मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

उदयपुर, जेएनएन। राजसमंद जिले में देसूरी की नाल में शुक्रवार को हुए भीषण हादसे में मृत नौ जनों में से आठ की शनिवार को एक साथ अर्थियां उठी। सभी भीलवाड़ा जिले के शाहपुरा कस्बे के थे। गमगीन माहौल के चलते शनिवार को शाहपुरा के बाजार एवं निजी शिक्षण संस्थाएं बंद रहे।

उनकी अंतिम यात्रा में लोगों का हुजूम उमड़ गया। भीलवाड़ा के सांसद सुभाष बहेडिया भी शाहपुरा पहुंचे और परिजनों को सांत्वना दी। हादसे में मृत एक अन्य युवक का अंतिम संस्कार नीमच में किया गया।

शाहपुरा के दिलखुशाल बाग में रहने वाले मुकेश अग्रवाल, उनकी पत्नी ममता, पुत्र यश और दर्शिल के साथ ही कोठार मोहल्ला निवासी शिक्षक पंकज जैन उनकी पत्नी संगीता जैन, पुत्री अनन्दा, अनन्या की मौत शुक्रवार को राजसमंद जिले के देसूरी की नाल में हो गई थी।

इसे भी पढ़ें: एसिड का टैंकर वैन पर पलटा, नौ लोगों की मौत, सभी मृतक एक ही परिवार के

ये सभी एक वैन के जरिए नाकोड़ा स्थित पाश्र्वनाथ जैन मन्दिर के लिए शुक्रवार सुबह रवाना हुए थे। इस कार को नीमच जिले के बांसी बोहडा ग्राम निवासी जयंत अग्रवाल चला रहा था। इन लोगों ने राजसमन्द जिले में स्थित गढ़बोर चारभुजाजी के दर्शन किए और देसूरी नाल से जाते समय पंजाबी मोड पर उनकी कार एसिड से भरे टैंकर के पलटने से उसके नीचे आ गई। रोंगटे खड़े कर देने वाले इस हादसे में सभी 9 लोगों मौत हो गई थी।

शाहपुरा में शनिवार को हादसे में मृत सभी आठ जनों की अंतिम यात्रा एक साथ निकाली गई। इसमें सांसद सुभाष बहेडिय़ा, अतिरिक्त पुलिस आीक्षक अनुकृति उज्जैनिया, उपखंड अधिकारी महावीर प्रसाद नायक, पुलिस उपाधीक्षक भंवरसिंह, तहसीलदार अशोक कुमार सोनी, थानाधिकारी भजनलाल सहित शाहपुरा के राजनीतिक एवं सामाजिक संगठनों के पदाधिकारी शामिल थे। हादसे के बाद शनिवार को कस्बे के गली-मोहल्लों में होने वाले जन्माष्टमी के कार्यक्रम रद्द कर दिए गए। 

Posted By: Dhyanendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप