जागरण संवाददाता, नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल में माकपा व तृणमूल कांग्रेस नेताओं के बीच राजनीतिक झगड़े में तृणमूल कांग्रेस नेता के बेटे द्वारा माकपा नेता की 14 साल की भतीजी को दिल्ली में लाकर सेक्स रैकेट से जुड़े लोगों के हाथों बेच देने का मामला प्रकाश में आया है।

दो महीने के दौरान किशोरी रेड लाइट इलाके जीबी रोड के कोठे समेत देह व्यापार से जुड़े आधा दर्जन से अधिक पुरुषों व महिलाओं के हाथों बिकती व खरीदी जाती रही। विरोध जताने पर उसे बुरी तरह मारने के साथ सिगरेट से दाग दिया जाता था।

पढ़ें: वेश्यावृत्ति के धंधे से छुड़वाई गई एक लड़की का संघर्ष चाकुओं की नोंक से भी गोदा जाता था। पूरे मामले में लापरवाही बरतने वाले सात पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया। तीन आरोपियों की गिरफ्तारी भी की गई।

दलाल किशोरी को देह व्यापार के लिए दिल्ली के विभिन्न इलाकों समेत उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद व अन्य शहरों में भी भेजते रहे। किशोरी के पास आए एक ग्राहक से जब उसने आपबीती बताई, तब उसने मोबाइल फोन से उसके पिता को सूचना दे दी।

मामले का पता चलते ही पुलिस की कई टीमों ने गुरुवार देर रात घंटों छापेमारी कर शास्त्री पार्क इलाके में सूनसान जगह से किशोरी को बरामद कर लिया। उससे देह व्यापार व खरीद फरोख्त करने के आरोप में पुलिस ने सुमन, प्रेमवती व उसके पति को गिरफ्तार किया है। डीसीपी आलोक कुमार के मुताबिक कई अन्य महिलाओं व पुरुषों की तलाश जारी है।

पीड़िता ठोला हठ थाना, 24 दक्षिण परगना, पश्चिम बंगाल की रहने वाली है। उसके चाचा हाल ही में माकपा की तरफ से ग्राम पंचायत का चुनाव जीते हैं। चुनाव को लेकर ही 24 दक्षिण परगना में उनकी एक तृणमूल कांग्रेस नेता से रंजिश चल रही है। दोनों के बीच अक्सर झगड़े होते रहते हैं।

दुश्मनी के चलते ही दो महीने पूर्व किशोरी जब खाना लाने होटल जा रही थी, तब तृणमूल कांग्रेस नेता के बेटे ने साथियों के साथ मिलकर उसको कार से अगवा कर लिया था। उसे नशीला पदार्थ खिलाकर दिल्ली ले आया गया। यहां उन लोगों ने पहले राजू और फिर नौशाद के हाथों किशोरी को बेच दिया। इन लोगों ने उससे दुष्कर्म किया और फिर आगे बेच दिया।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर