लखनऊ [अवनीश त्यागी]। चौरासी कोसी यात्रा को लेकर गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के मौन की परवाह किए बगैर विश्व हिंदू परिषद राम जन्मभूमि मंदिर मुद्दे को गर्माए रखने पर अडिग है। विहिप नेतृत्व को भरोसा है कि मंदिर मुद्दे के जरिए ही केंद्रीय राजनीति में बड़े परिवर्तन होंगे और मंदिर मुद्दा खत्म होने की बात करने वालों को ही नजरिया बदलना पड़ेगा। यात्रा पर सपा सरकार द्वारा लगाई पाबंदी को संगठन हित में मानते हुए विहिप आंदोलन का अगला चरण कामयाब बनाने को कमर कसे है।

विहिप के 129 कार्यकर्ता गिरफ्तार

विवादों में घिरी चौरासी कोसी यात्रा के प्रमुख योजनाकार व विहिप के अंतर्राष्ट्रीय महामंत्री चंपत राय ने विशेष मुलाकात में नरेंद्र मोदी पर परोक्ष रूप से निशाना साधा। यात्रा को लेकर मोदी की चुप्पी के सवाल पर उन्होंने कहा कि राममंदिर आमजन की धार्मिक एवं सांस्कृतिक भावना का विषय रहा है। इसमें किसी के मौन साधे रहने का अधिक प्रभाव नहीं पड़ेगा। अलबत्ता मंदिर मुद्दा समाप्त होने की बात करने वालों को समझ आएगा कि केंद्रीय राजनीति में इसके जरिए ही बड़े बदलाव होंगे। उन लोगों को भी जवाब मिलेगा जो मंदिर मुद्दे को 18 से 30 आयु वर्ग वाले युवाओं का विषय नहीं मानते। सोशल मीडिया से जुड़ाव रखने वाले वर्ग का जिस तरह यात्रा को समर्थन मिला, उससे हिंदुत्व के एजेंडे को बल मिलेगा।

परिक्रमा रोकने पर भड़की विहिप, प्रदर्शन

19 अगस्त से अयोध्या में भूमिगत रहकर यात्रा कायोजनाबद्घ आयोजन कर सुर्खियों में आए चंपत राय सपा सरकार द्वारा प्रतिबंध लगाए जाने को शुभ मानते है। उनका दावा है कि पाबंदी से यात्रा को हजार गुना लाभ पहुंचा और विहिप अपने उद्देश्य में पूर्णत सफल रही। इतना फायदा यात्रा को शांतिपूर्वक निकलने देने से नहीं हो पाता। तब मात्र सौ-दो सौ गांवों तक ही संदेश जाता, अब पूरी दुनिया को राम मंदिर निर्माण फिर से स्मरण हो गया।

विहिप ने बदली रणनीति, 13 सिंतबर तक हर दिन होगी गिरफ्तारी :-

सरकारी रोक के बावजूद यात्रा को जारी रखने के लिए विहिप 13 सितंबर तक हर दिन गिरफ्तारी का सिलसिला जारी रखेगी। समापन निर्धारित कार्यक्रम के मुताबिक 13 सितंबर को अयोध्या में ही होगा। इस बीच हर दिन अलग अलग क्षेत्रों से कार्यकर्ता व संत गिरफ्तारी देंगे। उन्होंने माना कि संख्या की दृष्टि से यात्रा भले ही अपेक्षित सफल न मानी जाए परन्तु माहौल बनाने में पूरी कामयाबी मिली।

चंपत राय का कहना है कि अयोध्या को केंद्र बिंदु बना कर आगामी कार्यक्रम तय होंगे। युवाओं को ध्यान में रखकर योजना तैयार होंगी ताकि 1990 के बाद की युवा पीढ़ी को राममंदिर निर्माण संकल्प से जोड़ा जा सकें। मंदिर आंदोलन का इतिहास बता निर्माण की बाधाओं के बारे में जानकारी दी जाएगी। राममंदिर निर्माण को अब कोर्ट के भरोसे नहीं छोड़ा जा सकता है। कानून के जरिए राममंदिर निर्माण कराने को संसद में विशेष विधेयक लाने के लिए दबाव बनाया जाएगा। 18 अक्टूबर को देश में एक लाख स्थानों पर संकल्प दिवस के जरिए करोड़ों हिंदू मंदिर निर्माण की शपथ लेंगे।

जाने चंपत राय को

विहिप में तोगड़िया के उत्तराधिकारी बने 67 वर्षीय चंपत राय मूल रूप से नगीना जिला बिजनौर के निवासी है। बाल्यकाल में आरएसएस से जुड़े चंपत राय भौतिक विज्ञान में परास्नातक डिग्री प्राप्त किए है। वर्ष 1986 से विहिप के विभिन्न पदों पर रहें राय ने प्रचार से दूर रहकर संगठनात्मक कार्यो में लगे रहने से विशिष्ट पहचान बना ली है। दिसंबर 2011 में विहिप में हुए संगठनात्मक बदलाव में संयुक्त महामंत्री चंपत राय को प्रवीण तोगड़िया के स्थान पर अंतर्राष्ट्रीय महामंत्री नियुक्त किया गया। बताते दे तोगड़िया अन्तर्राष्ट्रीय कार्याध्यक्ष का दायित्व संभाले हुए है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस