नेल्लौर [आंध्र प्रदेश]। तमिलनाडु एक्सप्रेस में लगी भीषण आग की घटना में साजिश की बू आ रही है। सोमवार को सुबह लगी इस भीषण आग में 35 लोग जलकर स्वाहा हो गए। इस घटना की जांच कर रही फोरेंसिक टीम ने इस तरह की आशंका जताई है। ट्रेन में आग लगने की जांच कर रही टीम के मुताबिक उसको एस 11 कोच की जांच में कुछ ऐसे सबूत मिले हैं जो इस ओर इशारा कि यह घटना सुनियोजित साजिश का हिस्सा थी।

जांच दल ने इस हादसे में घायल और कुछ प्रत्यक्षदर्शियों से भी बात की है। इस पूछताछ में उन्हें पता लगा है कि कुछ यात्रियों ने आग लगने से पहले एक धमाके की आवाज सुनी थी। अब इस हादसे की जांच कर रही टीम प्रत्यक्षदर्शियों के इस बयान के मद्देनजर भी काम कर रही है।

दक्षिण मध्य रेलवे के पीआरओ फ्रेडरिक आर मिशेल ने इस बात को स्वीकारा है कि कुछ यात्रियों ने आग लगने से पहले एक धमाके की आवाज सुनी थी। इसके अलावा एस 11 कोच में से आ रही बदबू भी ऐसी नहीं थी जैसे की शार्ट सर्किट से लगी आग की होती है।

तमिलनाडु एक्सप्रेस में हादसे के दौरान एस 11 बोगी में सवार यात्री पी बंसल ने बताया कि उन्होंने बोगी में शार्ट सर्किट की खबर सुनी थी लेकिन उन्हें याद है कि उन्होंने एक चिंगारी आग लगने की जगह से निकलती हुई देखी थी। बंसल ने बताया कि उन्होंने आग लगने की जगह पर कुछ युवाओं को खड़ा देखा था जिनका व्यवहार भी कुछ संदेहास्पद था।

गौरतलब है कि तमिलनाडु एक्सप्रेस में आग सुबह करीब 4:15 बजे लगी थी जिसपर साढे पांच बजे तक काबू भी पा लिया गया था। इस हादसे में 32 यात्रियों की मौत हो गई थी जबकि 28 यात्री घायल हो गए थे। फोरेंसिक टीम के शक को मुकुल राय ने भी बेबुनियाद नहीं कहा है। उन्होंने बताया कि उनके पास इस घटना के बाबत रेलवे के डीआरएम का फोन आया था जिसने उन्हें ट्रेन में धमाका होने की बात कही थी। वहीं रेलवे क्रासिंग पर मौजूद गेटमैन ने भी एक धमाके की बात स्वीकार की है। रेल मंत्री ने इस घटना की जांच के लिए एक उच्चस्तरीय कमेटी भी गठित की है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस