जागरण न्यूज नेटवर्क, नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर में बांदीपोरा के गुरेज सेक्टर में मंगलवार को आतंकियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हुए मुंबई के मेजर कौस्तुभ प्रकाश कुमार राणे, ऋषिकेश के हमीर पोखरियाल और कोटद्वार (पौड़ी गढ़वाल) के मंदीप सिंह को उनके शहरों में अंतिम विदाई देने के लिए गुरुवार को अपार जनसैलाब उमड़ पड़ा। 'भारत माता की जय' और 'आतंकवाद मुर्दाबाद' के नारों के बीच लोगों में पाकिस्तान के प्रति जबरदस्त आक्रोश देखने को मिला।

शहीद मेजर कौस्तुभ प्रकाश कुमार राणे का गुरुवार को मुंबई में अंतिम संस्कार कर दिया गया। उनकी अंतिम यात्रा में मुंबई की सड़कों पर बेहद भावुक नजारा दिखा। जिस मार्ग से भी शहीद की अंतिम यात्रा निकली वहां लोगों ने फूल बिछाकर उन्हें अपनी आखिरी सलामी दी। मुंबईवासियों ने कहा, अपने शहीदों का सम्मान करना हमारा फर्ज है वे सीमा पर हैं इसलिए हम आराम से सोते हैं। इसीलिए उनका इतना तो हक है।

शहीद हमीद पोखरियाल को ऋषिकेश के पूर्णानंद घाट पर पूर्ण सैन्य सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई। इससे पहले उनकी अंतिम यात्रा में भारी भीड़ उमड़ी। ब्रिगेडियर वीएम चौधरी, कर्नल सामंता, 11वीं गढ़वाल राइफल के मेजर राहुल मिश्रा और कैप्टन सिद्धार्थ सिन्हा समेत सैन्य अफसरों ने उनके पार्थिव शरीर पर पुष्पचक्र अर्पित किया।

कोटद्वार में राजकीय बेस चिकित्सालय में शहीद मंदीप सिंह की पार्थिव देह को सेना के वाहन में उनके आवास पर लाया गया। यहां सैकड़ों की संख्या में लोग शहीद के अंतिम दर्शनों के लिए एकत्र थे। करीब नौ बजे जब अंतिम यात्रा शुरू हुई तो सड़क पर जाम की नौबत आ गई।

लोग भारत माता के इस सपूत के दर्शनों के लिए सड़क के दोनों ओर प्रतीक्षा कर रहे थे। कोटद्वार के मुक्तिधाम श्मशान घाट पर गढ़वाल राइफल्स रेजीमेंटल सेंटर कमांडेंट कर्नल शलभ सनवाल और कर्नल बीएस गुसाईं समेत सैन्य अफसरों ने पुष्प चक्र अर्पित किए। वहीं हरियाणा के अंबाला में शहीद विक्रमजीत सिंह का भी राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार कर दिया गया।

 

Posted By: Arun Kumar Singh