नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव में बिहार से बड़ी आशा लगाए बैठी भाजपा ने अपनी ताकत बढ़ाने की कवायद तेज कर दी है। सिवान और बांका जिले से आने वाले दो स्वतंत्र सांसद ओम प्रकाश यादव व पुतुल कुमारी शनिवार को भाजपा में शामिल हो गई। इसके अलावा जदयू सांसद सुशील कुमार भी पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह से दो बार मिल चुके हैं। संभावना जताई जा रही है कि जदयू के कुछ और सांसद चुनाव से पहले भाजपा का दामन थाम सकते हैं।

राष्ट्रीय परिषद की बैठक खत्म होने के दूसरे ही दिन पार्टी अध्यक्ष राजनाथ ने दोनों सांसदों को भाजपा में शामिल करा दिया। सिवान सांसद ओम प्रकाश की आत्मीयता पहले से ही संघ नेताओ से रही है, जबकि पुतुल कुमारी जदयू के पूर्व नेता दिग्विजय सिंह की पत्नी हैं। वह दूसरी बार चुनाव जीतकर लोकसभा पहुंची हैं।

राजीव प्रताप रूड़ी, शाहनवाज हुसैन, सुशील मोदी की मौजूदगी में राजनाथ ने दोनों सांसदों को सदस्यता दी और कहा कि कांग्रेस पहले ही पराजय स्वीकार कर चुकी है। नरेंद्र मोदी हर किसी की पसंद हैं और इसका असर बिहार में भी दिखेगा। बिहार में जदयू से अलगाव के बाद त्रिकोणीय हो रहे मुकाबले को देखते हुए भाजपा इसका फायदा उठाने की कोशिश में जुट गई है।

मोदी के तीखे बाण, जानिए भाषण की दस बातें

जनता नहीं भूल सकती है गुजरात दंगे: नीतीश

सूत्रों का कहना है कि जदयू सांसद सुशील के भाजपा में शामिल होने का मामला मनचाही सीट को लेकर अटका हुआ है। दरअसल, भाजपा दूसरे दलों से आए सिर्फ उन सांसदों को ही टिकट देना चाहती है जिसके खिलाफ बड़े आरोप नहीं रहे हों और जातिगत समीकरण के साथ-साथ सामाजिक कामकाज में उनकी भूमिका रही हो। अन्यथा पार्टी अपने कैडर से ही उम्मीदवार चुनेगी।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस