजोरी?

हर चीज के पीछे कई कारण होते हैं। सबका मिला जुला असर होता है।

- आजकल राहुल गांधी विदेशों में काफी कुछ बोल रहे हैं। हाल में वंशवाद पर भी बोले?

हो सकता है अगला चुनाव वहां से लड़ना चाह रहे हों।

यह भी पढ़ें: भाजपा राष्ट्रीय कार्यकारिणी में प्रमुख रहेगा आर्थिक और राजनीतिक मुद्दा

Posted By: Monika Minal