जागरण संवाददाता, जयपुर। राजस्थान में सवाईमाधोपुर स्थित रणथंभौर सेंचुरी में बढ़ते मानवीय दखल से वन्यजीवों का स्वभाव उग्र होने लगा है। इसका प्रत्यक्ष उदाहरण शनिवार शाम को देखने को मिला। यहां जब पर्यटकों से भरा एक कैंटर सेंचुरी में भ्रमण के लिए पहुंचा तो एक बाघिन उग्र हो गई। बाघिन ने कैंटर के पीछे दौड़ लगानी शुरू कर दी। इससे कैंटर में बैठे पर्यटकों को होश उड़ गए, गनीमत रही कि इस दौरान कोई बड़ा हादसा नहीं हुआ।

बाघिन पर्यटकों को देखकर उग्र हो गई

यह घटना सेंचुरी के जोन नंबर एक की है। यहां पर्यटकों से भरा कैंटर जंगल में भ्रमण पर गया था। पर्यटकों को बाघिन सुल्ताना के दीदार हुए तो वे उसे देखकर खासा रोमांचित हुए। पर्यटक अपने कैमरे और मोबाइल से बाघिन की फोटो कैद कर रहे थे। लेकिन कुछ ही सेकंड में बाघिन पर्यटकों को देखकर उग्र हो गई और कैंटर की तरफ दौड़ने लगी। यह देखकर पर्यटकों को होश उड़ गए।

रणथंभौर सेंचुरी में बाघों द्वारा इंसानों पर हमले

बाघिन को उग्र देखकर कैंटर चालक ने उसकी स्पीड बढ़ा दी, लेकिन बाघिन सुल्ताना कैंटर के साथ-साथ दौड़ती रही। इससे पर्यटकों की धड़कनें तेज हो गईं। काफी दूर जाने के बाद बाघिन में कैंटर का पीछा छोड़ा। इससे पहले भी यह बाघिन पर्यटकों के वाहनों का पीछा कर चुकी है। रणथंभौर सेंचुरी में इस साल बाघों द्वारा इंसानों पर हमले की कई घटनाएं हुई हैं। अब तक चार लोग बाघों के हमले में जान गंवा चुके और चार बुरी तरह घायल भी हुए हैं।

बढ़ता मानवीय दखल

बाघों के स्वभाव में आए बदलाव का मुख्य कारण बढ़ता मानवीय दखल और क्षमता से अधिक संख्या होना भी है। सेंचुरी में बाघों की संख्या शावकों सहित 71 के पार जा पहुंची है, जबकि यहां मात्र 40 बाघों की ही क्षमता है।

गहलोत सरकार पूरा करेगी 15 दिन बाद एक साल का कार्यकाल

15 दिन बाद एक साल का कार्यकाल पूरा कर रही राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार अब एक्शन मोड़ में आ गई है। सीएम गहलोत ने तय किया है कि वे प्रति सप्ताह जयपुर में जनसुनवाई करेंगे और बाहर जिलों की यात्रा के दौरान भी आम जन से मुलाकात करेंगे। वहीं जिलों के प्रभारी मंत्रियों को माह में दो बार अपने प्रभार वाले जिलों का दौरा करने के निर्देश दिए गए हैं। मंत्रियों को अपने प्रभार वाले जिलों का दौरा करने के साथ ही अपने गृह जिलों के आम लोगों एवं कांग्रेस कार्यकर्ताओं से भी मिलकर उनकी समस्याओं का समाधान कराना होगा।

Posted By: Bhupendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप