नई दिल्ली, जागरण स्पेशल। सोशल मीडिया पर इन दिनों ‘स्कल ब्रेकर चैलेंज’ से जुड़े वीडियो लगातार सामने आ रहे हैं। बच्चे इस चुनौती को स्वीकार करके खुद को नुकसान पहुंचा दे रहे हैं। उनकी यह चुनौती अभिभावकों पर भारी पड़ रही है। इसे लेकर वे चिंतित हैं। ऐसे में बच्चों को इस खेल के प्रति जागरूक किए जाने की जरूरत महसूस की जा रही है।

यह है चैलेंज

यह चैलेंज वीडियो शेयर एप टिकटॉक के जरिए काफी लोकप्रिय हो चुका है। इसमें तीन लोग साथ में खड़े होते हैं।

वे साथ में उछलते हैं और जब वे हवा में ही होते हैं उसी वक्त दोनों ओर खड़े लोग बीच वाले शख्स के पैरों में पांवों को मारकर के उसका संतुलन बिगाड़ देते हैं और वो शख्स गिर जाता है। बहुत बार इसे एक प्रैंक की तरह किया जाता है और कई बार चुनौती के रूप में।

यह है नाम

इस चुनौती का नाम स्पेनिश शब्द ‘रोमकप्रेनेस’ या अंग्रेजी में ‘स्कलब्रेकर’ से लिया गया है। अभी तक यह ज्ञात नहीं है कि पहला वीडियो कहां से आया लेकिन वायरल पहले वीडियो में एक को वेनेजुएला के एक स्कूल में रिकॉर्ड किया गया था। इसके बाद यह यूरोप और अमेरिका में चलन में आया। अब यह भारत तक भी पहुंच चुका है।

इसलिए चिंता का सबब

इस चैलेंज का नाम ही इससे होने वाले संभावित नुकसान की कहानी कह देता है। इसके दौरान गिरने के कारण

सिर में चोट आ सकती है या फिर जोड़ों में चोट लग सकती है। इससे कारण आपकी खोपड़ी तक टूट सकती है। दुनिया भर से इस चुनौती के चलते गंभीर रूप से चोटिल होने वाले लोगों के मामले सामने आ रहे हैं।

बच्चों को जागरूक करना जरूरी

बच्चों के परिजन इस तरह के चैलेंज के सामने आने के बाद काफी चिंतित हैं। परिजन डर रहे हैं कि कहीं उनके बच्चे इस प्रवृत्ति का शिकार हो सकते हैं और खुद को घायल कर सकते हैं। ऐसे में उन्हें अपने बच्चों से बात करनी चाहिए। साथ ही ऐसे किसी भी चैलेंज में भाग लेने से दूर रखने के लिए कहा जाना चाहिए। साथ ही यदि यह प्रैंक के रूप में हो तो बच्चों को इतनी समझ दी जानी चाहिए कि वे इस तरह के प्रैंक को समझ सकें और खुद को इससे बचा सकें।

कई और चुनौतियों ने किया परेशान

यह पहली बार नहीं है जब इस तरह के किसी ऑनलाइन ट्रेंड ने चिंता पैदा की है। सोशल मीडिया पर इस तरह के कई खतरनाक स्टंट प्रैंक और चुनौती के नाम पर सामने आते रहते हैं। इससे पहले भी कई चुनौतियां सामने आ चुकी हैं।

दालचीनी चैलेंज

इसमें पिसी हुई दालचीनी को एक चम्मच में रखकर के 60 सेकेंड तक मुंह में रखना होता था। दालचीनी के कारण मुंह सूख जाता था और खांसी और उल्टी जैसी स्थिति बन जाती थी। वहीं निमोनिया और फेफड़ों के काम करना बंद कर देने का खतरा भी रहता है।

किकी चैलेंज

यह कनाडाई हिप-हॉप सुपरस्टार डे्रक के हिट गाने ‘इन माई फीलिंग्स’ पर आधारित था। इसमें सड़क पर

चल रही कार के साथ चलते-चलते नृत्य करना होता है और फिर वापस कार में आना होता है। इस क्रम में दुर्घटना के पूरे आसार बने रहते थे।

आउटलेट चैलेंज

ये सबसे खतरनाक चैंलेंज था। जिसमें लोग सॉकिट और प्लग के बीच सिक्का रखकर के तमाशा देखते थे। बेहद मूर्खतापूर्ण इस चैलेंज को करने से भी बहुत से लोग बाज नहीं आए। इससे आग लगने का खतरा था।

आइस बकेट चैलेंज:

इस चुनौती में आपको अपने शरीर पर बर्फ से भरी एक बाल्टी उडे़लनी होती थी। कई बार ऐसा लोग बिना बताए भी कर देते थे।

Posted By: Sanjeev Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस