नई दिल्ली, जेएनएन। योग गुरु बाबा रामदेव एक बार फिर अपने बयानों को लेकर विवादों में घिर गए है। रविवार को बाबा रामदेव ने हरिद्वार में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए बढ़ती जनसंख्या पर चिंता जाहिर करते हुए तीसरे बच्चों को वोट का अधिकार और सरकारी सुविधाएं ना देने की बात कही। रामदेव के इस बयान के बाद सोशल मीडिया पर लोग तरह-तरह की प्रतिक्रियांए  दे रहे है। कई लोग जहां उनका विरोध कर रहे है वहीं कई लोग उनके इस बयान से सहमत भी है। 

बाबा रामदेव के इस बयान पर सोशल मी़डिया पर तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं आ रही है। एक यूजर ने लिखा कि बाबा रामदेव को यह अधिकार किसने दिया की कोई किस तरह से अपनी जिंदगी बिताए। 

बाकी कई यूजर्स ने बाबा रामदेव के इस बयान का समर्थन करते हुए लिखा हा, तीसरे बच्चे को वोट का अधिकार नहीं मिलना चाहिए। तभी जनसंख्या को नियंत्रण में रखा जा सकता है। बाकी कई यूजर्स ने उनके इस बयान को लेकर एक अन्य यूजर ने कहा कि मैं एक परिवार में तीसरे बच्चे को सीमित अधिकारों के बारे में बाबा रामदेव के आह्वान का समर्थन करता हूं।  

वहीं कई लोगों ने तीखी प्रतिक्रिया देते हुए बाबा रामदेव पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने लिखा की शायद बाबा रामदेव भूल गए है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी अपने माता पिता की तीसरी संतान है।  

जानकारी के लिए बता दें कि उन्होंने कहा था जनसंख्या को नियंत्रण में करने के लिए सरकार को कानून लाना चाहिए। रामदेव ने कहा कि सरकार के ऐसा कानून बनाना चाहिए की किसी भी परिवार में तीसरा बच्चा जन्म लेता है तो उस बच्चे को वोट देने का अधिकार नहीं दिया जाना चाहिए। साथ ही रामदेव ने यह भी कहा था कि सरकारी लाभ उस बच्चे को ना दिए जाए।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Ayushi Tyagi