कानपुर [जासं]। कोयलामंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल के शहर आने पर व्यापारियों ने खुदरा कारोबार में विदेशी निवेश, डीजल मूल्यवृद्धि व छह रसोई गैस सिलेंडर की बाध्यता पर विरोध दर्ज कराया। शनिवार को काले झंडे लेकर उनका काफिला रोका। हालांकि कोयलामंत्री की कार फौरन दूसरे रास्ते से निकल गई। इससे पहले व्यापारियों के एक गुट ने घर जाकर मंत्री को ज्ञापन दिया।

भारत बंद के बाद भी केंद्र सरकार पर कोई असर नहीं पड़ते देख अब व्यापारियों ने मंत्रियों को घेरना शुरू किया। अखिल भारतीय उद्योग व्यापार मंडल के महामंत्री ज्ञानेश मिश्र की अगुवाई में व्यापारी केंद्रीय मंत्री को ज्ञापन देने डीएंवी कालेज गए लेकिन वहां मुलाकात नहीं हो पाई। इस पर व्यापारी उनके कार्यक्रम स्थल के पास गए। वहां से लौटते वक्त व्यापारियों ने कोयलामंत्री की फ्लीट रोक ली। फ्लेक्स लटकाए व्यापारियों ने नारेबाजी कर एफडीआइ पर विरोध जताया। वह मंत्री को ही ज्ञापन देने की मांग पर अड़े थे। इसी बीच कोयलामंत्री की कार दाहिनी ओर से उल्टी दिशा में सड़क से चली गई। कानपुर उद्योग व्यापार मंडल [श्याम बिहारी गुट] के नेताओं ने भी मंत्री के घर पहुंच ज्ञापन देकर एफडीआइ, डीजल मूल्यवृद्धि व रसोई सिलेंडर में बाध्यता वापसी की मांग की।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर