चिकबलपुर, एजेंसियां। चिकबलपुर स्थित पत्थर की एक खदान में जिलेटिन की छड़ों को हटाते समय मंगलवार तड़के हुए विस्फोट में छह लोगों की मौत हो गई। कर्नाटक के गृह मंत्री बासवराज बोम्मई ने कहा कि घटना की सीआइडी से जांच कराने का आदेश दिया गया है। पुलिस का कहना है कि शुरुआती जांच से खदान में पेट्रोलियम जेल और अमोनियम नाइट्रेट का इस्तेमाल किए जाने का पता चला है। उन्होंने कहा कि खदान को कुछ दिन पहले छापेमारी के बाद बंद कर दिया गया था। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के गृह नगर शिवमोगा में 22 जनवरी को भी एक ऐसे ही हादसे में छह लोगों की मौत हो गई थी।

स्वास्थ्य मंत्री एवं चिकबलपुर से विधायक के सुधाकर ने घटनास्थल का दौरा किया और कहा कि शव बेहद बुरी हालत में थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घटना पर दुख जताया है। उन्होंने कहा, कर्नाटक के चिकबलपुर में हादसे के चलते लोगों के मारे जाने की खबर से दुखी हूं। मैं मृतकों के परिवार के प्रति संवेदनाएं व्यक्त करता हूं और घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं।

येदियुरप्पा ने भी हादसे पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि मामले में जांच के आदेश दिए गए हैं और अधिकारियों को दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के लिए कहा गया है। अवैध गतिविधि में जो कोई भी शामिल पाया जाएगा, उसके खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी।

स्थानीय लोगों द्वारा जिलेटिन की छड़ों के अधिक इस्तेमाल की शिकायत किए जाने के बाद पुलिस ने सात फरवरी को यहां उत्खनन रोक दिया था। लेकिन यहां अवैध रूप से काम जारी था। मंगलवार सुबह यह हादसा उस समय हुआ, जब ये लोग जिलेटिन की छड़ें हटाने की कोशिश कर रहे थे। घटना में घायल हुए एक वाहन के चालक ने पुलिस से कहा, उन्होंने (मारे गए लोगों ने) एक थैला पकड़ रखा था और उन्होंने मुझसे उन्हें वाहन से जंगल तक ले जाने को कहा था। वे एक सुनसान जगह पर गए और फिर अचानक विस्फोट हुआ।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप