नई दिल्ली। बरेली दंगा भड़काने के आरोपी मुस्लिम नेता तौकीर रजा और आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल की मुलाकात विवादों में आ गई है। इस मुलाकात पर सवाल उठने लगे हैं। केजरीवाल ने बरेली जाकर तौकीर रजा से समर्थन की मांग की थी। एक इलेक्ट्रॉनिक मीडिया से बातीचत करते हुए तौकीर ने आज साफतौर पर कहा कि वे केजरीवाल का समर्थन करते हैं।

पढ़ें : दरगाह पर नए गठबंधन का ताना-बाना

गौरतलब है कि अरविंद केजरीवाल शुक्रवार को बरेली पहुंचे थे। उन्होंने यहां मौलाना तौकीर रजा खां से मुलाकात कर दिल्ली चुनाव के प्रचार में मदद व समर्थन मांगा था। साथ ही यह भी कहा कि सभी ईमानदार ताकतें एक साथ इकट्ठी होनी चाहिए।

मौलाना तौकीर रजा खान आप के समर्थन में दिल्ली में जनसभाएं करने के लिए राजी हो गए हैं। मार्च 2010 में बरेली में हुए दंगों को भड़काने के आरोप में तौकीर रजा खान की गिरफ्तारी हुई थी। तौकीर को जब रिहा किया गया था, उसके बाद दंगे फिर भड़के थे। हालांकि इस मामले पर तौकीर रजा ने कहा कि आरोप लगने से कोई अपराधी नहीं बन जाता।

दिल्ली चुनाव से जुड़ी और खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

इतना ही नहीं, तस्लीमा और जॉर्ज बुश के खिलाफ फतवा जारी करने में भी तौकीर रजा का नाम शामिल था। हालांकि इस मामले पर तौकीर का साफ-साफ कहना है कि उन्होंने किसी भी प्रकार का फतवा जारी नहीं किया था।

इस समय तौकीर उत्तर प्रदेश सरकार के स्टेट हैंडलूम कॉरपोरेशन के उपाध्यक्ष हैं। उन्हें राज्य मंत्री का दर्जा मिला हुआ है। तौकीर की अपनी एक राजनीतिक पार्टी इत्तेहाद मिल्लत कौंसिल (आईएमसी) भी है, जिसने 2012 के विधानसभा चुनाव में एक सीट भी जीती थी।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट