नई दिल्ली (जेएनएन)। उत्तर भारत में चार दिन पहले लगभग सवा सौ लोगों की जान लेने वाला आंधी-तूफान सोमवार रात फिर लौट आया। 70 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से राजस्थान और हरियाणा की तरफ से आया तूफान आधी रात को दिल्ली पहुंचा गया। दिल्ली में तेज हवा के चलते बिजली का तार गिरने से तीन एंबुलेंस जलकर राख हो गई और दो लोग जिंदा जल गए। हादसा शेखसराय में सिंघानिया हॉस्पिटल के सामने हुआ। हालांकि एंबुलेंस में आग कैसे लगी, इस बारे में स्पष्ट रूप से नहीं पता नहीं चला है। राजधानी में तेज हवाएं रुक-रुक कर चलीं। दिल्ली में बारिश तो नहीं हुई, लेकिन मंगलवार को इसकी संभावना है। प्रशासन की तरफ से पूरे उत्तर भारत में हाई अलर्ट जारी किया जा चुका है।

मौसम विभाग ने चेतावनी दी है कि देश के उत्तरी राज्यों जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और पंजाब व दिल्ली में शुक्रवार तक आंधी-तूफान का खतरा है। इसलिए देशभर में सतर्कता बरती जा रही है। उत्तर प्रदेश के कई जिलों में स्कूल बंद कर दिए गए हैं। दिल्ली में भी संभावित आंधी से होने वाली दुर्घटना को देखते हुए आठ मई को दोपहर बाद के सभी स्कूल बंद रहेंगे। हरियाणा में पहले से ही मंगलवार तक स्कूल बंद किए जा चुके हैं। हालांकि पंजाब सरकार ने स्कूल बंद करने की आधिकारिक घोषणा तो नहीं की है, लेकिन पटियाला के राजपुरा में स्कूलों ने मंगलवार तक स्कूल बंद रखने की घोषणा की है।

सोमवार को दोपहर में सबसे पहले राजस्थान के गंगानगर में मौसम ने पलटा खाया और अंधड़ के बाद बारिश शुरू हो गई। वहीं शाम 5.30 बजे सीमावर्ती इलाके खाजूवाला से रेत का बवंडर उठा और लूणकरणसर और महाजन होते हुए बीकानेर शहर तक पहुंच गया। वहां अंधड़ के साथ बारिश में कई गांवों में बिजली के खंभे गिर गए। पंजाब एवं हरियाणा और चंडीगढ़ में शाम को धूल भरी आंधी चलने लगी थी। आधी रात तक तो दिल्ली और एनसीआर में भी मौसम का मिजाज बदल गया। यहां तेज आंधी के साथ बारिश भी होने लगी। इसके अलावा उत्तरी और पूर्वी भारत के बड़े हिस्सों के साथ दक्षिणी भारत के दूरदराज इलाकों में मंगलवार को आंधी-तूफान, भारी बारिश और ओले पड़ने का अनुमान है। मौसम विभाग ने कहा है कि उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, ओडिशा, असम, मेघालय, नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, कर्नाटक और केरल आंधी-तूफान से प्रभावित हो सकते हैं।

तेज आई आंधी तो नहीं होगा मेट्रो का परिचालन 

दिल्ली मेट्रो रेल निगम (डीएमआरसी) ने कहा है कि यदि मंगलवार को तेज आंधी आई तो मेट्रो का परिचालन रोक दिया जाएगा। आंधी थमने के बाद ही परिचालन दोबारा शुरू किया जाएगा। डीएमआरसी का कहना है कि 70-90 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने पर मेट्रो अपने सामान्य गति से चलेगी। इस दौरान एलिवेटेड लाइनों के प्लेटफार्म पर प्रवेश करते समय में मेट्रो की गति कम होगी और ट्रेनें 40 किलोमीटर प्रति घंटे या उससे कम रफ्तार में प्लेटफार्म पर प्रवेश करेंगी। यदि हवा की रफ्तार 90 किलोमीटर प्रति घंटा से अधिक रही तो ट्रेनों को प्लेटफार्म पर रोक दिया जाएगा। आंधी थमने व हवा की गति लगातार पांच मिनट तक 85 किलोमीटर प्रति घंटे से कम होने पर ही मेट्रो का परिचालन सामान्य रूप से फिर शुरू किया जाएगा।

इवनिंग शिफ्ट के स्कूल रहेंगे बंद

इससे पहले सोमवार को दिल्ली सरकार ने मंगलवार शाम की पाली में स्कूलों को बंद रखने का फैसला किया और खोजी एवं बचाव दलों को तैयार रहने को कहा गया है। यह सारी तैयारी मौसम विभाग द्वारा भारी बारिश और आंधी तूफान की चेतावनी जारी करने के बीच की गई है। यातायात पुलिस ने अपने कर्मियों से टूटे पेड़ जैसी बाधाओं को हटाने के लिए तैयार रहने को कहा। 

By Arti Yadav