चेन्नई, आइएएनएस। तमिलनाडु वक्फ बोर्ड ने तिरुचि जिले के तिरुचेंथुरई गांव में 1,500 साल पुराने मानेदियावल्ली चंद्रशेखर स्वामी मंदिर की जमीन पर मालिकाना हक जताया है। गांव में और उसके आसपास मंदिर की 369 एकड़ संपत्ति है। वक्फ बोर्ड के इस दावे की जानकारी उस वक्त सामने आई जब एक स्थानीय किसान ने अपनी खेती की जमीन बेचने की कोशिश की। राजगोपाल नामक किसान ने जब गांव के ही एक दूसरे किसान को अपनी 1.2 एकड़ खेती की जमीन बेचनी चाही तो रजिस्ट्रार दफ्तर द्वारा उसे बताया गया कि यह जमीन उसकी नहीं बल्कि तमिलनाडु वक्फ बोर्ड की है।

वक्फ बोर्ड ने तिरुचेंथुरई गांव की पूरी जमीन पर भी मालिकाना हक जताया

राजगोपाल ने मीडिया से कहा कि रजिस्ट्रार ने उसे बताया कि जमीन उसकी नहीं है, तमिलनाडु वक्फ बोर्ड की है और उसे चेन्नई स्थित वक्फ बोर्ड के कार्यालय से एनओसी लेनी होगी। राजगोपाल ने रजिस्ट्रार से कहा कि उसने 1992 में यह जमीन खरीदी थी और उसे वक्फ बोर्ड से एनओसी लेने की क्यों जरूरत है। राजगोपाल के अनुसार रजिस्ट्रार ने उनसे कहा कि तमिलनाडु वक्फ बोर्ड ने दस्तावेज विभाग को 250 पेज का एक पत्र भेजा है और कहा है कि तिरुचेंथुरई गांव में किसी भी जमीन की खरीद-बिक्री उसकी एनओसी के साथ किया जाएगा। गांव के लोगों को जब यह बात पता चली तो वे स्तब्ध रह गए, क्योंकि गांव में हर पुरुष या महिला के नाम पर जमीन है।

भाजपा नेता ने कहा, हिंदू बहुल गांव की जमीन वक्फ की कैसे

भाजपा के तिरुचि जिला सचिव अलूर प्रकाश ने कहा कि पूरा गांव और आसपास का क्षेत्र हिंदू बहुल है। वक्फ बोर्ड संपत्ति का मालिक कैसे हो सकता है। उन्होंने कहा कि चंद्रशेखर स्वामी मंदिर 1,500 साल पुराना है और उसके पास गांव में 369 एकड़ जमीन है, क्या यह जमीन भी बोर्ड की है। जिला प्रशासन ने इस मामले की जांच कराकर कार्रवाई का भरोसा दिया है और तब तक पहले की तरह गांव में जमीन की खरीद-बिक्री होती रहेगी।

कर्नाटक में वक्फ की 2.35 लाख करोड़ की जमीन की लूट

बेंगलुरु, आइएएनएस। कर्नाटक राज्य अल्पसंख्यक आयोग की एक रिपोर्ट से पता चला है कि राज्य में प्रमुख मुस्लिम नेताओं ने वक्फ बोर्ड की 2.35 लाख करोड़ रुपये की जमीन की बंदरबांट की है। आयोग ने यह रिपोर्ट 2012 में जमा की थी, लेकिन उसके बाद की सरकारों ने इस पर कोई ध्यान नहीं दिया। अब भाजपा की कर्नाटक इकाई के संयुक्त प्रवक्ता और राज्य अल्पसंख्यक आयोग के पूर्व चेयरमैन अनवर मनिप्पडी ने मुख्यमंत्री बासवराज बोम्मई से रिपोर्ट के आधार पर उचित कार्रवाई करने का अनुरोध किया है।

इसे भी पढ़ें: Watch Exclusive Interview: पहले जम्मू-कश्मीर में शांति खरीदी जाती थी, हमने स्थापित की: मनोज सिन्हा  

इसे भी पढ़ें: नामीबिया ने यूं ही नहीं दिखाई भारत को चीते देने में रुचि, देखा पिछले सालों में ट्रैक रिकार्ड

Edited By: Arun kumar Singh