टी.सूर्याराव, भिलाई। बेमौसम बारिश से खेतों में लगी टमाटर की फसल खराब होने से बाजार में मांग की अपेक्षा आपूर्ति कम हो गई। नतीजा यह हुआ कि पिछले साल महज 10 रुपये प्रति किलो बिकने वाले टमाटर का भाव इस बार 80 से 100 रुपये तक पहुंच गया था। हालांकि मौसम में सुधार के बाद आवक बढ़ने से अब थोक बाजार में भाव गिरकर 50 रुपये किलो हो गया है, जबकि खुदरा सब्जी मंडी में 60 रुपये किलो है। अभी भी टमाटर पिछले साल की तुलना में पांच गुना अधिक कीमत पर बिक रहा है।

थोक सब्जी विक्रेता संघ, दुर्ग के अध्यक्ष रितेश टांक ने बताया कि इस बार टमाटर की फसल पर बेमौसम बारिश की ऐसी मार प़़ड़ी कि उत्पादन आधे से भी कम हो गया। इसके कारण भाव आसमान छू रहे हैं। बेंगलुर में दो पीस टमाटर 18 रुपये में बिक रहा है, जबकि दिल्ली में भाव 100 रुपये प्रति किलो तक पहुंच चुका है। छत्तीसग़़ढ़ में भी टमाटर 80 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गया था। टांक ने बताया कि आवक बढ़ने के बाद थोक बाजार में भाव गिरकर 50 रुपये आ गया है। उन्होंने बताया कि दुरुर्ग जिले के दुर्ग, धमधा और अहिवारा के खेतों में इस बार टमाटर की अच्छी खेती हुई है। अगले सप्‍ताह यह बाजार में आ जाएगा। इसके बाद टमाटर के भाव में गिरावट आने की उम्मीद है।

विवाह समारोह में मांग से भी चढ़ा भाव

सब्जी विक्रेता सुपेला मोहम्मद शब्बीर ने बताया कि राज्य में कोरोना महामारी का दौर लगभग समाप्‍त हो गया है । इसके कारण शादी-विवाह भी होने लगे हैं। विवाह समारोह के प्रीति भोज में टमाटर का सलाद और हर सब्जी में इसका उपयोग होने से इसके दाम और मांग दोनों बढ़े हुए हैं। इस समय वह टमाटर 60 रुपये किलो बेच रहा है। उसने थोक बाजार से 50 रुपये किलो खरीदा है।

Edited By: Arun Kumar Singh