नई दिल्ली, प्रेट्र। दुनियाभर में इस समय कोरोना वायरस का कहर जारी है। हाल में आई रिपोर्ट ने लोगों की चिंताओं को और बढ़ा दिया है। अब तक विश्व में लगभग 60 हजार लोगों की जान जा चुकी है। लोगों के साथ अब जानवर भी इस बीमारी की चपेट में आ रहे हैं। अमेरिका के न्‍यूयॉर्क राज्‍य में एक टाइगर को कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया है। दावा किया जा रहा है कि इंसानों से जानवरों बीच संक्रमण फैलने का यह पहला मामला है। विशेषज्ञों ने चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर दुनिया के अन्य देशों में भी जानवरों में संक्रमण फैलता है तो स्थिति ज्यादा खराब हो सकती है। वहीं भारत ने पूरे देश में स्थित चिड़ियाघरों को एडवाइजरी जारी करते हुए अतिरिक्त सतर्कता बरतने के निर्देश जारी किया है।

अमेरिका में मादा टाइगर कोरोना से संक्रमित 

न्‍यूयॉर्क के ब्रोन्‍क्‍स जू में एक मादा टाइगर में कोरोना वायरस के संक्रमण की पुष्टि हुई है। नादिया नाम के इस मलेशियाई टाइगर और तीन अन्‍य बाघों को सूखी खांसी आने के बाद उसकी कोरोना जांच की गई थी। इस जांच में नादिया को कोरोना पॉजिटिव पाया गया। ब्रोनक्स चिड़ियाघर के वाइल्डालाइफ कन्जरवेशन सोसाइटी ने एक बयान जारी करके इसकी जानकारी दी।

भारत ने भी चिड़ियाघरों को जारी की चेतावनी

भारतीय केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण ने देश के सभी चिड़ियाघरों को चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि वे अतिरिक्त सतर्कता बरतें और किसी भी असामान्य व्यवहार के लिए सीसीटीवी के माध्यम से जानवरों की सतत निगरानी करें।

विश्व पशु स्वास्थ्य संगठन ने पालतू जानवरों को घर के अंदर ही रखने को कहा 

विश्व पशु स्वास्थ्य संगठन ने भी अपनी रिपोर्ट में कहा है कि इस बात का कोई सबूत नहीं है कि संक्रमित जानवर अपने द्वारा संक्रमण को और ज्यादा जानवरों में फैला सकते हैं। हालांकि उन्होंने यह भी सुझाव दिया कि पालतू जानवरों के मालिक उन्हें जितना हो सके घरों के अंदर ही रखें।

पहले भी एक बिल्ली और दो कुत्तों को हो चुका है संक्रमण

बेल्जियम में मार्च के अंत में एक पालतू बिल्ली भी कोरोना वायरस से संक्रमित पाई गई थी। इसके अलावा हॉन्ग कॉन्ग में भी इसी तरह के दो मामले सामने आए थे, जहा दो कुत्ते कोरोना वायरस से संक्रमित मिले थे। इन सभी जानवरों के बारे में कहा गया था कि ये अपने मालिकों के संपर्क में आने के कारण संक्रमित हो गए थे।

यूपी के सम्भल में 12 बंदरों की मौत से दहशत

यूपी के सम्भल जिले के थाना बहजोई क्षेत्र के गांव में सोमवार शाम तालाब के पास और मकानों की छतों पर 12 बंदर मृत पाए गए। एक सप्ताह से लगातार एक दो बंदरों की मौत से ग्रामीणों में दहशत है। पशु चिकित्सक डा. नीरज गौतम ने बताया कि तेज बुखार होने के कारण फेफड़े फूलने से बंदरों की मौत हो रही है। पशु चिकित्सक की सूचना पर पहुंचे वन क्षेत्राधिकारी नजाकत हुसैन ने मृत बंदरों का पोस्टमार्टम और बीमार बंदरों के इलाज के लिए कहा है। बंदरों के शवों को परीक्षण के लिए भेजा गया है।

ग्रामीणों ने वन विभाग के अधिकारियों को बताया कि भटपुरा मुहल्ले में बंदरों में अज्ञात बीमारी फैल जाने के कारण अब तक करीब 25-30 बंदरों की मौत हो चुकी है। एक सप्ताह पहले एक बंदर की मौत हुई थी, जिसे जमीन में दबा दिया गया था। उसके बाद रोजाना एक-दो बंदर मरने लगे।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस