मुंबई, रायटर : अमेरिकी टेलीविजन स्टूडियो एबीसी ने अपने क्राइम ड्रामा टीवी सीरियल 'क्वांटिको' के लिए भारतीय प्रशंसकों से माफी मांगी है। इस चर्चित सीरियल के एक एपिसोड में पाकिस्तान को बदनाम करने के लिए एक भारतीय राष्ट्रवादी को उसके खिलाफ आतंकी प्लॉट की साजिश रचते हुए दिखाया गया है। इस एपिसोड के प्रसारण के बाद से ही इसका मुख्य किरदार निभाने वाली बॉलीवुड अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा के खिलाफ लोगों का गुस्सा भड़क गया है।

लिहाजा, वॉल्ट डिजनी की एबीसी ने शुक्रवार को अपना बयान जारी कर कहा कि इस एपिसोड के कारण लोगों की बहुत सी भावनाएं सामने आई हैं। इसमें ज्यादातर में प्रियंका चोपड़ा को निशाना बनाया गया। जबकि उन्होंने यह शो नहीं बनाया है और ना ही प्रियंका ने इस शो की स्कि्रप्ट को लिखा या निर्देशित किया है। एबीसी ने कहा है कि शो में कई पुरातन पृष्ठभूमियों का सहारा लिया गया है। लेकिन इस मामले में हम अनजाने में एक जटिल राजनीतिक मुद्दे में उलझ गए। हमारा इरादा किसी का अपमान करना कतई नहीं था।

35 वर्षीय प्रियंका चोपड़ा के सीरियल क्वांटिको के हालिया एपिसोड के प्रसारित होने के बाद से उनसे भारतीय जनता बेहद नाराज है। खासकर उनके खिलाफ ऑनलाइन कुछ लोगों ने प्रियंका के काम का बहिष्कार करने का आह्वान भी किया है। दक्षिण कोरियाई कंपनी सैमसंग समेत उन सभी कंपनियों के उत्पादों का भी बहिष्कार करने को कहा जा रहा है, जिसका प्रियंका ने प्रचार किया है। यहां तक कि इस विवादास्पद एपिसोड के उस अंश को भी ब्लैकआउट करने की सरकार से मांग की जा रही है, जिसमें एफबीआइ एजेंट बनी प्रियंका को रुद्राक्ष की पवित्र माला को बतौर सुबूत क्राइम साइन से उठाते दिखाया जाता है।

अमेरिका में बसे एक हिंदू विद्वान डेविड फ्रावले ने ट्वीट किया, 'एक फर्जी कहानी के जरिए हिंदू आतंकवाद की कल्पना को गढ़ा गया है। यह फर्जी कहानी अमेरिकी टेलीविजन पर प्रियंका चोपड़ा की मदद से दिखाई गई है। क्या कोई पाकिस्तानी अभिनेत्री कभी पाकिस्तान या इस्लाम के खिलाफ ऐसा धोखा करेगी।'

Posted By: Jagran News Network

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप