कोलकाता [जागरण न्यूज नेटवर्क]। हावड़ा संसदीय सीट पर मिली जीत से उत्साहित बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि उनकी पार्टी तृणमूल को कांग्रेस की जरूरत नहीं है। जनादेश देकर लोगों ने यह संदेश दे दिया है कि तृणमूल को अकेले चलना है। अपनी हार पर माकपा व कांग्रेस ने कहा है कि भाजपा ने तृणमूल को जीता का तोहफा दिया है।

बुधवार को ममता ने कहा, कांग्रेस को हमारी आवश्यकता है। हमें कांग्रेस की नहीं। हमारी जीत ने जनता के साथ गठबंधन को दर्शाया है। तृणमूल ने प्रणब मुखर्जी के राष्ट्रपति बनने के बाद खाली हुई संसदीय सीट पर अपना उम्मीदवार नहीं उतारा था, लेकिन कांग्रेस ने हावड़ा पर अपना उम्मीदवार उतार दिया। मालूम हो कि हावड़ा संसदीय सीट तृणमूल सांसद अंबिका बनर्जी के निधन की वजह से रिक्त हुई थी।

तृणमूल की इस जीत पर माकपा के केंद्रीय समिति के सदस्य मुहम्मद सलीम ने कहा कि भाजपा के चुनाव में शामिल न होने से तृणमूल को लाभ मिला। चुनाव में तृणमूल ने वोटरों को दूसरों को वोट न देने के लिए डराया भी था। कांग्रेस ने अपनी पराजय के लिए सांगठनिक कमजोरी को कारण बताया है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रदीप भंट्टाचार्य ने कहा कि हार के कारणों की समीक्षा की जाएगी। कांग्रेस प्रवक्ता शकील अहमद ने तृणमूल की इस जीत को भाजपा का तोहफा करार दिया और कहा कि भाजपा ने ममता को खुश करने के लिए अपना उम्मीदवार चुनाव में नहीं उतारा।

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष राहुल सिन्हा ने माना कि उनकी पार्टी की ओर से हावड़ा उपचुनाव में उम्मीदवार वापस लेने के फैसले से तृणमूल को मदद मिली और वह चुनाव जीत गई। उन्होंने उपचुनाव में तृणमूल उम्मीदवार के जीत के काफी कम अंतर को तृणमूल के लिए आने वाले दिनों में खतरे की घंटी करार दिया।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस