नई दिल्ली, एएनआइ। रक्षा मामलों के राज्यमंत्री श्रीपद नाइक ने लोकसभा में बताया कि जम्मू-कश्मीर क्षेत्र में नियंत्रण रेखा (LoC) पर पिछले 3 महीनों (अगस्त से अक्टूबर 2019) के दौरान संघर्ष विराम उल्लंघन की 950 घटनाएं हुई हैं। इस दौरान भारतीय सेना द्वारा आवश्यकतानुसार कार्रवाई की गई है।

 

इसके साथ ही श्रीपद नाइक ने कहा कि रक्षा कर्मचारियों के प्रमुख आरटीआई अधिनियम 2005 के प्रावधानों के अनुसार 'सूचना का अधिकार अधिनियम' के दायरे में आएंगे।

पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान द्वारा अकसर नियंत्रण रेखा (LoC) से सटे हुए कश्मीर के गांवों में गोलाबारी होती रहती है। जिससे आए दिन घाटी के आम लोगों की जान जाती है। वहीं, पिछले तीन महीनों से कश्मीर में सीजफायर उल्लंघन कि घटनाएं बढ़ गई हैं।

बता दें कि पीओके में भारतीय सेना द्वारा की गई सर्जिकल स्ट्राइक के बाद से ही पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। वह लगातार कई बार सीजफायर का उल्लंघन कई इलाकों में कर चुका है। वहीं जम्मू कश्मीर में उसके भेजे आतंकियों द्वारा सेना के ऊपर हमले भी किए जा रहे हैं। पाकिस्तान की तरफ से की जा रही गोलाबारी का भारतीय सेना भी मुंहतोड़ जवाब दे रही है।

गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर में लोगों में डर का माहौल पैदा करने की साजिश में जुटे आतंकियों व अलगाववादियों के खिलाफ अभियान तेज करते हुए पुलिस ने विभिन्न सुरक्षा एजेंसियों के सहयोग से बीते एक माह में लश्कर व हिजबुल मुजाहिदीन के छह मॉड्यूल नेस्तनाबूद किए हैं। 

Posted By: Dhyanendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस