मुरैना, राज्य ब्यूरो। कोरोना से निपटने के लिए मध्य प्रदेश के मुरैना जिले में भी लॉकडाउन है। लोगों को शारीरिक दूरी बनाने को कहा गया है। ऐसी स्थिति में जब कोई अपना साथ छोड़ जाए तो सांत्वना देने वालों की जरूरत होती है, लेकिन मुरैना में एक पिता ने अपने इकलौते बेटे के निधन पर अपने दुख से ज्यादा समाज की कोरोना से सुरक्षा को महत्व दिया है।

पिता का मैसेजलॉकडाउन के चलते लोग अपने घरों पर ही रहें, वाट्सएप पर ही दें सांत्वना

मिल एरिया रोड निवासी प्रदीप अवस्थी ने अपने परिचितों को वाट्सएप मैसेज कर अपील की है कि वे अपने घरों पर ही रहें और वाट्सएप के जरिए ही उनके दुख में साथ दें।

लॉकडाउन के नियमों का पालन करते हुए दुखी पिता ने किया इकलौते बेटे का अंतिम संस्कार

प्रदीप अवस्थी भाजपा नेता और शासकीय ठेकेदार हैं। आठ अप्रैल को उनके 27 वर्षीय बेटे यशवंत को पेट दर्द हुआ और बाद में उसकी मौत हो गई। इकलौते बेटे को खोने के गम के बीच अवस्थी परिवार ने कोरोना संबंधी गाइड लाइन का पालन करते हुए यशवंत का अंतिम संस्कार किया।

दुखी पिता ने कहा- कोरोना वायरस के खिलाफ चल रही लड़ाई को कमजोर न करें

परिवार को धीरज बंधाने के लिए आसपास के लोगों ने पुलिस से छिपते-छिपाते उनके यहां आना शुरू किया। इस पर अवस्थी ने जिम्मेदार नागरिक होने का फर्ज निभाया और सभी से अपील की कि वे ऐसा कर कोरोना के खिलाफ चल रही लड़ाई को कमजोर न करें।

दुखी पिता की अपील- कोविड-19 के प्रकोप को लेकर शोक संवेदना वाट्सएप पर ही व्यक्त करें

शहर के सोशल मीडिया ग्रुपों पर शुक्रवार सुबह सवा 8 बजे प्रदीप अवस्थी ने संदेश लिखा कि कोविड-19 के प्रकोप को देखते हुए आप सभी शोक संवेदना मेरे घर न आकर वाट्सएप पर ही व्यक्त करने का कष्ट करें। दुख की इस घड़ी में पिता की इस अपील पर लोग भावुक हो गए।

Posted By: Bhupendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस