नई दिल्ली, (जेएनएन)। बीएसएफ के महानिदेशक केके शर्मा ने मंगलवार को कहा कि भारतीय सुरक्षाबलों की तरफ से पीओके में किए गए सर्जिकल स्ट्राइक मद्देनजर पश्चिमी मोर्चे पर तनाव बना हुआ है और उसने कुछ ही समय पहले भारत-पाक सीमा के बेहद करीब मानवरहित विमानों को देखा है। संपूर्ण सुरक्षा को बढ़ाने के उपायों के तहत, सीमा की सुरक्षा करने वाले बल ने बांग्लादेश के साथ लगने वाले पूर्वी मोर्चे पर भी सुरक्षा तंत्रों की तैयारी का जायजा लिया ताकि आतंकवादी भारत में घुसपैठ करने के लिए और हमले बोलने के लिए उस देश का इस्तेमाल न कर सकें।

उन्होंने कहा कि निश्चित तौर पर पश्चिमी सीमाओं पर संपूर्ण चौकसी को बढ़ा दिया गया है। रक्षा और सुरक्षाबलों के सभी प्रतिष्ठान उच्चतम अलर्ट पर हैं। पश्चिमी सीमा पर तनाव है। नियंत्रण रेखा पर लगातार दूसरी ओर से गोलीबारी हो रही है। हालांकि हम नियंत्रण रेखा पर सेना के सहायक की भूमिका में हैं।

कश्मीर मुद्दे पर अमेरिका ने फिर किया किनारा, कहा- हमारा रुख पहले जैसा

उन्होंने कहा कि बीएसएफ और उसके बांग्लादेशी समकक्ष बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश (बीजीबी) ने भारत द्वारा नियंत्रण रेखा के पार किए गए लक्षित हमलों के बाद की सुरक्षा स्थिति पर आज संपन्न हुई द्विवाषिर्क वार्ताओं के दौरान चर्चा की और दोनों ही बल ‘अत्यधिक सतर्कता’ बरत रहे हैं।

बीएसएफ के महानिदेशक ने कहा, ‘हालांकि आतंकियों द्वारा बांग्लादेश की धरती का इस्तेमाल किए जाने के बारे में कोई नई जानकारी नहीं है, भारत-बांग्लादेश सीमा पर भी सतर्कता बढ़ा दी गई है।’ हालांकि जम्मू, पंजाब, राजस्थान और गुजरात से होकर गुजरने वाली अंतरराष्ट्रीय सीमा पर ‘तनाव’ है, इन इलाकों में अभी तक संघर्ष विराम का उल्लंघन नहीं हुआ है।

पाक का नया पैंतरा, गानें सुनाकर भारतीय पायलट को परेशान कर रहे 'हैकर्स'

उन्होंने कहा, ‘हमने मानवरहित विमानों को सीमा के 100 मीटर के दायरे में आते हुए देखा है। शायद वे हमारी तैयारी की जानकारी लेना चाहते हैं लेकिन मैं आपको यकीन दिला सकता हूं कि हम करारा जवाब देने में समर्थ हैं और आतंकियों के किसी भी नापाक इरादे को कामयाब नहीं होने देंगे।’ बीएसएफ प्रमुख ने कहा कि बल ने सीमा पर गांवों को खाली कराने का कोई आदेश जारी नहीं किया है और ऐसे निर्देश राज्यों के नागरिक प्रशासनों ने जारी किए हैं।

उन्होंने कहा, ‘हम तो भारतीय किसानों को उनके खेतों तक भी जाने दे रहे हैं, जो भारत-पाक के बीच की बाड़ के पार हैं। हमने कभी गांव खाली करने के लिए नहीं कहा, लोग शायद ऐहतिहात के तौर पर चले गए हों। जो लोग चले गए थे, वे अब वापस आ रहे हैं। अब तक अंतरराष्ट्रीय सीमा पर कोई अप्रिय घटना नहीं घटी है।’

'PoK में 6 महीने की कार्रवाई से आतंकी ठिकाने हो जाएंगे हमेशा के लिए खत्म'

Posted By: Manish Negi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप