नईदुनिया, बीना। मम्मी-पापा छह साल से अलग-अलग रह रहे हैं। मां के साथ नानी के घर रहने पर मामा मारपीट कर घर से निकाल देते हैं। पिता के साथ रहने पर वह भी मारपीट करते हैं। मुझे तो अमृतसर भेज दो, जहां हमारी समाज का संस्थान चलता है। वहां मैं दूसरे बेसहारा बच्चों के साथ रहूंगी। यह व्यथा गुरुवार को मध्य प्रदेश के सागर जिले के बीना में मंडी थाना मीराबाई चौक रूपनगर (पंजाब) निवासी 15 साल की लड़की ने जीआरपी थाना प्रभारी को रोते हुए सुनाई।

दरअसल, गुरुवार सुबह करीब 10 बजे एक लड़की प्लेटफॉर्म पर रो रही थी। लड़की के साथ उसकी मां और 10 साल की छोटी बहन भी थी। पूछताछ में लड़की ने बताया कि उसके पिता और मां छह साल से अलग-अलग रह रहे हैं। पिता रूपनगर (पंजाब) और मां नानी के पास झारसी थाना उड़ीसा कत्तैक में रहती हैं। लड़की ने कहा कि वह न तो मां के साथ जाना चाहती है और न पिता के पास जाने की इच्छा है।

मथुरा से लौट रही थी महिला

लड़की की मां ने जीआरपी को बताया कि वह अपने पति से परेशान है। वह शराब पीकर मारपीट करता है और बेटियों के साथ बुरा बर्ताव करता है। इसी बात पर दोनों अलग रह रहे हैं। महिला ने बताया कि वह बड़ी और छोटी बेटी के साथ मथुरा में माथा टेकने गई थी।लौटते समय उनकी बेटी मां, मामा सहित नानी पर मारपीट करने का आरोप लगा रही है। उन्होंने बताया कि वह चाहती है कि बेटी उसके साथ रहे। मां के बार-बार कहने पर भी बेटी उनके साथ जाने तैयार नहीं हुई। जीआरपी ने स्थानीय सिख समाज के लोगों को बुलाकर समस्या का हल निकालने का प्रयास किया, लेकिन गुरुवार शाम तक कोई भी हल नहीं निकाला जा सका।

 

By Arun Kumar Singh