नई दिल्ली, प्रेट्र। सुप्रीम कोर्ट ने पूर्व न्यायाधीश जस्टिस कुरियन जोसफ के दावे की जांच करने की मांग को लेकर दायर जनहित याचिका पर तुरंत सुनवाई से इन्कार किया। शीर्ष कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश ने कहा था कि पूर्व मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा के कार्यकाल के दौरान कोर्ट के कामकाज पर बाहरी दबाव था।

मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने वकील द्वारा अपनी याचिका पर दी गई दलील स्वीकार नहीं की। वकील ने तुरंत सुनवाई की मांग करते हुए कहा कि खबरें संस्थान की विश्वसनीयता से जुड़ी हैं। सुनवाई कर रही पीठ में जस्टिस एसके कौल और जस्टिस केएम जोसफ भी शामिल हैं।

पीठ ने कहा कि संस्थान की विश्वसनीयता अखबार की खबरों से तय नहीं होती हैं। कोर्ट ने वकील से अपनी पवित्रता बनाए रखना सुनिश्चित करने और शीर्ष कोर्ट को खुद का ध्यान रखने के लिए छोड़ देने को कहा। कोर्ट ने कहा कि याचिका पर नियमित आधार पर सुनवाई होगी।

 

Posted By: Arun Kumar Singh