भोपाल, राज्य ब्यूरो। मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल की 10वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा में शनिवार को सामाजिक विज्ञान के प्रश्न-पत्र में 'आजाद कश्मीर' शब्द का इस्तेमाल करते हुए दो प्रश्न पूछे गए। इसे लेकर बवाल हो गया। विपक्षी भाजपा ने कड़ी आपत्ति जताते हुए विरोध जताया।

प्रश्न-पत्र सेट करने वाला शिक्षक व मुख्य परीक्षक निलंबित

बवाल मचने पर मुख्यमंत्री के निर्देश पर माध्यमिक शिक्षा मंडल (माशिमं) ने प्रश्न-पत्र सेट करने वाले शिक्षक व मुख्य परीक्षक को निलंबित कर दिया। माशिमं ने प्रश्नपत्र को 100 की बजाए 90 अंकों का कर दिया है। कॉपियों का मूल्यांकन 90 पूर्णाक में से किया जाएगा। इस बीच राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) ने मंडल को पत्र लिखकर सात दिन में जवाब मांगा है।

भारत के मानचित्र में आजाद कश्मीर दर्शाने के लिए कहा गया था

दरअसल, सामाजिक विज्ञान के पेपर में सही जोड़ी मिलाने वाले एक प्रश्न में आजाद कश्मीर का विकल्प रखा गया था। वहीं, दूसरे प्रश्न क्रमांक-26 में भारत के मानचित्र में आजाद कश्मीर दर्शाने के लिए कहा गया था। इसे लेकर बवाल होने पर राज्य शासन ने तत्काल कार्रवाई करते हुए प्रश्न-पत्र सेट करने वाले रायसेन जिले के शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक नितिन सिंह जाट और प्रश्न-पत्र तैयार करने वाली कमेटी के मुख्य परीक्षक नरसिंहपुर जिले के शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय तेंदूखेड़ा के व्याख्याता रजनीश जैन को निलंबित कर दिया है।

आयोग ने आजाद कश्मीर शब्द के उपयोग पर कड़ा एतराज जताया

एनसीपीसीआर के सचिव प्रियंक कानूनगो ने मप्र माशिमं को पत्र लिखकर आजाद कश्मीर शब्द के उपयोग पर कड़ा एतराज जताया है। माशिमं से पूछा गया है कि आखिर कैसे इस शब्द का किया गया? क्या यह पाठ्यपुस्तक या पाठ्यक्रम का हिस्सा है? यदि यह स्कूली पाठ्यक्रम में है तो उसकी प्रति जवाब के साथ भेजी जाए।

एनसीपीसीआर के सचिव ने कहा- यह आपराधिक कृत्य है

कानूनगो ने कहा कि आजाद कश्मीर को नक्शे में बनाने का सवाल विद्यार्थियों के मन में भ्रम फैलाने, नकारात्मकता भरने का प्रयास व आपराधिक कृत्य है। पत्र का सात दिन में जवाब देने के साथ संबंधितों पर क्या कार्रवाई की गई, इसकी जानकारी दी जाए।

सामाजिक विज्ञान के प्रश्न-पत्र में आजाद कश्मीर के संबंध में पूछे गए दो सवालों को लेकर पेपर सेट करने वाले शिक्षक और कमेटी के प्रमुख दोनों को निलंबित कर दिया गया है-डॉ. प्रभुराम चौधरी, स्कूल शिक्षा मंत्री।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021