नई दिल्‍ली, आइएएनएस। सरकार ने सीरम इंस्टीट्यूट आफ इंडिया (Serum Institute of India, SII) को COVAX कार्यक्रम के तहत कोविड-19 रोधी वैक्‍सीन के निर्यात को मंजूरी प्रदान की है। सूत्रों ने सोमवार को बताया कि सरकार ने SII को संयुक्त राष्ट्र वैश्विक निकाय COVAX को कोविड रोधी वैक्सीन कोविशील्‍ड की 50 लाख डोज निर्यात करने की अनुमति दी है। मालूम हो कि गावी कोवैक्स सुविधा कोविड रोधी टीकों तक समान वैश्विक पहुंच सुनिश्चित करने के लिए बनाई गई है।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि टीकों की पहली खेप नेपाल, ताजिकिस्तान और मोजाम्बिक को निर्यात की जाएगी। सीरम इंस्‍टीट्यूट COVAX कार्यक्रम के तहत बांग्लादेश को भी कोविशील्‍ड वैक्‍सीन का निर्यात करेगा। समाचार एजेंसी आइएएनएस की रिपोर्ट के मुताबिक सीरम इंस्टीट्यूट 23 नवंबर से वैक्सीन का निर्यात शुरू कर सकता है। सनद रहे कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने घोषणा की थी कि भारत अक्टूबर से वैक्सीन मैत्री के तहत टीकों का निर्यात शुरू करेगा।

केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने कहा था कि 'वसुधैव कुटुम्बकम' के आदर्श वाक्य के अनुरूप COVAX के प्रति प्रतिबद्धता को पूरा करने के लिए भारत वैक्सीन निर्यात फिर से शुरू करेगा। मालूम हो कि सरकार ने इस साल अप्रैल में महामारी की दूसरी लहर के दौरान कोविड-19 टीकों के निर्यात को रोक दिया था। भारत सरकार ने निर्यात पर प्रतिबंध से पहले लगभग 100 देशों को कोविड रोधी वैक्‍सीन की 66 मिलियन खुराकें बेची या दान की थीं।

उल्‍लेखनीय है कि सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने कोविड-19 रोधी वैक्‍सीन के बढ़ते स्‍टाक के कारण अन्य टीकों के उत्पादन और रखरखाव में आने वाली कठिनाइयों का हवाला देते हुए सरकार से कोविशील्ड की आपूर्ति को तेज करने का आग्रह किया है। आधिकारिक सूत्रों की मानें तो एसआईआई में सरकार एवं नियामक मामलों के निदेशक प्रकाश कुमार सिंह ने हाल में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को पत्र लिखकर अवगत कराया था कि कंपनी के पास कोविशील्ड टीके की 24,89,15,000 खुराकों का स्‍टाक है जो हर दिन बढ़ रहा है।

Edited By: Krishna Bihari Singh