नई दिल्ली, प्रेट्र: सुप्रीम कोर्ट कोलेजियम ने हाई कोर्ट के 37 अतिरिक्त न्यायाधीशों के नाम सार्वजनिक किए हैं। इन अतिरिक्त न्यायाधीशों को स्थायी न्यायाधीश के रूप में नियुक्त करने के लिए कोलेजियम ने सिफारिश की है। इनमें इलाहाबाद, राजस्थान, केरल, गुजरात और बांबे हाई कोर्ट के अतिरिक्त न्यायाधीश शामिल हैं।

कोलेजियम ने प्रस्ताव में कहा है कि उसे बांबे, गुजरात और राजस्थान की कुछ सिफारिशों के खिलाफ शिकायतें मिली हैं। लेकिन इन शिकायतों में कोई योग्यता नजर नहीं आती है।

कोलेजियम ने एक दिन पहले गुरुवार को सिफारिश की थी। सिफारिश को शीर्ष अदालत की वेबसाइट पर पोस्ट किया गया है। कोलेजियम में मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा, जस्टिस जे. चेलमेश्वर और जस्टिस रंजन गोगोई शामिल हैं।

कोलेजियम ने इलाहाबाद हाई कोर्ट के जस्टिस राजुल भार्गव, सिद्धार्थ वर्मा, संगीता चंद्रा, दया शंकर त्रिपाठी, शैलेंद्र कुमार अग्रवाल, संजय हरकौली, कृष्ण प्रताप सिंह, रेखा दीक्षित और सत्यनारायण अग्निहोत्री को स्थायी न्यायाधीश बनाने की सिफारिश की है।

गुजरात से डॉ. केजे ठाकर, आरपी ढोलारिया, आशुतोष जे. शास्त्री, बीरेन ए. वैष्णव, अल्पेश वाई. कोगजे, अरविंदसिंह आइ. सुपेहिआ और बीएन करिया के नाम की सिफारिश की गई है। ठाकर अभी स्थानांतरण पर इलाहाबाद हाई कोर्ट में कार्यरत हैं। कोलेजियम ने कहा है कि वह वहीं कार्य करते रहेंगे।

राजस्थान हाई कोर्ट से जस्टिस गंगाराम मूलचंदानी, दीपक माहेश्वरी, विजय कुमार व्यास, गोवर्धन बारधार, पंजक भंडारी, दिनेश चंद्र सोमनी, संजीव प्रकाश शर्मा, डॉ. पुष्पेंद्र सिंह भाटी, दिनेश मेहता और विनीत कुमार माथुर के नाम शामिल हैं।

केरल से जस्टिस सतीश निनान, देवन रामचंद्रन, पी. सोमराजन, वी. शिर्के और एएम बाबू और बांबे हाई कोर्ट से जस्टिस प्रकाश डी. नाइक, मकरंद सुभाष कार्णिक, स्वप्न संजीव जोशी, किशोर कैलाश सोनवाने, संगीताराव शामराव पाटिल और नूतन दत्ताराम सरदेसाई को स्थायी न्यायाधीश बनाने की सिफारिश की गई है।

By Sachin Bajpai