मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नई दिल्‍ली, [जागरण स्‍पेशल]। मध्‍य प्रदेश, राजस्‍थान और गुजरात के कुछ हिस्‍सों के लिए अगले 24 घंटे बेहद भारी गुजरने वाले हैं। हिमाचल प्रदेश में बादल फटने से भारी नुकसान हुआ है। मौसम विभाग ने अलर्ट जारी करते हुए कहा है कि सेंट्रल मध्‍य प्रदेश और राजस्‍थान के कुछ इलाकों में कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है जिससे इन इलाकों में भारी से ज्‍यादा भारी बारिश की संभावना है। वेदर एजेंसी स्‍काई मेट के मुताबिक, एक पश्चिमी विक्षोभ जम्मू-कश्मीर और इससे सटे भागों के ऊपर भी बना है। हालांकि, यह बहुत प्रभावी नहीं है। इसके अलावा दक्षिणी गुजरात और इससे सटे उत्तर पूर्वी अरब सागर के ऊपर चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना है जो भारी नुकसान पहुंचा सकता है।

हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश से हालात खराब
समाचार एजेंसी हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश से हालात खराब हो गए हैं। शिमला के बडहल गांव में राष्‍ट्रीय राजमार्ग संख्‍या पांच पर मलबा आने से आवाजाही ठप हो गई है। यही नहीं चंबा जिले में भारी बारिश के बाद हदसर से भरमौर को जोड़ने वाले 'भारंगला नाला' के पास एक पुल बह गया, जिससे मणिमहेश यात्रा अस्थायी रूप से निलंबित कर दी गई है। शिमला के उपमंडल रामपुर की बधाल पंचायत के धराली नाला में सोमवार को सुबह करीब चार बजे बादल फटा जिससे भारी नुकसान हुआ है। एक दोमंजिला मकान खतरे की जद में आ गया है। वहीं सड़क पर बड़े बड़े बोल्डर आने से एनएच-5 भी बाधित हो गया है। सड़क पर खड़े वाहन भी क्षतिग्रस्‍त हो गए हैं, कुछ वाहन मलबे में दब गए हैं। यह घटना उस वक्‍त घटी जब लोग गहरी नींद में सो रहे थे। 

मध्‍य प्रदेश पर पड़ सकती है तगड़ी मार 
स्‍काई मेट की ओर से जारी बुलेटिन में कहा गया है कि मॉनसून की अक्षीय रेखा राजस्थान से बंगाल की खाड़ी तक बनी हुई है जो मौजूदा वक्‍त में श्रीगंगानगर, अलवर, सतना, अंबिकापुर, उत्तरी ओडिशा से होकर गुजर रही है। यही नहीं बंगाल की खाड़ी में बना कम दबाव का क्षेत्र पश्चिमी उत्‍तर उत्तर पश्चिमी दिशा में आगे बढ़ रहा है। इससे अगले 24 घंटों के दौरान दक्षिण-पश्चिमी मध्य प्रदेश, इससे सटे पूर्वी गुजरात और उत्तरी महाराष्ट्र में कई जगहों पर भारी बारिश की संभावना है। इसके अलावा उत्तरी केरल, अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह में मूसलाधार बारिश हो सकती है।

जम्‍मू-कश्‍मीर में हल्‍की बारिश 
स्‍काई मेट के मुताबिक, अगले 24 घंटों में जम्मू-कश्मीर, उत्तराखंड में कुछ स्थानों पर हल्की या मध्‍यम बारिश हो सकती है। दिल्ली-एनसीआर के इलाकों में हल्‍की बारिश का अनुमान है। इसके अलावा पश्चिमी राजस्थान, सौराष्ट्र और कच्छ, तमिलनाडु, उत्तरी तेलंगाना, आंध्र प्रदेश और दक्षिणी आंतरिक कर्नाटक में भी हल्की बारिश हो सकती है। एजेंसी की ओर से जारी बुलेटिन की मानें तो पंजाब और हरियाणा में मौसम शुष्क रहेगा। हालांकि, पाकिस्‍तान से छोड़ा गया पानी पंजाब के कुछ इलाकों में लोगों की मुश्किलें बढ़ा सकता है।

55 किलोमीटर की रफ्तार से चलेंगी हवाएं 
मौसम विभाग ने झारखंड, ओडिशा, अंडमान निकोबार द्वीप समूह, कोंकण, गोवा, तटीय कर्नाटक, केरल, सौराष्‍ट्र और कच्‍छ के कुछ इलाकों में भारी बारिश का पूर्वानुमान व्‍यक्‍त किया है। इसके अलावा बिहार, दक्षिणी उत्तर प्रदेश, लक्षद्वीप, पश्चिम बंगाल और सिक्किम में भी बारिश होगी। उत्‍तर पश्चिमी अरब सागर, दक्षिण पश्चिम बंगाल की खाड़ी और अंडमान के समुद्री इलाकों में 45 से 55 किलोमीटर की रफ्तार से तेज हवाएं चलेंगी। इसलिए इन इलाकों में मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी गई है।  

दिल्‍ली/एनसीआर में ऐसा रहेगा मौसम 
मौसम का हाल बताने वाली निजी एजेंसी स्‍काईमेट के मुताबिक, दिल्ली-एनसीआर में 26 से 29 अगस्त के बीच बारिश होने के आसार हैं। उत्तर भारत में अन्य कोई वेदर सिस्टम नहीं है जो इसके मैदानी भागों में मौसम को बदल सके यानी उत्‍तर भारत में धीरे धीरे बारिश कम होती जाएगी। बंगाल की खाड़ी से आने वाली आर्द्र हवाएं नोएडा और गाजियाबाद तक पहुंच रही हैं। दिल्ली भी इन हवाओं के दायरे में होगी जिससे 28 अगस्त तक हल्‍की से मध्‍यम बारिश संभव है। 

यह भी पढ़ें : जून से अगस्त तक मानसून ने दिल्ली को दिया दगा, 33 फीसद कम हुई बारिश

यह भी पढ़ें : शिमला के बधाल में बादल फटने से एनएच-5 बंद, कई वाहन मलबे में दबे

Posted By: Krishna Bihari Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप