1- ताजा खबरः अरविंद केजरीवाल के सामने ही दिल्ली के मुख्य सचिव को थप्पड़ मारने का आरोप, मचा हंगामा

नई दिल्ली। इसी महीने की 14 फरवरी को दिल्ली में सरकार के तीन का जश्न मनाने वाली आम आदमी पार्टी (AAP) सरकार मंगलवार को नए विवाद में घिर गई, जब चीफ सेक्रेटरी को थप्पड़ मारने की घटना सामने आई। बताया जा रहा है कि जब चीफ सेक्रेटरी को थप्पड़ मारा गया तो दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल वहां पर मौजूद थे। जहां सीएम अरविंद केजरीवाल ने ऐसे किसी भी घटना से साफ इनकार किया है, वहीं चीफ सेक्रेटरी ने आम आदमी पार्टी (AAP) के विधायकों पर थप्पड़ मारने और अपशब्द का प्रयोग करने का आरोप लगाया है।

पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां पर क्लिक करें

2- पीएम नरेंद्र मोदी को भी नहीं मिला होटल में कमरा, करना पड़ा वैकल्पिक इंतजाम

मैसूर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके कर्मचारियों को मैसूर यात्रा के दौरान होटल ललिता महल पैलेस में कमरा नहीं मिल सका। एक वैवाहिक कार्यक्रम के लिए सारे कमरे बुक हो चुके थे। इसके चलते जिला प्रशासन को प्रधानमंत्री के लिए एक दूसरे होटल में ठहरने का इंतजाम करना पड़ा। होटल के महाप्रबंधक जोसेफ मैथियास ने सोमवार को बताया कि उपायुक्त के कार्यालय से एक अधिकारी प्रधानमंत्री, उनके कर्मचारियों और सुरक्षा कर्मियों के लिए कमरों का इंतजाम करने आया था। लेकिन, रविवार को एक वैवाहिक रिसेप्शन के लिए होटल के ज्यादातर कमरे बुक हो चुके थे। सिर्फ तीन कमरे खाली थे। प्रधानमंत्री के कर्मचारियों और सुरक्षा बलों की संख्या को देखते हुए इतने कमरों को पर्याप्त नहीं समझा गया।

पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां पर क्लिक करें

3- UNICEF की चिंताजनक रिपोर्ट, भारत में हर साल जन्म के 28 दिनों के भीतर हो जाती है 6 लाख नवजातों की मौत

नई दिल्ली। विश्व भर में नवजातों की मृत्युदर के बढ़ते आंकड़े बेहद चिंताजनक है। विश्व के एक चौथाई नवजातों की मौत केवल भारत में हो जाती है। भारत में हर साल जन्म के 28 दिन के भीतर 6 लाख नवजातों की मौत हो जाती है। भारत में नजवातों की मौत के ये आंकड़े विश्व में सबसे ज्यादा है। यूनिसेफ के द्वारा जारी की गई नई रिपोर्ट से इस बात का पता चलता है जो काफी चिंताजनक है। रिपोर्ट में ये कहा गया है कि 80 फीसदी इन मौतों का कोई गंभीर कारण नहीं है। दूसरी तरफ रिपोर्ट ये भी कहती है कि भारत में पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों की मृत्यु दर कम हुई है। भारत में 60,000 नवजात की मौत हर साल होती है जो वैश्विक आंकड़े का एक चौथाई है। यूनिसेफ की रिपोर्ट ‘एवरी चाइल्ड अलाइव’ में ये बातें कही गई है।

पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां पर क्लिक करें

4- नीरव मोदी ने पंजाब नेशनल बैंक को लिखा पत्र, बकाया चुकाने से इन्कार

मुंबई। भारत में बैंकिंग इतिहास का सबसे बड़ा घोटाला करने के बाद नीरव मोदी अब धमकी पर उतर आया है। उसने कहा है कि जल्दबाजी में बातों को सार्वजनिक कर पीएनबी ने बकाया वसूली के अपने सारे रास्ते खुद बंद कर लिए हैं। उसने यह भी कहा है कि बैंक जितना बता रहा है, बकाया रकम उससे बहुत कम है। मोदी ने 15/16 फरवरी को पत्र लिखकर बैंक प्रबंधन को अपने इरादों के बारे में बता दिया है। इसमें उसने कहा है कि उसके पास 5,000 करोड़ रुपये से भी कम का बकाया है। इस पत्र में नीरव मोदी ने कहा है कि कर्ज की जानकारी मीडिया में आने के बाद मेरी कंपनियों के खिलाफ छापेमारी और संपत्ति जब्त करने का सिलसिला शुरू हो गया। इसने बैंकों का बकाया चुकाने की मेरी क्षमता खत्म कर दी है।

पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां पर क्लिक करें

5- इलाज के लिए अमेरिका भेजे जा सकते हैं गोवा के मुख्यमंत्री, इस बीमारी से हैं परेशान

पणजी। गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर को इलाज के लिए अमेरिका ले जाया जा सकता है। पाचन तंत्र संबंधी तकलीफ होने के बाद मुख्यमंत्री को मुंबई के लीलावती अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उनका इलाज चल रहा है। गोवा विधानसभा के उपाध्यक्ष मिखाएल लोबो ने सोमवार को विधानसभा परिसर में कहा कि जरूरत पड़ने पर मुख्यमंत्री को अमेरिका ले जाया जा सकता है। उन्होंने कहा, 'हम उन्हें चाहते हैं। हम वह सब करेंगे जो कर सकते हैं। अगर जरूरत पड़ी तो उन्हें अमेरिका भी ले जाया जा सकता है।' तकलीफ होने पर पर्रीकर को 15 फरवरी को लीलावती अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां पर क्लिक करें

6- विदेश में विवाहित बेटी का वीजा जब्त, नौकरी छिनी; लोन लेकर बेसहारा बेटी की मदद को पहुंचा पिता

बिलासपुर। अमेरिका का बाल्टीमोर शहर, जहां न कोई जानने वाला और न किसी मदद की उम्मीद। वहां चार वर्ष के मासूम बेटे के साथ एक भारतीय मां बीते 8 महीने से बिना वीजा के रह रही है। कोर्ट के आदेश पर पासपोर्ट, वीजा जब्त होने के बाद अब उसकी नौकरी भी चली गई है। पति व ससुराल वालों ने पहले ही मुंह फेर लिया है। इधर, अपनी बेटी की विवशता देख बैंककर्मी पिता से रहा नहीं गया। उन्होंने बैंक से छुट्टी ली और बेटी का हाल जानने अमेरिका रवाना हो गए हैं। इतना ही नहीं, बीते एक साल से वह अपनी गाढ़ी कमाई का पूरा हिस्सा बेटी व मासूम नाती का जीवन बचाने में खर्च कर रहे हैं। अब तक एक करोड़ रुपये से भी अधिक की राशि खर्च हो चुकी है। पीडि़त परिवार ने मदद के लिए अब पीएम नरेंद्र मोदी व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को ट्वीट किया है।

पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां पर क्लिक करें

7- बिहार में रेलवे में लाशों के नाम पर बड़ा घोटाला, जानिए कैसे खुली पोल

पटना। पूर्व मध्य रेलवे के क्लेम ट्रिब्यूनल में यात्रियों की मौत पर मिलने वाले मुआवजे (डेथ क्लेम) के नाम पर बड़ी हेराफेरी का मामला उजागर हुआ है। सितंबर 2015 से अगस्त 2017 के बीच ट्रेन से गिरे या फिर कटने से होने वाली मौतों पर मिलने वाली मुआवजे की राशि में यह घोटाला किया गया है। इस वित्तीय गड़बड़ी का पता तब चला जब दिल्ली से कैग (सीएजी) की ऑडिट टीम जांच करने ट्रिब्यूनल पहुंची। ऑडिट में पता चला कि दो साल में मुआवजे के संबंध में जितने भी आदेश जारी किए गए हैं, उनमें अधिसंख्य मामलों में भुगतान करने का आदेश मिलने के बाद जांच रिपोर्ट भेजी जाती थी। मनमर्जी का आलम यह था कि घटना बेगूसराय की है तो जांच रिपोर्ट बक्सर रेल पुलिस द्वारा भेजी जाती थी।

पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां पर क्लिक करें

8- जानिए कैसे हुआ रोटोमैक घोटालाः विक्रम कोठारी पर इन दो तरीकों से बैंकों को चूना लगाने का आरोप

नई दिल्ली। पीएनबी में 11,400 करोड़ रुपये का घोटाला उजागर होने के एक हफ्ते के भीतर रोटोमैक पेन बनाने वाली कंपनी के मालिक विक्रम कोठारी 3,695 करोड़ रुपये के घोटाले के आरोप में घिर गए हैं। बैंक ऑफ बड़ौदा की शिकायत पर तत्काल कार्रवाई करते हुए सीबीआइ और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने उनके खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। इसके साथ ही दोनों जांच एजेंसियों ने बिक्रम कोठारी के ठिकानों पर छापा भी मारा। सीबीआइ ने विक्रम कोठारी, पत्नी साधना कोठारी और बेटा राहुल कोठारी के साथ-साथ बैंक अधिकारियों को भी आरोपी बनाया है। सीबीआइ प्रवक्ता अभिषेक दयाल के अनुसार, बैंक ऑफ बड़ौदा ने रोटोमैक ग्लोबल के निदेशकों पर फर्जी दस्तावेजों के सहारे 616.69 करोड़ रुपये लेने का आरोप लगाया है। इस साजिश में बैंक के भी कुछ अधिकारियों की मिलीभगत हो सकती है।

पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां पर क्लिक करें

9- 'बड़े घरानों को लोन देने के बजाय बैंक गरीबों पर लगाएं दांव, पैसा नहीं डूबेगा'

नई दिल्ली। बैंकों से ऋण लेकर खुद को विदेश भाग जाने और दिवालिया घोषित करने वाले बड़े घरानों के मुकाबले देश के छोटे उद्यमियों और गरीबों का प्रदर्शन शानदार है। केंद्रीय ग्रामीण विकास सचिव अमरजीत सिंह ने बैंकों से कहा कि वे इस प्रदर्शन के आधार पर गरीबों की वित्तीय जरूरतों को पूरा करने के लिए उन पर दांव लगायें। उनका पैसा नहीं डूबेगा। स्वयं सहायता समूह बनाकर अपनी स्थिति मजबूत बनाने की कोशिश में जुटे गरीब कर्ज चुकाने का माद्दा रखते हैं।

पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां पर क्लिक करें

10- ब्याज नहीं दिया तो फिर बाउंस हुआ मप्र के मंत्री पटवा का चेक, मामला दर्ज
इंदौर। मप्र के पर्यटन मंत्री सुरेंद्र पटवा का चेक फिर बाउंस हो गया। उन्होंने इंदौर की एक फर्म से ब्याज पर 10 लाख रुपये उधार लिए थे। इसकी अदायगी के लिए जो चेक दिया वह बैंक से वापस आ गया। रुपये उधार देने वाली फर्म ने जिला कोर्ट में पटवा के खिलाफ परिवाद दायर किया। कोर्ट ने सोमवार को प्रकरण दर्ज करते हुए मंत्री को समन जारी कर दिया। सुनवाई सात मार्च को होगी। इंडस्टि्रयल एरिया पोलोग्राउंड स्थित हरीश ट्रेडर्स से मंत्री पटवा ने 15 जून 2015 को 10 लाख रुपये उधार लिए थे। ब्रोकर के जरिये उधार ली गई इस रकम पर 15 प्रतिशत वार्षिक दर से ब्याज देना तय हुआ था। 31 मार्च 2017 तक तो पटवा ने नियमित रूप से ब्याज दिया, लेकिन बाद में बंद कर दिया।
पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां पर क्लिक करें
 

By Manoj Yadav