नई दिल्ली, प्रेट्र। राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के मुताबिक, 2018 में हर दिन औसतन 35 बेरोजगार और 36 स्वरोजगार करने वाले लोगों ने अपना जीवन खत्म कर लिया। इन दोनों श्रेणियों में 26,085 लोगों ने आत्महत्या की। आत्महत्या करने वालों में बेरोजगार व्यक्ति (12,936) स्वरोजगार करने वाले लोगों (13,149) से थोड़ा पीछे थे। जबकि कृषि क्षेत्र से जुड़े 10,349 ने उस साल आत्महत्या की।

 2018 में 1,34,516 लोगों ने की आत्महत्या

एनसीआरबी ने हाल में जारी एक रिपोर्ट में कहा है कि 2018 में कुल मिलाकर देश में 1,34,516 लोगों ने आत्महत्या की। यह 2017 की तुलना में 3.6 फीसद ज्यादा है। 2018 में 2017 की तुलना में प्रति लाख आत्महत्या की दर भी 0.3 फीसद ज्यादा रही। आत्महत्या करने वाली महिलाओं में गृहिणियों की दर 54.1 फीसद (42,391 में से 22,937) रही। ऐसा कदम उठाने वाले कुल लोगों की तुलना में यह आंकड़ा करीब 17.1 फीसद है।

निजी क्षेत्र में नौकरी करने वाले, छात्रों और बेरोजगारों की संख्‍या ज्‍यादा

रिपोर्ट के मुताबिक, 1,707 सरकारी कर्मचारियों ने खुदकशी की, जो आत्महत्या करने वाले कुल लोगों में 1.3 फीसद हैं। निजी क्षेत्रों में नौकरी करने वाले 8,246 लोगों ने आत्महत्या की जो कुल संख्या का 6.1 फीसद है। सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के 2,022 कर्मचारियों ने खुदकुशी कर ली, जो कुल संख्या का 1.5 फीसद है। ऐसा कदम उठाने वाले विद्यार्थियों एवं बेरोजगारों की संख्या क्रमश: 1,0159 और 1,2936 है, जो कुल संख्या का क्रमश: 7.6 और 9.6 फीसद है।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस