नई दिल्ली, एएनआई। सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया में नौकरी ना मिलने पर ट्रांसजेंडर शानवी ने राष्ट्रपति से इच्छा मृत्यु की मांग की है। उन्होंने इसके लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को चिट्टी भी लिखी है।

एयर इंडिया पर उनके जेंडर की वजह से नौकरी ना देने का आरोप लगाने वाली शानवी ने कहा कि ट्रांसजेंडर के लिए कोई कैटेगरी नहीं है लेकिन, क्या मुझे टैक्स में छूट मिलती है। मुझे ये चुकाना पड़ता है। मेरे पास योग्यता और अनुभव है, क्या यह मेरे जेंडर के लिए है। वहीं किसी दूसरी एयरलाइन कंपनी ज्वाइन करने के सवाल पर शानवी ने कहा 'मैंने किसी और कंपनी में नौकरी के लिए आवेदन नहीं किया क्योंकि अगर सरकारी कंपनी में ही ट्रांसजेंडर के लिए कोई कैटेगरी नहीं है, तब आप प्राइवेट एयरलाइंस से क्या उम्मीद कर सकते हैं? अब मेरा जीना और मरना राष्ट्रपति के हाथों में हैं।

बतादें कि शानवी पोन्नुस्वामी ने एयर इंडिया में केबिन क्रू के सदस्य के तौर पर नौकरी के लिए आवेदन किया था। बीते साल नवंबर में उन्होंने मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट का रुख किया था। कोर्ट ने इसको लेकर एयर इंडिया और नागरिक विमानन मंत्रालय से चार हफ्ते के भीतर जवाब भी मांगा था। शानवी ने दावा किया है कि अभी तक एयर इंडिया और मंत्रालय ने सुप्रीम कोर्ट के नोटिस का जवाब नहीं दिया है। 

Posted By: Manish Negi