तिरुअनंतपुरम, एएनआइ। कोरोना वायरस (COVID-19) लॉकडाउन की वजह से एक अमेरिकी नागरिक केरल में फंसकर रह गया। वह कोरोना काल में भारत सरकार के अपने नागरिकों को लेकर लोगों रवैये से इतना खुश है कि वापस नहीं जाना चाहता। केरल के कोच्चि में पिछले पांच महीने से रह रहे 74-वर्षीय अमेरिकी नागरिक जॉनी पियर्स का कहना है कि अमेरिका में कोरोना वायरस (COVID-19)के कारण काफी अफरातफरी मची हुई है और भारत सरकार की तरह वहां की सरकार देखभाल नहीं कर रही है। ऐसे में वे यहीं रहना चाहते हैं। यही नहीं पियर्स ने अपने टुरिस्ट वीजा को बिजनेस वीजा में बदलने के लिए राज्य हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है।

पियर्स ने आगे कहा, ' मैं एक याचिका दायर कर रहा हूं ताकि मुझे केरल में 180 दिनों तक रहने और यहां एक यात्रा कंपनी शुरू करने के लिए व्यापार वीजा मिल सके। मैं चाहता हूं कि मेरा परिवार भी यहां आ जाए। यहां जो कुछ हो रहा है, उससे मैं बहुत प्रभावित हूं। अमेरिका में लोग कोरोना की परवाह नहीं करते हैं।'

केरल में अभी तक कोरोना वायरस के 6950 मामले

बता दें कि केरल में अभी तक कोरोना वायरस के 6950 मामले सामने आ गए हैं। इनमें से 3103 एक्टिव केस हैं और 3820 लोग ठीक हो गए हैं और 27 लोगों की मौत हुई है। देश में पहला मामला केरल में ही जनवरी के अंत में आया था, लेकिन सरकार ने बहुत करोना को फैलने से रोकने को लेकर बहुत प्रभावी ढंग से काम किया। वहीं, भारत में कोरोना वायरस (COVID-19) के 8,20,916 मामले सामने आ गए हैं। इनमें से 2,83,407 एक्टिव केस हैं। 5,15,386 लोग ठीक हो गए हैं और 22,123 लोगों की मौत हो गई है। वहीं दुनिया में कोरोना से सबसे ज्यादा अमेरिका प्रभावित हुआ है। यहां 30 लाख से ज्यादा मामले सामने आ गए हैं और एक लाख 30 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है। 

Posted By: Tanisk

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस